कोरोना के खिलाफ आक्रामक कार्रवाई जारी रखे भारत : डब्ल्यूएचओ का निर्देश

India should continue offensive against Corona: WHO directive

नई दिल्ली, 24 मार्च 2020. भारत में कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ रहे मामलों (coronavirus in india) को देखते हुये विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) (डब्ल्यूएचओ) ने भारत को निर्देश दिया है कि कोरोना के प्रसार के खिलाफ आक्रामक कार्रवाई जारी रखी जाए।

बता दें कि भारत में कोरोना के अब तक 499 मामले सामने आ चुके हैं और यह आंकड़ा हर घन्टे बदल रहा है। इस प्रसार को रोकने के लिए राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित 548 जिलों में लॉकडाउन है।

India is as densely populated as China

कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए भारत की ओर से उठाए गए कदम पर डब्लूएचओ के कार्यकारी निदेशक माइकल जे रेयान ने कहा कि भारत चीन जैसा ही बेहद घनी आबादी वाला देश है। इन घनी आबादी वाले देशों में जो कुछ होगा उससे ज्यादा हद तक कोरोना वायरस का भविष्य निर्धारित होगा। उन्होंने आगे कहा कि यह वास्तव में बेहद महत्वपूर्ण है। इसलिए यह जरूरी है कि भारत सार्वजनिक स्वास्थ्य पर अपनी आक्रामक कार्रवाई जारी रखे।

माइकल जे रेयान ने यह भी कहा कि भारत ने साइलेंट किलर कही जाने वाली दो गंभीर बीमारियों – स्मॉल पॉक्स और पोलियो के उन्मूलन में दुनिया की अगुवाई की है। भारत में जबरदस्त क्षमता है, सभी देशों में भी जबरदस्त क्षमता है कि वे अपने समुदायों और नागरिक समाजों को एकत्र करें।

दूसरी ओर, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने कोरोना की भयावहता देखते हुए पूरी दुनिया से वैश्विक शांति को लेकर आह्वान किया।

उन्होंने कहा, “मैं दुनिया के सभी कोनों में तत्काल वैश्विक युद्ध विराम का आह्वान कर रहा हूं। यह समय लॉकडाउन पर सशस्त्र संघर्ष और हमारे जीवन की सच्ची लड़ाई पर एक साथ ध्यान केंद्रित करने, शत्रुता को पीछे छोड़ने और अविश्वास और दुश्मनी को दूर करने का है।”

The whole world is vulnerable to corona virus

ध्यान रहे कि पूरी दुनिया कोरोना वायरस की चपेट में है। कोरोना का जहर अब तक दुनियाभर के 16,000 से ज्यादा लोगों को निगल चुका है। वहीं, 3.6 लाख से ज्यादा लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं। इटली के बाद चीन में 3,270 मौत हो चुकी है। अकेले इटली में कोरोना से 6,077 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका में भी 400 से ज्यादा लोग नही रहे हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations