Home » Latest » करिश्मा का आक्रोश : क्या सभी समस्याओं का हल कलाकारों को ही करना है?
Karishma Manandhar

करिश्मा का आक्रोश : क्या सभी समस्याओं का हल कलाकारों को ही करना है?

Karishma Manandhar :  Do artists have to solve all the problems?

कोरोना वायरस पर नेपाली अदाकारा करिश्मा मानन्धर का फूटा गुस्सा

Nepali actress Karisma Manandhar’s anger over Corona virus

काठमांडू। कोरोना की महामारी ने विश्व को ही आतंकित कर दिया है। इसके विरुद्ध लड़ने के लिए हरेक देश के कलाकार अपनी अपनी सरकारों को सहयोग कर रहे हैं। बॉलीवुड के कलाकारों द्वारा सरकार को दी गई मदद के बारे में चारो ओर मीडिया में चर्चा हो रही हैं।

ऐसी अवस्था में नेपाली कलाकारों द्वारा भी सरकार को सहयोग करना चाहिए जैसे समाचार कुछ मीडिया कर्मियों ने बनाये हैं। कुछ ने कलाकारों के मौन होने पर उनकी आलोचना भी की है। इस आलोचना के प्रति अभिनेत्री करिश्मा मानन्धर आग बबूला हो गई हैं। उन्होंने सामाजिक संजाल में एक स्टेटस पोस्ट करते हुए अपना आक्रोश व्यक्त किया है- “सभी समस्याओंका समाधान कलाकारों को ही करना है!”

करिश्मा ने लिखा है,

”क्या कह रहे हो? क्या सेलिब्रटी को ही सभी समस्याओं का समाधान करना है? तो फिर सरकार का क्या काम? करिश्मा ने क्या हम लोग धुर्मुस-सुन्तली, रवि लामिछाने हैं कहते हुए प्रश्न किया तथा भगवान को ढूंढने का आग्रह भी किया है। घुमा फिराकर उन्होंने कहा कि ऐसी ही परिस्थितियों के लिए हम लोगों ने वोट दिए हैं।”

साभार – रातोपाटी

Topics – Nepali actress Karisma Manandhar,Nepali actress Karisma Manandhar’s anger,anger over Corona virus,कोरोना वायरस पर नेपाली अदाकारा करिश्मा मानन्धर,Karishma Manandhar news in Hindi, Nepal news in Hindi,

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

paulo freire

पाओलो फ्रेयरे ने उत्पीड़ियों की मुक्ति के लिए शिक्षा में बदलाव वकालत की थी

Paulo Freire advocated a change in education for the emancipation of the oppressed. “Paulo Freire: …