सिंधिया के आएंगे अच्छे दिन : कमलनाथ को सड़क पर लाकर बनने जा रहे हैं सीएम

Jyotiraditya Scindia will become chief minister

नई दिल्ली, 20 मार्च 2020 : मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार गिरने के बाद ही भाजपा ने सरकार गठन की कवायद तेज कर दी है। इसको लेकर दिल्ली से लेकर भोपाल तक बैठकों का दौर शुरू हो गया है। एक ऐसी ही बैठक दिल्ली में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के आवास पर हुई, जिसके बाद मध्य प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री को लेकर कयासों का दौर चर्चा में आया है।

इस बैठक में भाजपा के नेता धर्मेंद्र प्रधान और कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत भाजपा के कई नेता शामिल हुए। बताया जा रहा है कि दिल्ली में हुई इस बैठक में मध्य प्रदेश में सरकार गठन को लेकर रणनीति बनाई गई। सूत्रों के मुताबिक मंत्रिमंडल गठन को लेकर इस बैठक में चर्चा हुई।

इस बीच ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिल्ली में प्रेस के साथ बातचीत करते हुए कहा कि जिन विधायकों ने इस्तीफा दिया है, वे सभी आगामी दिनों में होने वाले चुनाव में जीतेंगे।

इससे पहले सिंधिया ने कमलनाथ के इस्तीफे के बाद ट्वीट कर कहा था,

“मध्य प्रदेश में आज जनता की जीत हुई है। हम जनता का विश्वास हासिल कर दोबारा से जनसेवा के पथ पर चलेंगे।”

इससे पहले शुक्रवार सुबह ही विधानसभा में फ्लोर टेस्ट को लेकर चल रही सियासत के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा देने का एलान कर दिया था। इसके बाद ही मध्य प्रदेश में 15 महीने पुरानी कांग्रेस सरकार गिर गई।

इस बीच, भोपाल में भाजपा विधायक दल की आज शाम बैठक हो रही है, जिसमें  ज्योतिरादित्य सिंधिया को विधायक दल का नेता चुन लिये जाने की संभावना है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations