Home » Latest » लॉंच हुआ नई पीढ़ी का टेलिस्कोप जेम्स वेब टेलिस्कोप, आसान भाषा में समझिए
space

लॉंच हुआ नई पीढ़ी का टेलिस्कोप जेम्स वेब टेलिस्कोप, आसान भाषा में समझिए

जेम्स वेब टेलिस्कोप : ब्रह्मांड के स्रोत का पता लगाने के लिए पृथ्वी से निकला नई पीढ़ी का टेलिस्कोप

James Webb Telescope Leaves From Earth to Look Into the Origin of the Universe

यह मिशन नासा, ईएसए (European Space Agency) और कनाडा की स्पेस एजेंसी का संयुक्त मिशन (joint mission) है। इसमें सौर मंडलों और सूर्य के अलावा दूसरे तारों के चक्कर लगाने वाले ग्रहों की खोज कर, शुरुआती ब्रह्मांड की पहली आकाशगंगाओं से आने वाले प्रकाश की खोज (Light coming from the first galaxies of the early universe discovered) करने का लक्ष्य है।

नई पीढ़ी का टेलिस्कोप जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप लॉन्च की तारीख

एस्ट्रोफिजिक्स की दुनिया (world of astrophysics) में जिस पल का लंबे वक़्त से इंतज़ार किया जा रहा था, क्रिसमस के दिन वह हकीक़त बन गया। नई पीढ़ी के टेलिस्कोप “जेम्स वेब स्पेस टेलिस्कोप” (James Webb Telescope in Hindi) को 25 दिसंबर को सुबह 7 बजकर 20 मिनट पर दक्षिण अमेरिका में फ्रेंच गुयाना स्थित यूरोप के स्पेसपोर्ट से लॉन्च किया गया।

नासा द्वारा जारी वक्तव्य के मुताबिक़, इस टेलिस्कोप को एरियान-5 रॉकेट से लॉन्च किया गया था।

नासा, ईएसए और कनेडियन स्पेस एजेंसी का साझा उपक्रम (Joint venture between NASA, ESA and the Canadian Space Agency)

यह मिशन नासा, ईएसए (यूरोपियन स्पेस एजेंसी) और कनेडियन स्पेस एजेंसी का साझा उपक्रम है। इसमें सौर मंडलों और सूर्य के अलावा दूसरे तारों के चक्कर लगाने वाले ग्रहों की खोज कर, शुरुआती ब्रह्मांड की पहली आकाशगंगाओं से आने वाले प्रकाश की खोज करने का लक्ष्य है।

James Webb Space Telescope (जेम्स वेब खगोलीय दूरदर्शी)

कार्यक्रम पर टिप्पणी करते हुए नासा के प्रशासक बिल नेलसन ने कहा, “जेम्स वेब स्पेस टेलिस्कोप नासा और साझेदारों की उन महत्वकांक्षाओं को प्रदर्शित करता है, जहां वे हमें भविष्य में ले जाना चाहते हैं। द वेब से अपेक्षा की जाती है कि यह ब्रह्मांड के बारे में अब तक समझ ना आने वाली या अब तक ना पहचानी गई चीजों को खोजेगा। यह क्या खोजेगा, इसे लेकर मैं बहुत उत्सुक हूं।”

परीक्षणशाला (टेलिस्कोप) को 870 मील या 1400 किलोमीटर ऊपर रॉकेट से अलग किया गया। लॉन्च के पांच मिनट बाद, ज़मीन पर मौजूद टीमों को वेब से डेटा मिलने लगा। एरियान रॉकेट उड़ान भरने के 27 मिनट बाद परीक्षणशाला से अलग हुआ था। फिर लॉन्च के 30 मिनट बाद वेब ने अपना “सोलर एर्रे (सौर संयंत्र)” खोल लिया। ज़मीन पर मौजूद टीमों ने पुष्टि करते हुए कहा कि सोलर एर्रे, टेलिस्कोप को बिजली उपलब्ध करवा रहा है। अपने पथ पर आधे घंटे चक्कर लगाने के बाद केन्या में मालिंदी ग्राउंड स्टेशन में स्थित परीक्षणशाला में संकेत पहुंचने की पुष्टि की गई। इस टेलिस्कोप को पृथ्वी से 15 लाख किलोमीटर दूर एक ऑब्जर्विंग स्टेशन पर रखा जा रहा है।

अब तक की सबसे जटिल और बड़ी अंतरिक्ष परीक्षणशाला 6 महीने तक अपना काम करेगी। इसके बाद वेब टेलिस्कोप अपनी पहली तस्वीर भेजेगा। वेब टेलिस्कोप में चार उपकरण हैं, जो अब तक के सबसे उन्नत उपकरणों में से हैं, साथ ही, इंफ्रारेड सिग्नल के लिए इसमें संवेदनशील डिटेक्टर्स भी लगाए गए हैं, जिनमें अभूतपूर्व स्तर की गुणवत्ता मिल सकेगी। टेलिस्कोप खगोलीय संचरनाओं से आने वाले इंफ्रारेड प्रकाश का अध्ययन करेगा। यह अहम वैज्ञानिक मिशन नासा के हबल टेलिस्कोप और स्पाइट्जर स्पेस टेलिस्कोप का उत्तराधिकारी है। इन मिशन में जो खोजें हासिल की गई हैं, वेब उनकी उन्नति में भी अपना योगदान देने का लक्ष्य रखता है।

अपने पूर्ववर्ती टेलिस्कोप से कैसे भिन्न है जेम्स वेब खगोलीय दूरदर्शी (How is the James Webb astronomical telescope different from its predecessor telescope)?

द वेब अपने पूर्ववर्ती हबल जैसे टेलिस्कोप (James Webb Space Telescope vs Hubble) से कई मायनों में अलग है। पहला इसमें 6.5 मीटर चौड़ा सुनहरा शीशा (परावर्तक) लगा है, जिससे इसकी ऑब्ज़र्वेटरी (परीक्षणशाला) की कार्यकुशलता बहुत ज़्यादा मजबूत हो जाती है। यह शीशा, हबल में लगे प्राथमिक परावर्तक से तीन गुना ज़्यादा चौड़ा है। द वेब का बड़ा परावर्तक जब इसके संवेदनशील उपकरणों के साथ काम करेगा, तो इससे अंतरिक्षविज्ञानियों को अंतरिक्ष में ज़्यादा गहराई से देखने का मौका मिलेगा। इस बड़े परावर्तक शीशे में 18 हिस्से हैं, हर किसी में पीछे एक छोटी मोटर लगी है। इन परावर्तकों को इस तरह से केंद्रित करना होगा, जिससे ब्रह्मांड के शुरुआती तारों से आने वाली इंफ्रारेड किरणों को पकड़ा जा सके।

जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप की लागत

इसे बनाने में 10 बिलियन अमेरिकी डॉलर खर्च (James Webb Space Telescope cost) किए हैं, अनुमानित तौर पर इसकी उम्र 10 साल होगी। द वेब का वज़न 6200 किलोग्राम है।

परीक्षणशाला का एक प्राथमिक लक्ष्य वह युग (इपोच) होंगे, जब तारों का बनना शुरू ही हुआ था। इन तारों के बारे में कहा जाता है “बिग-बैंग” के बाद ब्रह्मांड में जो अंधेरा छाया था, वह इन तारों के प्रकाश से खत्म हुआ था। बता दें बिग-बैंग की यह घटना 13 अरब साल पहले हुई मानी जाती थी। इन खगोलीय वस्तुओं में हुई परमाणु क्रिया से कार्बन, नाइट्रोजन, ऑक्सीजन, फॉस्फोरस और सल्फर जैसे भारी अणुओं का जन्म हुआ, जो जीवन के लिए जरूरी हैं। द वेब का एक दूसरा लक्ष्य, दूसरे ग्रहों के वातावरण का अध्ययन करना है, जिससे शोधार्थियों को यह जानने में मदद मिलेगी कि हमारे सौर मंडल के बाहर भी कोई रहने लायक ग्रह है या नहीं।

मिशन में वैज्ञानिक हेइडी हम्मेल ने टिप्पणी में कहा, “हम एस्ट्रोफिजिक्स की एक नई दुनिया में प्रवेश करने वाले हैं, जहां एक नया मोर्चा होगा; हममें से कई लोगों को यही चीज जेम्स वेब स्पेस टेलिस्कोप को लेकर उत्सुक बनाती है।”

बहुत कम तापमान पर रहेगा टेलिस्कोप

नासा के मुताबिक, जेम्स वेब टेलिस्कोप बहुत कम तापमान पर रहेगा (James Webb Space Telescope will remain at very low temperature)। इसे ठंडा रखने की वजह यह है कि इसे बहुत दूर से आने वाले इंफ्रारेड सिग्नल का परीक्षण करना होगा, इसलिए उन कमज़ोर गर्म किरणों को खोजने के लिए उपकरण को बहुत ठंडा रहने की जरूरत है। द वेब में कई सारे सुरक्षा तंत्र हैं, जो इसे ठंडा रखते हैं और इसे बाहरी चीजों की गर्मी से बचाते हैं। एक “सनशील्ड” इस टेलिस्कोप की सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी से आने वाली गर्मी से रक्षा करते हैं। यह शील्ड टेलिस्कोप को -223 डिग्री सेल्सियस तक ठंडा रखेगी। बेव के दूसरे उपकरणों में भी ठंडे करने के उपकरण लगे होंगे। “नियर-इंफ्रारेड” उपकरण -234 डिग्री सेल्सियम पर काम करेंगे, जब मिड-इंफ्रारेड उपकरण -266 डिग्री सेल्सियस पर काम करेंगे।

ईएसए के वरिष्ठ विज्ञान सलाहकरा मार्क मैककाघरेन ने बताया कि क्यों इन उपकरणों को इतने ठंडे तापमान पर रखा जा रहा है। उन्होंने कहा, “अहम चीज यह है कि इस पूरे उपकरण को बहुत ठंडा रहना है। दरअसल यह टेलिस्कोप -233 डिग्री सेल्सियस पर काम करेगा। केवल तभी यह इंफ्रारेड वेवलेंथ (तरंगदैध्रर्य) पर चमकना बंद करेगा। वहीं हम इससे काम करवाना चाहते हैं। केवल तभी यह दूर के ब्रह्मांड (जहां पहली आकाशगंगाओं की खोज हुई) में स्थित चीजों और दूसरे तारों के आसपास चक्कर लगाने वाले ग्रहों की फोटो ले पाएगा। तो अभी बहुत काम होना बाकी है।”

संदीपन तालुकदार

(न्यूज क्लिक में प्रकाशित खबर का संपादित रूप साभार)

Topics : James Webb Telescope, NASA, ESA, Hubble Telescope, Spitzer Telescope, Origin of Universe, Malindi Station, Spaceport at French Guiana,

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में Guest writer

Check Also

closer look at edema in hindi

जब शरीर के अंग सूज जाते हैं : एडिमा पर करीब से नज़र रखना

नई दिल्ली,06 जुलाई 2022. शरीर में सूजन कई कारणों से हो सकती है। यदि आप …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.