आत्मनिर्भर भारत में एलपीजी भी हुई आत्मनिर्भर, अच्छे दिनों में रसोई गैस सिलेंडर के दाम बढ़े

आत्मनिर्भर भारत में महंगाई का झटका : रसोई गैस सिलेंडर के दाम बढ़े

Inflation shock in self-sufficient India: LPG cylinder prices rise

नई दिल्ली, 1 जून 2020.  देशव्यापी लॉकडाउन को अनलॉक करने के पहले चरण (First steps to unlock nationwide lockdown 5) का आरंभ होते ही सोमवार को देश के आम लोगों को महंगाई का झटका लगा। पेट्रोलियम कंपनियों ने रसोई गैस सिलेंडर का दाम बढ़ा दिया है। देश की राजधानी दिल्ली में बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 11.50 रुपए महंगा हो गया है।

इंडियन ऑयल की वेबसाइट के अनुसार दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में 14.2 किलो के बिना सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर की कीमतें (Non subsidized gas cylinder prices) एक जून से क्रमश: 593 रुपए, 616 रुपए, 590.50 रुपए और 606.50 रुपए हो गई हैं।

इन चारों महानगरों में इससे पहले बिना सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर की कीमत क्रमश: 581.50 रुपए, 584.50 रुपए, 579 रुपए और 569.50 रुपए प्रति सिलेंडर थी जोकि एक मई से लागू थी।

बता दें कि मार्च, अप्रैल और मई लगातार तीन महीनों की गिरावट के बाद जून में पेट्रोलियम कंपनियों ने रसोई गैस सिलेंडर की कीमत बढ़ा दी है।

वहीं, 19 किलो वाले एलपीजी सिलेंडर की कीमत एक जून से दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में बढ़कर क्रमश: 1139.50 रुपए, 1193.50 रुपए, 1087.50 रुपए और 1254 रुपए प्रति सिलेंडर हो गई है जोकि इससे पहले क्रमश: 1129.50 रुपए, 1086 रुपए, 978 रुपए और 1144.50 रुपए प्रति सिलेंडर थी।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations