Home » समाचार » देश » केजरीवाल के लिए लाठी भांज रहे थे बुद्धिजीवी, क्या अब सवाल भी करेंगे
Arvind Kejriwal

केजरीवाल के लिए लाठी भांज रहे थे बुद्धिजीवी, क्या अब सवाल भी करेंगे

Intellectuals were cooking sticks for Kejriwal, Will you even question now

नई दिल्ली, 24 फरवरी 2020. देश की राजधानी दिल्ली में कल से जाफराबाद इलाके में लगातार हिंसा की खबरें आ रही हैं, पर जो बुद्धिजीवी चुनाव से पहले अरविन्द केजरीवाल के लिए लाठी भांज रहे थे, वह अब मौन हैं। बुद्धिजीवियों की भूमिका पर सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) ने सवाल उठाए हैं।

पार्टी के प्रमुख महासचिव श्याम गंभीर ने कहा कि दिल्ली सरकार यह कहकर लगातार बच रही है कि हम क्या कर सकते हैं पुलिस तो केंद्र सरकार के हाथ में हैं। क्या बुद्धिजीवी केजरीवाल से कुछ सवाल करेंगे। उन्होंने कहा कि “मैं बुद्धिजीवियों से इसलिए कह रहा हूँ कि बुद्धिजीवी अरोक्ष -परोक्ष रूप से लगातार केजरिवाल का समर्थन करते रहते हैं।”

श्याम गंभीर ने बुद्धिजीवियों से जो सवाल पूछे हैं, इस प्रकार हैं –

  1. केजरिवाल सरकार CAA, NRC, NPR के समर्थन में केंद्र सरकार के साथ हैं या दिल्ली में CAA, NRC, NPR के खिलाफ चल रहे आंदोलन के साथ ?
  2. यदि आप आंदोलन के साथ या खिलाफ हैं तो खुलकर बोलते क्यों नहीं ?
  3. यदि आप आंदोलन के साथ हैं तो आंदोलन कर रहे लोगों के समर्थन में सड़क पर क्यों नहीं उतरते ? जबकि आप सड़क से लड़ाई लड़कर ही दिल्ली के मुख्यमंत्री बने हैं।
  4. आप बार-बार लॉ एण्ड ऑर्डर का बहाना बनाकर साबित क्या करना चाहते हैं ?
  5. भाजपा के लोगों द्वारा लगातार भड़काऊ बयान बाजी पर भी आप चुप क्यों हैं ?
  6. आरक्षण के आप समर्थन में हैं या खिलाफ ?
  7. देश भर में आरक्षण के समर्थन में चल रहे आंदोलन पर आपकी क्या राय हैं ?
  8. दिल्ली विश्वविद्यालय में दिल्ली सरकार के अंतर्गत आने वाले कॉलेज में अब तक पर्मामेंट appoinment क्यों नहीं हुआ ?

सवाल बहुत हैं लेकिन क्या जो सवाल यहाँ दिया गया हैं वो सवाल बुद्धिजीवी केजरिवाल से करेंगे ?

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Science news

पिछली एक सदी की तस्वीरों से खुल रहे हैं सूर्य के बारे में नये- नये रहस्य

New secrets about the Sun are revealed from the pictures of the last century Many …

Leave a Reply