जानिए क्या है इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम/ चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (आईबीएस) के लक्षण, निदान व उपचार

जानिए क्या है इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम/ चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (आईबीएस) के लक्षण, निदान व उपचार

अप्रैल को इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम जागरूकता माह, आईबीएस जागरूकता माह (Irritable bowel syndrome awareness month) के रूप में मनाया जाता है। इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम/ चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (Irritable Bowel Syndrome in Hindi) एक पुरानी बीमारी है जो बड़ी आंत को प्रभावित करती है और पेट दर्द, ऐंठन, कब्ज और दस्त जैसे लक्षणों का कारण बनती है। अमेरिकी स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग के राष्ट्रीय स्वास्थ्य संस्थान (NIH) के अंग, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिजीज (NIDDK) की सेवा के रूप में प्रदान की गई सामग्री, जो पब्लिक डोमेन में है, में इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) की परिभाषा, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) के लक्षण, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) के उपचार, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) का निदान और इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) के कारण के बारे में जानकारी दी गई है। हम इस सरल हिंदी में इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) के बारे में जानकारी को जनहित में साभार यहां दे रहे हैं। इस समाचार की जानकारी का उपयोग पेशेवर चिकित्सा देखभाल या सलाह के विकल्प के रूप में नहीं किया जा सकता है। यदि आप अपने स्वास्थ्य के बारे में कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता/ योग्य चिकित्सक से संपर्क करें।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) की परिभाषा और तथ्य Definition & Facts of Irritable Bowel Syndrome (IBS)

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम या चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (आईबीएस) लक्षणों का एक समूह है जो एक साथ होता है, इसमें आपके पेट में बार-बार दर्द होना और आपके मल त्याग की प्रक्रिया में बदलाव, जो दस्त, कब्ज या दोनों हो सकते हैं, शामिल हैं। यदि आपको आईबीएस है तो आपके पाचन तंत्र में क्षति या बीमारी के किसी भी दिखाई देने वाले लक्षण के बिना (visible signs of damage or disease in your digestive tract) भी आपको इसके लक्षण हो सकते हैं।

इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम (आईबीएस) के लक्षण और कारण Symptoms & Causes of Irritable bowel syndrome (IBS)

चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (आईबीएस) के सबसे आम लक्षण में आपके मलत्याग के समय पेट में दर्द और आपके मल त्याग में परिवर्तन होते हैं। ये परिवर्तन दस्त, कब्ज या दोनों हो सकते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपको किस प्रकार का आईबीएस है। आईबीएस किस वजह से होता है, इसको लेकर चिकित्सक अभी निश्चित नहीं हैं।

आईबीएस के अन्य लक्षणों में शामिल हो सकते हैं

  • सूजन;
  • यह महसूस करना कि आपने मल त्याग नहीं किया है;
  • आपके मल में सफेद बलगम (whitish mucus)।

आईबीएस पीड़ित महिलाओं में अक्सर उनके पीरियड्स के दौरान अधिक लक्षण होते हैं।

आईबीएस दर्दनाक हो सकता है लेकिन अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण नहीं बनता है या आपके पाचन तंत्र को नुकसान नहीं पहुंचाता है।

आईबीएस एक पुराना विकार है, जिसका अर्थ है कि यह लंबे समय तक रहता है, अक्सर वर्षों तक। हालाँकि, लक्षण आ सकते हैं और जा सकते हैं।

आईबीएस का क्या कारण है? What causes IBS?

चिकित्सक अभी तक इस निश्चित नहीं हैं कि आईबीएस का क्या कारण है या यह क्यों होता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मत है कि कई समस्याओं के समुच्चय से आईबीएस हो सकता है। अलग-अलग लोगों में अलग-अलग कारक IBS का कारण बन सकते हैं।

फंक्शनल गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल (Functional gastrointestinal GI-जीआई) विकार जैसे कि आईबीएस मस्तिष्क और आंत संपर्क की समस्याएं हैं कि आपका मस्तिष्क और आंत एक साथ कैसे काम करते हैं। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि ब्रेन-गट इंटरेक्शन की समस्याएं आपके शरीर के काम करने के तरीके को प्रभावित कर सकती हैं और IBS के लक्षण पैदा कर सकती हैं। उदाहरण के लिए, आईबीएस वाले कुछ लोगों में, पाचन तंत्र के माध्यम से भोजन बहुत धीरे या बहुत तेज़ी से आगे बढ़ सकता है, जिससे मल त्याग में परिवर्तन हो सकता है। जब सामान्य मात्रा में गैस या मल आंत में होता है तो IBS वाले कुछ लोगों को दर्द महसूस हो सकता है।

आईबीएस वाले लोगों में कुछ समस्याएं अधिक आम हैं। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि ये समस्याएं आईबीएस पैदा करने में भूमिका निभा सकती हैं। इन समस्याओं में शामिल हैं –

  • तनावपूर्ण या कठिन प्रारंभिक जीवन की घटनाएं, जैसे शारीरिक या यौन शोषण (physical or sexual abuse);
  • कुछ मानसिक विकार (mental disorders), जैसे अवसाद;
  • चिंता, और दैहिक लक्षण विकार;
  • आपके पाचन तंत्र में जीवाणु संक्रमण;
  • छोटी आंत के जीवाणु अतिवृद्धि, संख्या में वृद्धि या आपकी छोटी आंत में बैक्टीरिया के प्रकार में परिवर्तन;
  • खाद्य असहिष्णुता या संवेदनशीलता (food intolerances or sensitivities), जिसमें कुछ खाद्य पदार्थ पाचन संबंधी लक्षण पैदा करते हैं;

शोध से पता चलता है कि जीन कुछ लोगों में IBS विकसित करने की अधिक संभावना पैदा कर सकते हैं।

चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम (IBS)/इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम  का निदान (Diagnosis of irritable bowel syndrome (IBS)

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम (आईबीएस) का निदान करने के लिए, चिकित्सक आपके लक्षणों और आपके चिकित्सा और पारिवारिक इतिहास की समीक्षा करते हैं और एक शारीरिक परीक्षण करते हैं। आपका चिकित्सक आपके लक्षणों में एक निश्चित पैटर्न की तलाश करेगा। कुछ मामलों में, चिकित्सक अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का पता लगाने के लिए कुछ अन्य टेस्ट्स का आदेश दे सकते हैं।

आपके सिम्टम्स की समीक्षा Review of your symptoms

आपका चिकित्सक आपके लक्षणों के संबंध में पूछेगा और आईबीएस का निदान करने के लिए आपके लक्षणों में एक निश्चित पैटर्न की तलाश करेगा। यदि आपके पेट में दर्द के साथ-साथ निम्नलिखित में से दो या अधिक लक्षण हैं, तो आपका चिकित्सक आईबीएस का निदान कर सकता है :

  • आपके दर्द का संबंध आपके मल त्याग से है। उदाहरण के लिए, मल त्याग के बाद आपका दर्द ठीक सकता है या खराब हो सकता है;
  • आप कितनी बार मल त्याग करते हैं, इसमें आपको क्या बदलाव दिखाई देता है;
  • आप अपने मल दिखने के तरीके में बदलाव देखते हैं।

आपका चिकित्सक पूछेगा कि आपको कितने समय से लक्षण हैं। आपका चिकित्सक आईबीएस का निदान कर सकता है यदि –

  • आपको पिछले 3 महीनों में सप्ताह में कम से कम एक बार लक्षण दिखे हैं और
  • आपके लक्षण सबसे पहले कम से कम 6 महीने पहले शुरू हुए थे

आपका चिकित्सक आईबीएस का निदान कर सकता है, भले ही आपको कम समय से लक्षण हों। यदि आपके लक्षण आईबीएस के लक्षणों की तरह हैं तो आपको अपने चिकित्सक से बात करनी चाहिए।

आपका चिकित्सक आपसे अन्य लक्षणों के बारे में भी पूछेगा। कुछ लक्षण हो सकते हैं जो आईबीएस के बजाय किसी और स्वास्थ्य समस्या की ओर इंगित करते हों। इन लक्षणों में शामिल हैं

  • रक्ताल्पता (anemia)
  • आपके मलाशय से खून बह रहा है (bleeding from your rectum)
  • खूनी मल या मल जो काला और रुका हुआ है (bloody stools or stools that are black and tarry)
  • वजन घटना (weight loss)

चिकित्सा इतिहास और पारिवारिक इतिहास (Medical and family  history)

आपका चिकित्सक इस बारे में पूछेगा

पाचन रोगों का पारिवारिक इतिहास (family history of digestive diseases), जैसे सीलिएक रोग, पेट का कैंसर, या सूजन आंत्र रोग

आप जो दवाएं लेते हैं

हाल के संक्रमण

आपके लक्षणों की शुरुआत से संबंधित तनावपूर्ण घटनाएं

क्या आप खाते हो

अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का आपका इतिहास जो आईबीएस पीड़ित लोगों में अधिक आम हैं।

शारीरिक परीक्षा

एक शारीरिक परीक्षा के दौरान, आपका चिकित्सक आमतौर पर

  • पेट की सूजन के लिए जाँच (checks for abdominal bloating)
  • स्टेथोस्कोप का उपयोग (using a stethoscope) करके आपके पेट के भीतर की आवाज़ें सुनता है
  • कोमलता या दर्द की जाँच के लिए (abdomen checking for tenderness or pain) आपके पेट पर टैप कर सकता है।

आईबीएस का निदान करने के लिए चिकित्सक किन टेस्ट्स का उपयोग करते हैं? What tests do doctors use to diagnose IBS?

ज्यादातर मामलों में, चिकित्सक आईबीएस के निदान के लिए परीक्षणों का उपयोग नहीं करते हैं। आपका चिकित्सक अन्य स्वास्थ्य समस्याओं की जांच के लिए रक्त परीक्षण, मल परीक्षण और अन्य परीक्षणों का आदेश दे सकता है।

रक्त परीक्षण Blood test

एक स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर आपसे खून का सैंपल लेगा और सैंपल को एक प्रयोगशाला में भेजेगा। एनीमिया, संक्रमण और पाचन रोगों सहित आईबीएस के अलावा अन्य स्थितियों की जांच के लिए चिकित्सक ब्लड टेस्ट का उपयोग करते हैं।

मल परीक्षण (Stool test)

आपका चिकित्सक आपको मल के सैंपल को एकत्र करने और रखने के लिए एक कंटेनर देगा। आपको निर्देश देगा कि टेस्ट के लिए किट कहां भेजें या ले जाएं। चिकित्सक आपके मल में रक्त या संक्रमण या बीमारियों के अन्य लक्षणों की जांच के लिए स्टूल टेस्ट का उपयोग करते हैं। आपका चिकित्सक आपकी शारीरिक परीक्षा के दौरान आपके मलाशय की जांच करके भी आपके मल में रक्त की जांच कर सकता है।

अन्य परीक्षण

आईबीएस के लक्षणों के समान लक्षण पैदा करने वाली स्वास्थ्य समस्याओं का पता लगाने के लिए चिकित्सक अन्य परीक्षण कर सकते हैं। आपका चिकित्सक तय करेगा कि आपको अन्य परीक्षणों की आवश्यकता है या नहीं।

आपका चिकित्सक जो अन्य टेस्ट करा सकता है उनमें शामिल हैं

  • छोटी आंत के जीवाणु अतिवृद्धि (small intestinal bacterial overgrowth) या लैक्टोज असहिष्णुता जैसे कुछ कार्बोहाइड्रेट को पचाने में समस्याओं की जांच के लिए हाइड्रोजन सांस परीक्षण (hydrogen breath test);
  • सीलिएक रोग की जांच के लिए बायोप्सी (biopsy to check for celiac disease) के साथ अपर जीआई एंडोस्कोपी (upper GI endoscopy with a biopsy);
  • कोलन कैंसर या सूजन आंत्र रोग जैसी स्थितियों की जांच के लिए कोलोनोस्कोपी (colonoscopy)।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम का उपचार | Treatment of irritable bowel syndrome (IBS)

चिकित्सक IBS का इलाज कैसे करते हैं? | How do doctors treat IBS?

चिकित्सक आपके भोजन और अन्य जीवनशैली में बदलाव, दवाओं, प्रोबायोटिक्स और मानसिक स्वास्थ्य उपचारों में बदलाव की सिफारिश करके इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम का इलाज कर सकते हैं। आपके लिए सबसे अच्छा काम करने के लिए आपको कुछ उपचारों को आजमाना पड़ सकता है। आपका चिकित्सक आपको सही उपचार योजना खोजने में मदद कर सकता है।

आप भोजन में परिवर्तन और अन्य जीवनशैली में परिवर्तन (Changes to what you eat and other lifestyle changes)

आप जो भोजन करते हैं उसमें बदलाव आपके लक्षणों का इलाज करने में मदद कर सकता है। आपका डॉक्टर निम्नलिखित परिवर्तनों में से किसी एक को आजमाने की सलाह दे सकता है:

  • अधिक फाइबर खाएं;
  • ग्लूटेन से बचें;
  • एक विशेष भोजन की योजना का पालन करना जिसे LOW FODMAP आहार कहा जाता है।

शोध से पता चलता है कि अन्य जीवनशैली में बदलाव से आईबीएस के लक्षणों में मदद मिल सकती है, जिनमें शामिल हैं:

अपनी फिजिकल एक्टिविटी बढ़ाना;

जितना हो सके तनावपूर्ण जीवन स्थितियों को कम करना;

पर्याप्त नींद लेना।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के इलाज के लिए दवाएं (Medicines to treat irritable bowel syndrome)

खुद डॉक्टर न बनें जब आप आईबीएस के इलाज के लिए दवा का उपयोग करते हैं तो अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करें। दवा के संभावित दुष्प्रभावों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें और यदि आपको कोई दुष्प्रभाव दिखता है तो अपने डॉक्टर से पूछें कि आप क्या करें।

प्रोबायोटिक्स

आपका डॉक्टर प्रोबायोटिक्स लेने की भी सलाह दे सकता है। सवाल है कि प्रोबायोटिक्स क्या होते हैं? la प्रोबायोटिक्स जीवित सूक्ष्मजीव होते हैं, अक्सर बैक्टीरिया, जो सूक्ष्मजीवों के समान होते हैं जो आमतौर पर आपके पाचन तंत्र में होते हैं। शोधकर्ता अभी भी आईबीएस के इलाज के लिए प्रोबायोटिक्स के उपयोग का अध्ययन कर रहे हैं।

सुरक्षित रहने के लिए, प्रोबायोटिक्स या किसी अन्य पूरक या वैकल्पिक दवाओं या प्रथाओं का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें। यदि आपका डॉक्टर प्रोबायोटिक्स की अनुशंसा करता है, तो उससे बात करें कि आपको कितना प्रोबायोटिक्स लेना चाहिए और कितने समय तक लेना चाहिए।

इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के उपचार के लिए मानसिक स्वास्थ्य उपचार (Mental health therapies to treat irritable bowel syndrome)

आपका डॉक्टर आपके आईबीएस लक्षणों को सुधारने में मदद करने के लिए मानसिक स्वास्थ्य उपचारों की अनुशंसा कर सकता है। आईबीएस के उपचार के लिए इस्तेमाल की जाने वाली चिकित्सा में शामिल हैं :

  • संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (cognitive behavioral therapy) जो आईबीएस के लक्षणों में सुधार के लिए विचार और व्यवहार पैटर्न बदलने में आपकी सहायता करने पर केंद्रित है;
  • आंत-निर्देशित सम्मोहन चिकित्सा (gut-directed hypnotherapy),एक ट्रान्स जैसी अवस्था जिसमें आप आराम से या ध्यान केंद्रित करते हैं। इसमें एक चिकित्सक आपके आईबीएस लक्षणों को बेहतर बनाने में सहायता करने के लिए सम्मोहन का उपयोग करता है;
  • विश्राम प्रशिक्षण (relaxation training), जो आपकी मांसपेशियों को आराम देने या तनाव को कम करने में आपकी सहायता कर सकता है।

भोजन, आहार और पोषण

आपका आहार आईबीएस के लक्षणों का इलाज करने में कैसे मदद कर सकता है? (How can your diet help treat the symptoms of IBS?)

आपका चिकित्सक चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम के लक्षणों के उपचार में सहायता करने के लिए आपके आहार में बदलाव की सलाह दे सकता है। आपका डॉक्टर सुझाव दे सकता है कि आप –

  • अधिक फाइबर खाएं;
  • ग्लूटेन से बचें;
  • एक विशेष आहार का पालन करें जिसे LOW FODMAP आहार कहा जाता है।

भोजन में अलग-अलग बदलाव आईबीएस वाले अलग-अलग लोगों की सहायता कर सकते हैं। यह देखने के लिए कि क्या आपके लक्षणों में सुधार होता है, आपको कई हफ्तों तक अपने भोजन में बदलाव करने की आवश्यकता हो सकती है। आपका डॉक्टर भी आपको आहार विशेषज्ञ से बात करने की सलाह (talking with a dietitian) दे सकता है।

अधिक फाइबर खाएं (Eat more fiber)

फाइबर आईबीएस में कब्ज में सुधार कर सकता है क्योंकि यह मल को नरम बनाता है और मल त्याग को आसान बनाता है। अमेरिकियों के लिए आहार संबंधी दिशानिर्देश, 2020-2025 (Dietary Guidelines for Americans, 2020–2025) की सिफारिश है कि वयस्कों को एक दिन में 22 से 34 ग्राम फाइबर मिलना चाहिए।

फाइबर कितने प्रकार के होते हैं?

फाइबर दो प्रकार के होते हैं –

  • घुलनशील फाइबर (soluble fiber), जो सेम, फल और जई उत्पादों (oat products) में पाया जाता है,
  • अघुलनशील फाइबर (insoluble fiber), जो साबुत अनाज उत्पादों और सब्जियों में पाया जाता है।

शोध बताते हैं कि घुलनशील फाइबर आईबीएस के लक्षणों से राहत दिलाने में ज्यादा सहायक होता है।

अपने शरीर को अधिक फाइबर की आदत डालने में मदद करने के लिए, एक बार में अपने आहार में थोड़ा-थोड़ा फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करें। एक बार में बहुत अधिक फाइबर का सेवन गैस का कारण बन सकता है, जो आईबीएस के लक्षणों को ट्रिगर कर सकता है। अपने आहार में दिन में 2 से 3 ग्राम फाइबर को धीरे-धीरे शामिल करना, गैस और सूजन को रोकने में मदद कर सकता है।

ग्लूटेन से बचें (Avoid gluten)

आपका डॉक्टर यह देखने के लिए कि क्या आपके आईबीएस के लक्षणों में सुधार होता है कि नहीं, उन खाद्य पदार्थों से बचने की सलाह दे सकता है जिनमें ग्लूटेन होता है। ग्लूटेन गेहूं, जौ और राई में पाया जाने वाला प्रोटीन होता है। जिन खाद्य पदार्थों में ग्लूटेन होता है उनमें अधिकांश अनाज, अनाज और पास्ता और कई प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ शामिल होते हैं। आईबीएस पीड़ित कुछ लोगों में ग्लूटेन खाने के बाद अधिक लक्षण होते हैं, भले ही उन्हें सीलिएक रोग न हो।

Low FODMAP diet

आपका डॉक्टर कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों जिनमें कार्बोहाइड्रेट होते हैं जिन्हें पचाना मुश्किल होता है, को कम करने या उनसे बचने के लिए सिफारिश कर सकता है कि आप एक विशेष आहार – जिसे LOW FODMAP आहार कहा जाता है, की कोशिश करें। इन कार्बोहाइड्रेट को FODMAPs कहा जाता है।

FODMAPs वाले खाद्य पदार्थों के उदाहरणों (foods that contain FODMAPs) में शामिल हैं –

फल जैसे सेब, खुबानी, ब्लैकबेरी, चेरी, आम, अमृत, नाशपाती, आलूबुखारा, और तरबूज, या इनमें से कोई भी फल युक्त रस;

प्राकृतिक फलों के रस में डिब्बाबंद फल, या बड़ी मात्रा में फलों का रस या सूखे फल;

सब्जियां जैसे आटिचोक, शतावरी, बीन्स, गोभी, फूलगोभी, लहसुन और गार्लिक साल्ट, दाल, मशरूम, प्याज, और चीनी स्नैप या स्नो पीस (sugar snap or snow peas);

डेयरी उत्पाद जैसे दूध, दुग्ध उत्पाद, सॉफ्ट चीज, दही, कस्टर्ड और आइसक्रीम;

गेहूं और राई उत्पाद;

शहद और उच्च फ्रुक्टोज कॉर्न सिरप वाले खाद्य पदार्थ;

कैंडी और गोंद सहित उत्पाद, “-ol” में समाप्त होने वाले मिठास के साथ, जैसे कि सोर्बिटोल, मैनिटोल, जाइलिटोल और माल्टिटोल।

आपका डॉक्टर कि यह देखने के लिए कि क्या यह आपके लक्षणों में मदद करता है, सलाह दे सकता है कि आप कुछ हफ्तों के लिए LOW FODMAP आहार का प्रयास करें। यदि आपके लक्षणों में सुधार होता है, तो आपका डॉक्टर धीरे-धीरे उन खाद्य पदार्थों को शामिल करने की सलाह दे सकता है जिनमें FODMAPs शामिल हैं। आप IBS के लक्षणों के बिना FODMAPs वाले कुछ खाद्य पदार्थ खाने में सक्षम हो सकते हैं।

(नोट : यह खबर किसी भी परिस्थिति में चिकित्सकीय सलाह नहीं है। यह समाचारों में उपस्थित सूचनाओं के आधार पर जनहित में एक अव्यावसायिक जानकारी मात्र है। किसी भी चिकित्सा सलाह के लिए योग्य व क्वालीफाइड चिकित्सक से संपर्क करें। स्वयं डॉक्टर कतई न बनें।)

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.