Home » Latest » न्यूज़ीलैण्ड में जेसिंडा अर्देर्न की बढ़ती लोकप्रियता
Jacinda Ardern (जैसिंडा अर्डर्न), Jacinda Kate Laurell Ardern, Jacinda Ardern in Hindi, जैसिंडा अर्डर्न का पसंदीदा वाक्य,Jacinda ardern quotes, Jacinda Ardern biography in Hindi,

न्यूज़ीलैण्ड में जेसिंडा अर्देर्न की बढ़ती लोकप्रियता

Jacinda Ardern’s growing popularity in New Zealand

न्यूज़ीलैण्ड कोविड 19 के प्रकोप के बाद अब लॉकडाउन से बाहर आ रहा है. बाज़ार खुलने लगे, सार्वजनिक स्थल खोल दिए गए, रेस्टोरेंट खुलने लगे और अब स्कूलों को खोलने की तैयारी चल रही है. इसी बीच न्यूज़हब रीड रिसर्च पोल में मौजूदा प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न (Jacinda Ardern) की लेबर पार्टी सबसे आगे है और प्रधानमंत्री के तौर पर जैसिंडा अर्डर्न की लोकप्रियता लगभग एक शताब्दी में किसी भी प्रधानमंत्री की तुलना में अधिक आंकी गई है.

Jacinda Ardern, who makes soft but harsh decisions

पिछले महीने भी यूएम्आर द्वारा कराये गए सर्वेक्षण में जैसिंडा अर्डर्न को प्रधानमंत्री के तौर पर 65 प्रतिशत लोगों ने पसंद किया था और 78 प्रतिशत लोगों ने कहा था कि देश सही दिशा में आगे बढ़ रहा है. मृदुभाषी लेकिन कठोर निर्णय लेने वाली जैसिंडा अर्डर्न ने इन सर्वेक्षणों के बाद भी इसका श्रेय अपने दल को दिया, जबकि आजकल व्यक्तिवादी राजनीति पूरी दुनिया में हावी है.

उन्होंने कहा, “यह लोकप्रियता उन कार्यों के कारण है जो हमने अपने दल के साथ संयुक्त तौर पर किया, बस यह एक इत्तिफाक है कि इस समय मैं इस टीम का नेतृत्व कर रही हूँ”. न्यूज़ीलैण्ड में इसी वर्ष 19 सितम्बर को चुनाव होने वाले हैं और ऐसे में मौजूदा प्रधानमंत्री की बढ़ती लोकप्रियता मतदाताओं का मिजाज तो स्पष्ट कर ही देती है.

न्यूजीलैंड में कोरोना से केवल 21 मौतें दर्ज की गयीं हैं और प्रधानमंत्री, जैसिंडा अर्डर्न अपने विडियो मेसेज और फेसबुक लाइव से जनता के बीच उपस्थित रहीं और उनका हौसला बढाती रहीं. न्यूज़ीलैण्ड अब उन देशों में शुमार है, जो सफलतापूर्वक लॉकडाउन हटा रहे हैं. उन्होंने जनता को विश्वास में लिया, और सख्त निर्णय भी लिए. उनके विपक्षी भी कोविड 19 के प्रकोप से न्यूज़ीलैण्ड को बचाने के सन्दर्भ में उनकी खुलकर सराहना करते हैं और दुनियाभर में उन्हें अब एक आदर्श के तौर पर माना जा रहा है. अपने सख्त निर्णयों से वे स्वयं भी प्रभावित होती रहीं हैं. हाल में ही उन्हें एक रेस्टोरेंट से वापस कर दिया गया था. दरअसल, कोविड 19 के बाद रेस्टोरेंट्स को सामाजिक दूरी के नियमों का सख्ती से पालन करने को कहा गया है, और इस सन्दर्भ में इनमें ग्राहकों के प्रवेश की सीमा तय की गई है. प्रधानमंत्री अपने मंगेतर और कुछ मित्रों के साथ वेलिंगटन के एक रेस्टोरेंट पहुँचीं थीं, जहां 100 लोगों से अधिक की इजाजत नहीं थी और उस समय इतने लोग अन्दर थे. रेस्टोरेंट ने उन्हें वापस कर दिया और यह खबर दुनियाभर में लॉकडाउन की सख्ती दर्शाते हुए प्रकाशित की गई.

जैसिंडा अर्डर्न  का मानना है कि आर्थिक विकास एक छलावा है, और हमें विकास का आकलन उत्पादकता और आर्थिक पहलुओं से हटाकर सामाजिक समृद्धि और जनता की भलाई से जोड़ना चाहिए. बजट को मानव स्वास्थ्य, पर्यावरण के स्वास्थ्य और लोगों की संतुष्टि के आधार पर तैयार करना चाहिए, और जैसिंडा अर्डर्न ने अपने बजट में इन सभी पहलुओं का समावेश भी किया. पिछले बजट में उन्होंने स्पष्ट कर दिया था कि, जितने भी नए सरकारी खर्चे किये जायेंगें वे पांच विषयों पर ही केन्द्रित होंगें. ये पांच विषय हैं, नागरिकों के मानसिक स्वास्थ्य में सुधार, गरीबी कम करना, जनजातियों और स्थानिक निवासियों के साथ होने वाले भेदभाव को कम करना, डिजिटल क्षेत्र में प्रगति और कम उत्सर्जन और कम प्रदूषण वाली अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना. इन सभी क्षेत्रों में प्राथमिकता के आधार पर ध्यान दिया जा रहा है. घरेलू और यौन हिंसा रोकना और सभी गरीबों के लिए घर भी जैसिंडा अर्डर्न की प्राथमिकता है. उन्होंने घरेलू और यौन हिंसा की शिकार महिलाओं और बच्चियों की मदद के लिए 20 करोड़ डौलर का बजट में प्रावधान भी किया है. जैसिंडा अर्डर्न द्वारा शुरू की गई सबसे बड़ी लाभकारी योजना 5 अरब डौलर की योजना है, जो नवजात शिशुओं और छोटे बच्चों वाले परिवारों की आर्थिक मदद के लिए है.

जैसिंडा अर्डर्न अक्टूबर 2017 में न्यूज़ीलैण्ड की प्रधानमंत्री बनीं थीं, तब उनकी उम्र महज 36 वर्ष थी पर उन्हें राजनीति का लम्बा अनुभव था. इससे पहले 9 वर्ष तक न्यूज़ीलैण्ड में दक्षिणपंथी पार्टियों का शासन था, पर जैसिंडा अर्डर्न की लेबर पार्टी शासन में जनता और सीमान्त आबादी के उद्धार के नारे के साथ सत्ता में आयी थी.

Jacinda Ardern never forgets her election promises

जैसिंडा अर्डर्न अपने चुनावी वादों को कभी भूलती नहीं, और यही शायद उनके लोकप्रियता का कारण भी है. उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में निवेश बढ़ाया, जरूरतमंदों को टैक्स से छूट के दायरे में रखा और पर्यावरण को नुक्सान पहुंचानी वाले योजनाओं को बंद करा दिया. जैसिंडा अर्डर्न की शिक्षा दूरसंचार विज्ञान में हुई है और वे शिक्षा के ठीक बाद ही राजनीति में आ गईं थीं. संसद में 2008 में प्रवेश करने के पहले जैसिंडा अर्डर्न ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री टोनी ब्लेयर और न्यूज़ीलैण्ड की पूर्व प्रधानमंत्री हेलेन क्लार्क के सहायक के तौर पर भी काम कर चुकी हैं.

Jacinda ardern quotes

जैसिंडा अर्डर्न का पसंदीदा वाक्य है, हम इस काम को कर सकते हैं, और वे कहती हैं कि यदि जनता के लिए आप काम केवल काम की तरह ही नहीं बल्कि दिल से काम करते हैं, तब परिणाम बेहतर रहते हैं. टाइम को दिए गए एक इंटरव्यू में जैसिंडा अर्डर्न ने कहा था, “जनता की आकांक्षाओं को या तो उन्हें डरा कर और धमकाकर भुला सकते हैं, या फिर उन्हें एक जिम्मेदारी की तरह ले सकते हैं, और अपनी क्षमता के अनुसार पूरा कर सकते हैं. इससे जनता का विश्वास सरकार में और संवैधानिक संस्थाओं में और मजबूत होता है, और उन्हें लगता है कि हमारी आकांक्षाओं और उम्मीदों को पूरा करने वाला कोई है. मैं अपने देश की जनता के साथ ऐसा ही व्यवहार रखना चाहती हूँ.”

The Prime Minister who became a mother while in office | वो प्रधानमंत्री जो अपने पद पर रहते हुए माँ बनी

जैसिंडा अर्डर्न इतिहास में दूसरी प्रधानमंत्री हैं जो अपने पद पर रहते हुए माँ बनी हैं. इससे पहले पाकिस्तान की प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो प्रधानमंत्री रहते हुए माँ बनी थीं.

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

Jacinda Ardern biography in Hindi

जैसिंडा अर्डर्न दुनिया की पहली प्रधानमंत्री हैं जो संयुक्त राष्ट्र के अधिवेशन में अपनी तीन माह की बेटी के साथ गईं थीं. अमेरिका के समाचारपत्र जल्दी किसी की तारीफ़ में लम्बे लेख नहीं लिखते, पर संयुक्त राष्ट्र के उस अधिवेशन के बाद लगभग हरेक समाचारपत्र में उनके व्यक्तित्व, उनके विचार और उनकी विकासोन्मुख नीतियों की चर्चा की गई थी. दुनिया के बहुत थोड़े शासनाध्यक्ष हैं, जो मीडिया के सामने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प का मजाक उड़ा सकते हैं, या फिर उनकी नीतियों की आलोचना कर सकते हैं – जैसिंडा अर्डर्न उनमें से एक हैं.

संयुक्त राष्ट्र के 2018 की महासभा में भी इन्होंने ट्रम्प का एक प्रस्ताव ठुकराया था. ट्रम्प ने नशे और ड्रग्स की लत से लड़ाई के लिए एक प्रस्ताव को आगे किया था, इसे जैसिंडा अर्डर्न ने ठुकराया था और कहा था कि ड्रग्स और नशा राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय नहीं है, बल्कि यह मानसिक स्वास्थ्य का विषय है, इसलिए दुनियाभर के स्वास्थ्य विशेषज्ञों और मनोवैज्ञानिकों को साथ बैठकर नशे की लत से मुक्ति के बारे में सोचना होगा. ट्रम्प के प्रस्ताव में इस काम को सेना को करना था.

महेंद्र पाण्डेय Mahendra pandey लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं।
महेंद्र पाण्डेय Mahendra pandey
लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं।

जैसिंडा अर्डर्न एक ऐसी प्रधानमंत्री हैं जिन्हें दुनिया संकट की घड़ी को धैर्य, साहस और शांति से पार करने के लिए जानती है. कोविड 19 से पहले भी, क्राइस्टचर्च में मस्जिदों पर गोलीबारी का मामला और एक ज्वालामुखी के अचानक फटने के हुए जानमाल के नुकसान के मामले को भी उन्होंने धैर्य और शान्ति से सुलझाया था. क्राइस्टचर्च में मस्जिदों पर एक ऑस्ट्रेलियन कट्टरपंथी ने स्वचालित हथियारों से गोलीबारी कर 50 से अधिक नमाज अदा कर रहे लोगों को मार डाला था. उस समय भी जैसिंडा अर्डर्न ने बहुत ही धैर्य और अदम्य साहस का परिचय दिया था और इस काम के लिए भारत को छोड़कर पूरी दुनिया में उनकी तारीफ़ की गई थी. उन्होंने न तो ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध कोई वाक्य कहा, और ना ही कातिल के लिए कोई अपशब्द कहे थे, जबकि पूरी दुनिया के देशों में ऐसे मौके पर “पाताल से खोज निकालेंगें, बदला लेंगे, एक के बदले दस मारेंगें” जैसे जुमले खूब सुनने को मिलते हैं. इस घटना को जैसिंडा अर्डर्न ने व्यक्तिगत स्तर पर और सरकारी स्तर पर किस खूबी से संभाला, इससे पता चलता है कि इस मुद्दे पर कोई आन्दोलन या सरकार का विरोध नहीं किया गया, उल्टा मुस्लिम समुदाय का भरोसा सरकार में और बढ़ गया. दूसरी तरफ इस घटना के कुछ दिनों के भीतर ही सरकार ने किसी के भी हथियार लेकर चलने पर पाबंदी लगा दी और सोशल मीडिया चलाने वाली कंपनियों को वैमनस्य बढाने वाले भड़काऊ संदेशों को हटाने के लिए बाध्य किया.

जैसिंडा अर्डर्न ने इतना तो साबित कर ही दिया है कि जनता को साथ लेकर और उनकी आवाज पर ध्यान देकर भी देश का विकास किया जा सकता है और साथ ही राजनीति भी की जा सकती है.

महेंद्र पाण्डेय

Note –  Jacinda Ardern in Hindi

Jacinda Kate Laurell Ardern is a New Zealand politician who has served as the 40th Prime Minister of New Zealand and leader of the Labour Party since 2017. She has been the Member of Parliament for Mount Albert since March 2017, having first been elected to the House of Representatives as a list MP in 2008. (Wikipedia)

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

Arun Maheshwari - अरुण माहेश्वरी, लेखक सुप्रसिद्ध मार्क्सवादी आलोचक, सामाजिक-आर्थिक विषयों के टिप्पणीकार एवं पत्रकार हैं। छात्र जीवन से ही मार्क्सवादी राजनीति और साहित्य-आन्दोलन से जुड़ाव और सी.पी.आई.(एम.) के मुखपत्र ‘स्वाधीनता’ से सम्बद्ध। साहित्यिक पत्रिका ‘कलम’ का सम्पादन। जनवादी लेखक संघ के केन्द्रीय सचिव एवं पश्चिम बंगाल के राज्य सचिव। वह हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता

अवसाद और मनोविश्लेषण की सैद्धांतिकता (Theoreticity of Psychoanalysis or Structure of ideology of psychoanalysis and …