Home » समाचार » तकनीक व विज्ञान » जलवायु परिवर्तन » डरा रहा जलवायु परिवर्तन, मार्च में ही भारत में प्रचंड गर्मी
climate change

डरा रहा जलवायु परिवर्तन, मार्च में ही भारत में प्रचंड गर्मी

भारत प्रचंड गर्मी के दूसरे दौर के मुहाने पर, सच हो रहे हैं जलवायु परिवर्तन के डरावने सपने

India on the cusp of second round of scorching heat, scary dreams of climate change are coming true

नई दिल्ली, 30 मार्च 2022. गर्मी के मौसम में मध्‍य और उत्‍तर-पश्चिमी भारत में गर्मी का दौर शुरू होना कोई नयी बात नहीं है। बहरहाल, मार्च के मध्‍य में पारा 40 डिग्री सेल्सियस के पार हो जाना जरूर नयी बात लगती है। कुछ वक्‍त की राहत के बाद 27-28 मार्च से तापमान एक बार फिर बढ़ गया है।

मार्च के दूसरे हफ्ते में ही मध्‍य भारत, खासतौर से राजस्‍थान, गुजरात, महाराष्‍ट्र तथा मध्‍य प्रदेश और तेलंगाना से सटे क्षेत्रों में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से काफी ऊपर पहुंच गया। मुम्‍बई 13 से 17 मार्च तक लगातार पांच दिन भयंकर तपिश से गुजरी। मुम्‍बई शहर में तपिश एक बार फिर चरम पर पहुंच रही है क्‍योंकि 23 मार्च को वहां अधिकतम तापमान 38.2 डिग्री सेल्सियस हो गया। मार्च के महीने में मुम्‍बई में अब तक औसत तापमान 32.8 डिग्री सेल्सियस रहा है।

उत्‍तर-पश्चिम के मैदानों में भी पारा चढ़ रहा है, जिससे ग्रीष्‍मलहर के हालात के लिये जमीन तैयार हो रही है।

जम्‍मू-कश्‍मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्‍तराखण्‍ड जैसे पहाड़ी राज्‍यों में भी गर्मी महसूस की जा रही है, जहां पहले मार्च के महीने में भी बर्फ गिरा करती थी।

सरकार द्वारा संचालित भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के अनुसार मैदानी इलाकों, तटीय क्षेत्रों तथा पर्वतीय इलाकों में अधिकतम तापमान क्रमश: 40 डिग्री सेल्सियस, 37 डिग्री सेल्सियस और 30 डिग्री सेल्सियस पहुंचने पर उसे हीटवेव घोषित किया जाता है। ये तापमान सामान्‍य से 4-5 डिग्री सेल्सियस अधिक होते हैं। अगर यह सामान्‍य से 5-6 डिग्री सेल्सियस अधिक होते तो इसे प्रचंड हीटवेव कहा जाता है।

स्‍काइमेट वेदर में मौसम विज्ञान एवं जलवायु परिवर्तन के एवीपी महेश पलावत ने कहा

राजस्‍थान और उससे सटे पाकिस्‍तान पर कोई मौसमी विक्षोभ नहीं होने और किसी एंटीसाइक्‍लोन की उपस्थिति की वजह से गर्म हवाएं उत्‍तर और मध्‍य भारत की तरफ बढ़ रही है। मार्च का महीना एक गर्म माह के तौर पर खत्‍म होने जा रहा है और अप्रैल की शुरुआत तक राहत की कोई उम्‍मीद भी नहीं है। मंद हवा और सूखा मौसम उत्‍तर-पश्चिमी भारत में तापमान को एक बार फिर बढ़ाएंगे जिसकी वजह से हीटवेव के हालात पैदा होंगे। धीरेधीरे उत्‍तर मध्‍य महाराष्‍ट्र तथा विदर्भ में भी हीटवेव अपना असर दिखाने लगेगी। मानसूनपूर्व बारिश की गतिविधियां अप्रैल के मध्‍य से ही शुरू होंगी जिससे लोगों को जबर्दस्‍त तपिश से कुछ राहत मिल सकती है।

वर्ष 2020, 2021 और 2022 में मार्च के दूसरे पखवाड़े के दौरान दर्ज किए गए अधिकतम तापमान बताते हैं कि उनमें पिछले तीन वर्षों में वृद्धि देखी गई है।

स्‍काइमेट वेदर में मौसम विज्ञान एवं जलवायु परिवर्तन के एवीपी महेश पलावत ने कहा

जहां हम यह उम्‍मीद कर रहे थे कि तपिश मार्च के अंत तक मध्‍य और उत्‍तर-पश्चिमी भारत के हिस्‍सों पर अपना असर दिखायेगी लेकिन हमें इसके इतनी जल्‍दी आने की उम्‍मीद नहीं थी। मगर यह हमारे लिये कोई चौंकाने वाली बात नहीं है, क्‍योंकि पिछले कुछ सालों में हम दिन के तापमान में धीरेधीरे वृद्धि होते देख रहे हैं। अधिकतम तापमान रिकॉर्ड तोड़ रहा है और अब यह वैश्विक माध्‍य तापमान में वृद्धि के साथ खड़ा है।

वैश्विक तापमान बढ़ चुका है और अगर आने वाले समय में इसे रोका नहीं गया तो इसमें और भी वृद्धि होने की सम्‍भावना है। दुनिया भर के वैज्ञानिक बार-बार इसे दोहरा भी रहे हैं।

हाल ही में जलवायु के प्रभावों, जोखिमशीलता और अनुकूलन में आईपीसीसी की डब्‍ल्‍यूजी 2 रिपोर्ट के मुताबिक अगर प्रदूषणकारी तत्‍वों के उत्‍सर्जन में तेजी से कमी नहीं लायी गयी तो गर्मी और उमस ऐसे हालात पैदा करेंगी जिन्‍हें सहन करना इंसान के वश की बात नहीं रहेगी। भारत उन देशों में शामिल है जहां ऐसी असहनीय स्थितियां महसूस की जाएंगी।

वेट-बल्‍ब तापमान : भारत में वर्तमान में वेट-बल्ब तापमान (Current Wet Bulb Temperature in India) शायद ही कभी 31 डिग्री सेल्सियस से अधिक होता है। देश के अधिकांश हिस्सों में अधिकतम वेट-बल्ब तापमान 25-30 डिग्री सेल्सियस होता है। 31 डिग्री सेल्सियस का वेट-बल्ब तापमान मनुष्यों के लिए बेहद खतरनाक है, जबकि 35 डिग्री सेल्सियस का यह तापमान छांव में आराम करने वाले स्वस्थ वयस्कों के लिए भी घातक है। ऐसा कोई भी व्‍यक्ति 35 डिग्री वेट-बल्‍ब तापमान में 6 घंटे से अधिक समय तक जीवित नहीं रह सकता। इन स्तरों से नीचे भी गर्मी घातक हो सकती है। खासकर बुजुर्ग या कम आयु के लोगों या कठिन शारीरिक श्रम करने वालों के लिए। अगर उत्सर्जन में सिर्फ वर्तमान में किये गये वादे के स्‍तरों के अनुरूप कटौती की जाती है तो उत्तरी और तटीय भारत के कई हिस्से सदी के अंत में 31 डिग्री सेल्सियस से अधिक के बेहद खतरनाक वेट-बल्ब तापमान तक पहुंच जाएंगे। अगर उत्सर्जन में वृद्धि जारी रहती है तो भारत के अधिकांश हिस्सों में वेट-बल्ब तापमान 35 डिग्री सेल्सियस की असहनीय सीमा तक पहुंच जाएगा या उससे अधिक हो जाएगा। देश के अधिकांश हिस्सों में वेट-बल्‍ब तापमान 31 डिग्री सेल्सियस या उससे अधिक स्‍तर तक पहुंच जाएगा।

अध्‍ययन में यह भी जिक्र किया गया है कि लखनऊ और पटना ऐसे शहरों में शुमार हैं जहां अगर उत्‍सर्जन की मौजूदा दर जारी रही तो वेट-बल्‍ब तापमान 35 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाने का अनुमान है। वहीं, अगर उत्‍सर्जन का यही हाल रहा तो भुवनेश्‍वर, चेन्‍नई, मुम्‍बई, इंदौर और अहमदाबाद में वेट-बल्‍ब तापमान 32-34 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाएगा। कुल मिलाकर, असम, मेघालय, त्रिपुरा, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और पंजाब सबसे गंभीर रूप से प्रभावित होंगे, लेकिन अगर उत्सर्जन में वृद्धि जारी रही तो सभी भारतीय राज्यों में ऐसे क्षेत्र होंगे जो 30 डिग्री सेल्सियस या उससे अधिक वेट-बल्‍ब तापमान का अनुभव करेंगे।

मृत्‍यु दर (rate of mortality) : हीट वेव्स विशेष रूप से सर्व-कारण और कारण-विशिष्ट मृत्यु दर के लिए हानिकारक हैं। ग्रामीण और शहरी दोनों आबादी गर्मी से संबंधित मृत्यु दर की चपेट में हैं। कम पढ़े-लिखे और निम्‍न सामाजिक-आर्थिक स्थिति वाले व्यक्ति, बुजुर्ग और कम हरियाली वाले समुदायों में रहने वाले व्यक्ति गर्मी से संबंधित मृत्यु दर के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं।

आईपीसीसी की ताजा डब्‍ल्‍यूजी 2 रिपोर्ट के मुख्‍य लेखक और इंडियन स्‍कूल ऑफ बिजनेस के भारती इंस्‍टीट्यूट ऑफ पब्लिक पॉलिसी में शोध निदेशक एवं एडजंक्‍ट प्रोफेसर डॉक्‍टर अंजल प्रकाश (Professor Dr. Anjal Prakash) ने कहा

भारत के कई हिस्‍से मार्च के महीने में अभूतपूर्व गर्मी से तप रहे हैं। आईपीसीसी की रिपोर्ट में इस बात पर खासा विश्‍वास जाहिर किया गया है कि चरम स्‍तर पर गर्म जलवायु की वजह से पिछले कुछ दशकों के दौरान आर्थिक और सामाजिक रूप से हाशिये पर खड़े नागरिकों पर सबसे ज्‍यादा असर पड़ा है। जोखिम वाले इलाकों में ग्‍लोबल वार्मिंग खाद्य उत्‍पादन पर दबाव लगातार बढ़ाती जा रही है क्‍योंकि डेढ़ से दो डिग्री सेल्सियस ग्‍लोबल वार्मिंग के बीच और हीटवेव स्थितियों के तहत सूखा पड़ने की आवृत्ति, सघनता और तीव्रता बढ़ रही है। ऐसी उम्‍मीद है कि ये चरम मौसमी स्थि‍तियां न सिर्फ निकट भविष्‍य में बल्कि दीर्घकाल में भी खराब स्‍वास्‍थ्‍य और अकाल मृत्‍यु की घटनाओं में उल्‍लेखनीय बढ़ोत्‍तरी का कारण बनेंगी। आईपीसीसी ने काफी मजबूती से माना है कि अतिरिक्त गर्मी के साथ हीटवेव की चपेट में आने की घटनाओं में वृद्धि जारी रहेगी, जिसके परिणामस्वरूप अतिरिक्त अनुकूलन के बिना गर्मी से संबंधित मृत्यु दर होगी।

शहरीकरण : वर्ष 2018 से 2050 के बीच भारत के शहरी इलाकों में 41.6 करोड़ और लोग रहने लगेंगे। जहां आर्थिक विकास के लिये नगरीय विकास जरूरी है, वहीं इससे ग्‍लोबल वार्मिंग में भी इजाफा होता है।

आईपीसीसी की ताजा डब्‍ल्‍यूजी 2 रिपोर्ट की प्रमुख लेखक और इंडियन इंस्‍टीट्यूट फॉर ह्यूमन सेटलमेंट्स की वरिष्‍ठ शोधकर्ता डॉक्‍टर चांदनी सिंह ने कहा

किसी एक शहर में गर्मी के एक समान प्रभाव महसूस नहीं किये जाते। ऐसे लोग जिनके पास खुद को ठंडा रखने के उपकरण उपलब्‍ध नहीं हैं या जिन्‍हें बाहर जाकर काम करना पड़ता है, जैसे कि मजदूर, रेहड़ी वाले इत्‍यादि। यह महत्‍वपूर्ण है कि भयंकर तपिश के समाधानों के भी असमान नतीजे हो सकते हैं। लिहाजा, अत्‍यधिक गर्मी के असमान प्रभावों को भी जहन में रखना महत्‍वपूर्ण है।

श्री पलावत ने कहा

विकास के साथ शहरों का मौसम भी बिल्‍कुल बदल गया है। कंक्रीट और निर्माण सामग्री में हवा के बंध जाने की वजह से मौसम गर्म बना रहता है। द अरबन हीट आइलैंड (यूएचआई) नगरीय क्षेत्रों को गर्म करने में अहम भूमिका निभा रहा है। हरित आवरण को नुकसान और अधिक लोगों को समायोजित करने के लिये पर्याप्‍त छाया नहीं होने के जनस्‍वास्‍थ्‍य पर विनाशकारी प्रभाव पड़ेंगे।

भारत में श्रम पर उमस भरी गर्मी के प्रभावों के कारण इस वक्‍त सालाना 259 बिलियन घंटों का नुकसान हो रहा है। यह पूर्व में लगाये गये 110 बिलियन घंटों के अनुमान से कहीं ज्‍यादा है।

परिवर्तनों के संदर्भ में, इस शताब्दी के पहले 20 वर्षों में भारत ने पिछले 20 वर्षों की तुलना में सालाना 25 अरब अधिक घंटे खो दिए। इसके अलावा, भारत में कृषि श्रम क्षमता में 17% की कमी आएगी यदि वार्मिंग 3 डिग्री सेल्सियस तक जारी रहती है और यदि देश भर में उत्सर्जन में कटौती तेज हो जाती है तो यह 11% हो जाएगी।

इन सभी परिस्थितियों में हमें डर है कि यहाँ भीषण गर्मी रहने वाली है!

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Say no to Sexual Assault and Abuse Against Women

जानिए खेल जगत में गंभीर समस्या ‘सेक्सटॉर्शन’ क्या है

Sport’s Serious Problem with ‘Sextortion’ एक भ्रष्टाचार रोधी अंतरराष्ट्रीय संस्थान (international anti-corruption body) के मुताबिक़, …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.