Home » Latest » हिंदी साहित्य का यह दुस्समय है हिंदी भाषा और साहित्य के सत्यानाश की भी राजनीति है
Kadambini and Nandan cease publication

हिंदी साहित्य का यह दुस्समय है हिंदी भाषा और साहित्य के सत्यानाश की भी राजनीति है

हिंदी साहित्य का यह दुस्समय है।

राजनीति, हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की है और हिंदी भाषा और साहित्य के सत्यानाश की भी राजनीति है।

Hindi literary magazines have already closed

हिंदी की साहित्यिक पत्रिकाएं पहले ही बंद कर दी गईं। लघु पत्रिकाएं किसी तरह निकल रही हैं अजब जिजीविषा और गज़ब प्रतिबद्धता के साथ, जिन्हें न सत्ता का समर्थन है और न जनता का।

राष्ट्रभाषा हिन्दी के साहित्य का कोई पाठक नहीं है।

हिंदी जनता मेहनतकश ज्यादा है, जिनकी रोज़ी रोटी गम्भीर खतरे में हैं। बुनियादी जरूरतों और सेवाओं के लिए उसकी जेब में पैसे नहीं होते। किताबें कहाँ से खरीदें?

इस जनता के लिए कोई साहित्य प्रकाशित नहीं होता, क्योंकि यह घाटे का सौदा है।

पाठ्यक्रम, पुस्तकालय और सरकारी खरीद के लिए भारतीय भाषाओं में अंग्रेज़ी से भी महंगी किताबें छपी जाती हैं जो जनता की औकात से बाहर हैं।

यह हिंदी जनता को अपढ़-कुपढ बनाये रखने और ज्ञान विज्ञान से उन्हें वंचित करके अंधेर नगरी का आलम बनाए रखने की साजिश है।

ऐसी कैसी राष्ट्र भाषा, जिसके पाठक न हों?

बाकी भारतीय भाषाओं के पाठक हैं तो हिंदी के क्यों नहीं है?

पहले अखबारों में साहित्य होता था। रविवारीय परिशिष्ट साहित्यिक होता था।

साप्ताहिक हिंदुस्तान और साप्ताहिक धर्मयुग जैसी बेहद लोकप्रिय पत्रिकाएं छपती थीं।

अब क्यों नहीं?

हिंदी के नाम विदेश यात्राएं करके, पुरस्कार सम्मान पाने वाले, हिंदी प्रचार-प्रसार के लिए मोटी तनख्वाह वाले अफसर, संस्थानों, निदेशालयों और विश्वविद्यालयों के मठाधीश जवाब देंगे?

कादम्बिनी और नंदन का प्रकाशन बंद | Kadambini and Nandan cease publication

आज फिर बुरी खबर है कि कादम्बिनी भी बन्द कर दी गई है। इसके साथ बच्चों को साहित्य से जोड़ने का उपक्रम नंदन भी बंद हो गया है।

इनके अवसान पर हिंदी समाज के इस शोक समय में “प्रेरणा अंशु” और “हस्तक्षेप” की ओर से हमें हिंदी समाज के प्रति सहानुभूति है।

ऐसे में प्रेरणा अंशु जैसी पत्रिकाओं का प्रकाशन बेहद जरूरी है, जो हम हर कीमत पर जारी रखेंगे और जनता को साहित्य से, ज्ञान-विज्ञान से भी जोड़ेंगे। यकीनन।

आप हमारे साथ हैं?

पलाश विश्वास

देखें फेसबुक पर हरीश पाठक की टिप्पणी

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

दिनकर कपूर Dinkar Kapoor अध्यक्ष, वर्कर्स फ्रंट

सस्ती बिजली देने वाले सरकारी प्रोजेक्ट्स से थर्मल बैकिंग पर वर्कर्स फ्रंट ने जताई नाराजगी

प्रदेश सरकार की ऊर्जा नीति को बताया कारपोरेट हितैषी Workers Front expressed displeasure over thermal …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.