Home » समाचार » देश » Corona virus In India » इंटरपोल ने जारी किया एलर्ट : संगठित अपराधों का निशाना बन सकते हैं कोविड-19 के टीके
INTERPOL has issued a global alert to law enforcement across its 194 member countries warning them to prepare for organized crime networks targeting #COVID19 vaccines, both physically and online

इंटरपोल ने जारी किया एलर्ट : संगठित अपराधों का निशाना बन सकते हैं कोविड-19 के टीके

INTERPOL warns of organized crime threat to COVID-19 vaccines

INTERPOL has issued a global alert to law enforcement across its 194 member countries warning them to prepare for organized crime networks targeting COVID-19 vaccines, both physically and online.

नई दिल्ली, 3 दिसंबर 2020. दुनिया के 194 देशों के अंतरराष्ट्रीय पुलिस संगठन (international police organization) इंटरपोल ने अपने सदस्य देशों की कानून प्रवर्तन एजेंसियों को वैश्विक अलर्ट जारी किया है कि संगठित अपराध नेटवर्क शारीरिक और ऑनलाइन दोनों ही तरीके से कोविड-19 टीकों को निशाना बना सकते हैं।

कोविड-19 के टीके पर इंटरपोल ऑरेंज नोटिस

कल यानी दो दिसंबर 2020 को इंटरपोल द्वारा जारी किए गए बयान में ऑरेंज नोटिस (Interpol Orange Notice) के साथ ‘कोविड-19 और फ्लू के नकली रूप, उनकी चोरी और अवैध विज्ञापन’ के संबंध में संभावित आपराधिक गतिविधि की बात कही गई है।

इसमें उन अपराधों के उदाहरण भी शामिल किए गए हैं जहां लोगों ने नकली टीकों का विज्ञापन, बिक्री और अवैध प्रशासकीय काम किए हैं।

As a number of COVID-19 vaccines come closer to approval and global distribution, ensuring the safety of the supply chain and identifying illicit websites selling fake products will be essential.

इंटरपोल के महासचिव जरगन स्टॉक ने कहा है,

“कोविड-19 के कई टीके एप्रूव होने और दुनिया भर में वितरण के करीब हैं। ऐसे में इनकी आपूर्ति श्रृंखलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करना और नकली उत्पादों को बेचने वाली अवैध वेबसाइटों की पहचान करना जरूरी होगा।”

इंटरपोल ने कहा,

“कानून प्रवर्तन और स्वास्थ्य नियामक निकायों के बीच समन्वय लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और समुदायों की भलाई के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।”

इंटरपोल के महासचिव जर्गेन स्टॉक ने कहा,

“जैसा कि सरकारें वैक्सीन को लाने और उनके उपयोग की तैयारी कर रही हैं, वहीं आपराधिक संगठन इन वैक्सीन की सप्लाई चेन में घुसपैठ करने की योजना बना रहे हैं। आपराधिक नेटवर्क फर्जी वेबसाइटों के जरिए भी जनता को निशाना बना रहे होंगे। इससे लोगों के स्वास्थ्य और उनके जीवन को गंभीर खतरा पैदा हो सकता है।”

महासचिव ने आगे कहा,

“यह जरूरी है कि जितना संभव हो सके कानून प्रवर्तन एजेंसियां तैयार हो जाएं, ताकि कोविड-19 वैक्सीन से जुड़े सभी प्रकार की आपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाया जा सके। इसीलिए इंटरपोल ने यह वैश्विक चेतावनी जारी की है।”

कोविड से संबंधित धोखाधड़ी को बढ़ते देख इंटरपोल ने जनता को सलाह दी है कि वे चिकित्सा उपकरणों या दवाओं की खोज के लिए ऑनलाइन सर्च करते समय विशेष ध्यान रखें।

इंटरपोल की साइबर क्राइम यूनिट द्वारा किए गए एक विश्लेषण से पता चला है कि ऑनलाइन फार्मेसी से जुड़ी 3,000 वेबसाइटों में से 1,700 को साइबर खतरा है। ऑनलाइन घोटालों से बचने के लिए, सतर्क रहना महत्वपूर्ण। लिहाजा लोग कोविड-19 के संबंध में नई स्वास्थ्य सलाह के लिए हमेशा अपने राष्ट्रीय स्वास्थ्य अधिकारियों या विश्व स्वास्थ्य संगठन की वेबसाइट देखें।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Dr. Ram Puniyani

पीछे की ओर यात्रा : ज्ञानवापी मस्जिद

Hindi Article by Dr Ram Puniyani -Reviving Temple Disputes-Gyanwapi वाराणसी की जिला अदालत ने भारतीय …

Leave a Reply