वापसी पर धोनी का सियासी वक्तव्य कहा, जनवरी तक मत पूछो

वापसी पर धोनी का सियासी वक्तव्य कहा, जनवरी तक मत पूछो

मुंबई, 28 नवंबर 2019. भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और इस समय संन्यास की चर्चा का केंद्र बनने वाले महेंद्र सिंह धोनी (Former captain of Indian cricket team Mahendra Singh Dhoni) जनवरी तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट (International cricket) में वापसी के बारे में बात नहीं करना चाहते। यहां एक कार्यक्रम में जब धोनी से ब्रेक से वापसी के बारे में पूछा गया तो धोनी ने सियासी वक्तव्य देते हुए कहा, “जनवरी तक मत पूछो।”

धोनी इसी साल इंग्लैंड में खेले गए विश्व कप के सेमीफाइनल में टीम की जर्सी पहनी थी, लेकिन तब से वह आराम के नाम से टीम से बाहर हैं।

There are many discussions about the retirement of former captain of Indian cricket team Mahendra Singh Dhoni.

उनके संन्यास को लेकर भी कई तरह की चर्चाएं होती रहती हैं। वहीं ऋषभ पंत की विफलता ने धोनी की वापसी पर भी लोगों का ध्यान खींचा है।

हाल ही में टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने मंगलवार से धोनी को लेकर किए गए सवाल पर कहा था,

“यह निर्भर करता है कि वह (धोनी) कब खेलना शुरू करते हैं और आईपीएल में कैसा खेलते हैं। वहीं दूसरे खिलाड़ी विकेटकीपिंग में क्या कर रहे हैं और धोनी के मुकाबले उनकी फॉर्म क्या है। आईपीएल बड़ा टूर्नामेंट होगा क्योंकि आपके लगभग 15 खिलाड़ी तय हो चुके होंगे।”

रवि शास्त्री ने कहा था,

“मैं कह सकता हूं कि आईपीएल के बाद आपकी टीम लगभग तय हो जाएगी। साथ ही मैं यह कहना चाहता हूं कि कौन कहां है इस बारे में कयास लगाने के बजाए आईपीएल तक का इंतजार करें। इसके बाद ही आप फैसला करने की स्थिति में होंगे कि देश में सर्वश्रेष्ठ 17 कौन हैं।”

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations