गैंगस्टर करीम लाला से मिली थीं इंदिरा गांधी ? संजय राऊत ने अपने बयान पर गोदी मीडिया को लताड़ा

Indira Gandhi met gangster Karim Lala? Sanjay Raut slams dock media on his statement

नई दिल्ली, 16 जनवरी 2020. शिवसेना सांसद व प्रवक्ता संजय राऊत ने अपने बयान, कि इंदिरा गांधी गैंगस्टर करीम लाला से मिली थीं, पर विवाद होने पर गोदी मीडिया को लताड़ लगाते हुए कहा है कि जो लोग मुंबई का इतिहास नहीं जानते हैं, वह उनके बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रहे हैं।

शिवसेना सांसद संजय राउत ने बुधवार को दावा किया था कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी मुंबई में पुराने डॉन करीम लाला से मिली थीं।

राउत ने लोकमत मीडिया समूह के पुरस्कार समारोह के दौरान एक इंटरव्यू में यह दावा किया था। बता दें कि करीम लाला, मस्तान मिर्जा उर्फ हाजी मस्तान और वरदराजन मुदलियार मुंबई के शीर्ष माफिया सरगनाओं में थे जो 1960 से लेकर अस्सी के दशक तक सक्रिय रहे।

इस वक्तव्य पर विवाद बढ़ने पर राऊत ने दो ट्वीट किए। एक ट्वीट में उन्होंने लिखा,

“करीम लाला पठान समुदाय के नेता थे, उन्होंने ‘पख्तून-ए-हिंद’ नामक एक संगठन का नेतृत्व किया। पठान समुदाय के नेता की यह क्षमता थी कि वह इंदिरा गांधी सहित कई शीर्ष नेताओं से मिले।

हालांकि, जो लोग मुंबई का इतिहास नहीं जानते हैं, मेरे बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रहे हैं।“

दूसरे ट्वीट में उन्होंने आदित्य ठाकरे, राहुल गांधी और राजीव सातव को टैग करते हुए लिखा,

“इंदिरा गांधी, जिन्होंने लोहे की मुट्ठी के साथ फैसले लिए, की लौह महिला के रूप में प्रशंसा करने से मैं कभी पीछे नहीं हटा।

हैरानी की बात यह है कि जो इंदिराजी का इतिहास नहीं जानते हैं वे चिल्ला रहे हैं।

@AUThackeray

@RahulGandhi

@SATAVRAJEEV

@”

अपने बयान पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि वो इंदिरा गांधी का सम्मान करते हैं. उन्होंने कहा, ‘जवाहर लाल नेहरू और इंदिरा गांधी का हमेशा सम्मान रहा है.’

संजय राउत ने सफाई पेश करते हुए कहा, ‘मैंने हमेशा इंदिरा गांधी, पंडित नेहरू, राजीव गांधी और गांधी परिवार के प्रति जो सम्मान दिखाया, वह विपक्ष में होने के बावजूद किसी ने नहीं किया. जब भी लोगों ने इंदिरा गांधी पर निशाना साधा है, मैं उनके लिए खड़ा हुआ हूं.’

इसके पहले कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने ट्वीट किया,

‘इंदिरा गांधी एक देशभक्त थीं. संजय राउत अपना बयान वापस लें।’

राउत के बयान पर कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से प्रतिक्रिया देते हुए कहा,

‘बेहतर होगा कि शिवसेना के मिस्टर शायर दूसरों की हल्की-फुल्की शायरी सुनाकर महाराष्ट्र का मनोरंजन करते रहें.’ उन्होंने मिस्टर शायर शब्द का इस्तेमाल संजय राउत के लिए किया।‘

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations