जस्टिस काटजू ने सुनाई मजेदार कहानी, जब भारतीयों ने टाइम पत्रिका को मूर्ख बनाया

जस्टिस काटजू ने सुनाई मजेदार कहानी, जब भारतीयों ने टाइम पत्रिका को मूर्ख बनाया

Justice Katju is narrating a funny story When Indians fooled Time magazine

नई दिल्ली, 18 अप्रैल 2021. भारतीयों की मेधा का लोहा हमेशा से सारी दुनिया में माना जाता रहा है। सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने एक दिलचस्प किस्सा सुनाया है।

जस्टिस मार्कंडेय काटजू, प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष और सुप्रीम कोर्ट ऑफ इंडिया के पूर्व न्यायाधीश हैं। उन्होंने हस्तक्षेप डॉट कॉम के अंग्रेजी पोर्टल hastakshepnews.com पर एक छोटा सा लेख लिखा है, जिसमें बताया गया है कि किस तरह भारतीयों ने अमेरिका की प्रतिष्ठित टाइम मैगजीन को मूर्ख बनाया।

उन्होंने लिखा कि यह घटना लगभग 50 साल पहले की है जब वह इलाहाबाद विश्वविद्यालय में एक छात्र थे, लेकिन यह अभी भी उनकी याद में ताजा है, क्योंकि इसमें भारतीय लोगों की प्रतिभा को दर्शाया गया है।

वह बताते हैं कि एक लेख प्रसिद्ध अमेरिकन टाइम पत्रिका में प्रकाशित हुआ था, जिसमें भारत की काफी आलोचना की गई थी (विवरण उन्हें ठीक से याद नहीं है)।

कुछ भारतीयों ने टाइम के संपादक को पत्र लिखा, जिसमें उन्होंने पूरी तरह से और दृढ़ता से टाईम मैगजीन के लेख में जो लिखा गया था, उसका समर्थन किया और उन्होंने अनुरोध किया कि उनके पत्रों को टाईम मैगजीन के अगले अंक में प्रकाशित किया जाए।

पत्र लेखकों ने अपने नाम में सबसे गंदी और भद्दी गालियां लिखीं (जिनके मुकाबले एमसी, बीसी, बीडब्ल्यू, यूकेपी आदि सभ्य, मधुर और सम्मानजनक हैं)।

टाइम के संपादक और कर्मचारी स्पष्ट रूप से इन हिंदी गालियों से अनभिज्ञ थे, और वे बहुत खुश थे कि भारतीयों ने उनके लेख का समर्थन किया था। इसलिए उन्होंने इन पत्रों को टाईम के अगले अंक में नाम (या बल्कि, गंदी गालियां) के साथ प्रकाशित किया, इस तथ्य से बेखबर कि लेखकों ने उन्हें मूर्ख बनाया था।

वह बताते हैं कि टाईम की कुछ प्रतियां, जिनमें ये पत्र प्रकाशित किए गए थे, वितरित की गई थीं, और उनमें से एक प्रति उन्हें भी हासिल हुई।

हालांकि, ऐसा लगता है कि इसके बाद किसी ने संपादक को सूचित किया कि उन्हें और उनके कर्मचारियों को मूर्ख बनाया गया है, और इसका परिणाम यह हुआ कि उन प्रतियों, जो अभी तक वितरित नहीं की गई थीं, में नाम (बल्कि, गालियां) वितरण से पहले ब्लैक कर दिए गए थे।

जस्टिस काटजू ने अब इस कहानी की सीख बताई है कि भारतीय लोगों के साथ कभी खिलवाड़ मत करो! अब यह सोचना आपका काम है कि जस्टिस काटजू की कहानी की यह सीख सिर्फ विदेशियों पर ही लागू होती है या हमारे राजनेताओं पर भी होती है जो अपनी जनता को मूर्ख समझते हैं।  

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.