लता मंगेशकर के व्यक्तित्व को फिल्मी दायरे में सीमाबद्ध करना अपराध है

लता मंगेशकर के व्यक्तित्व को फिल्मी दायरे में सीमाबद्ध करना अपराध है

It is a crime to limit the personality of Lata Mangeshkar in the film industry.

लता मंगेशकर के सुर संसार में हम सभी लोग कमोबेश शामिल रहे हैं। 92 वर्ष की आयु में भी उनके स्वर के अवसान से हम सभी दुःखी हैं। वे भारत रत्न हैं। और किसी भी राजनेता या कलाकार, साहित्यकार से ज्यादा उनकी प्रतिष्ठा और विश्वव्यापी लोकप्रियता है। लेकिन विडम्बना यह है कि हम सिर्फ फिल्मी संगीत में लता मंगेशकर की भूमिका (Lata Mangeshkar’s role in film music) की चर्चा कर रहे हैं।

समग्र संगीत जगत में लता मंगेशकर का योगदान क्या है?

भारत की संगीत परम्परा समृद्ध है और उससे ज्यादा समृद्ध है यहां की विविध बहुल लोकपरम्परायें। इस समग्र संगीत जगत में उनके योगदान पर भी चर्चा होनी चाहिए।

भारत में देश को जोड़ने और आम लोगों के हक हकूक की आवाज बुलंद करने में, सामाजिक यथार्थ के चित्रण और निरंकुश सत्ता के प्रतिरोध में लोकसंस्कृति के विकास और आधुनिक भारत के मानस के निर्माण में भी भारतीय सिनेमा की ऐतिहासिक भूमिका रही है। इस समग्र सांस्कृतिक आंदोलन में सुर सम्राज्ञी कहाँ थी, इसे भी रेखांकित किया जाना चाहिए।

महान विभूतियों की सामाजिक भूमिका पर भी चर्चा क्यों जरूरी है?

क्रिकेट ही या साहित्य या संगीत,इस क्षेत्र में स्टार सुपरस्टार अनेक हुए हैं, लेकिन भावनाओं से इतर ऐसी महान विभूतियों की सामाजिक भूमिका पर भी चर्चा बेहद जरूरी है ताकि नई पीढ़ी उनसे प्रेरणा ले सकें

विद्वतजन इस पर विशद चर्चा करें तो आभारी रहेंगे।

खासकर जिन स्त्रियों के होंठों को उन्होंने आवाज दी, उनकी अस्मिता और उनके हक हकूक की लड़ाई में उनकी क्या भूमिका है, इस पर चर्चा जरूरी है।

ऐसी महान विभूति के व्यक्तित्व को फिल्मी दायरे में सीमाबद्ध करना अपराध है।

पलाश विश्वास

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner