Apples in kashmir : क्यों लड़खड़ा रहा कश्मीर का सेब व्यापार ? क्या सस्ते ईरानी सेब बने वजह?

Apples in kashmir : क्यों लड़खड़ा रहा कश्मीर का सेब व्यापार ? क्या सस्ते ईरानी सेब बने वजह?

Kashmir apple industry is faltering because of cheap Iranian apples

श्रीनगर : कश्मीर घाटी में 24 अरब रुपये से अधिक मूल्य के सेब अपना बाजार खोने के कगार पर हैं। सेब व्यापारियों का दावा है कि सस्ते ईरानी सेबों ने आ कर भारतीय बाजारों में धूम मचा दी है, जिससे उच्च गुणवत्ता वाले कश्मीरी सेब की मांग (Demand for high quality Kashmiri apples) और कीमतों में भारी गिरावट आई है।

कश्मीर के प्रमुख सेब व्यापारियों के अनुसार, उत्पादकों और व्यापारियों के पास बिक्री की बाट जोह रहे सेब के 1.5 करोड़ से अधिक बक्से पड़े हैं, लेकिन देश के प्रमुख फल बाजारों में ईरानी सेब की हालिया आवक के कारण हमारे सेब की कोई मांग नहीं है। कश्मीर में सेब कारोबारियों (apple traders in kashmir) का कहना है कि घाटी की कोल्ड स्टोरेज इकाइयों में सेब के कई डिब्बे फरवरी के बाद ही भेजे जा सकेंगे। लेकिन सेब के सड़ने का खतरा रहता है।

Kashmiri apple vs Irani apple (कश्मीरी सेब बनाम ईरानी सेब)

श्रीनगर में कश्मीर वैली फ्रूट एसोसिएशन के अध्यक्ष बशीर अहमद बशीर (Bashir Ahmed Bashir, president of Kashmir Valley Fruit Association in Srinagar) ने न्यूज़क्लिक को बताया कि ईरानी सेब सबसे पहले पिछले साल आए, जिसका फल संघों और उत्पादकों ने विरोध किया था।

ईरान पर प्रतिबंध की वजह से सस्ते बिक रहे ईरानी सेब

बशीर कहते हैं, इस साल सेब की पैदावार अच्छी रही, लेकिन ईरान में भी ऐसा ही था।

“चूंकि ईरान पर प्रतिबंध (sanctions on Iran) हैं, इसलिए उसके सेब कारोबारियों ने भारत का रुख किया है। हमने सरकार को पहले ही लिखा था कि अगर ईरानी सेब की आवक होती है,तो यह कश्मीर के सेब उद्योग (Kashmir’s Apple Industry) को प्रभावित करेगी। प्रतिबंधों के कारण ईरानी सेब सस्ते दामों पर बेचे जाते हैं,”।

क्यों आई कश्मीरी सेब की मांग में गिरावट? | Why did the demand for Kashmiri apples fall?

पिछले महीने से ईरानी सेब भारतीय बाजारों में थोक में आ गए हैं, जिससे कश्मीरी सेब की मांग में गिरावट आई है। बशीर कहते हैं कि कीमतों में 50 फीसदी की भारी कमी आई है। यह हमारे लिए मुश्किल हो गया है, हम बड़े पैमाने पर इससे नुकसान उठा रहे हैं, कुछ ऐसा जो सीए स्टोर्स में भी उपज को प्रभावित करेगा।

कश्मीर में सेब किसानों मांग क्या है? | What is the demand of apple farmers in Kashmir?

कश्मीर में सेब किसान मांग कर रहे हैं कि भारत सरकार ईरानी सेब को देश के बाजार में प्रवेश करने से रोके या कम से कम आयात कर बढ़ाए ताकि घाटी से सेब के उत्पादन को कुछ राहत मिले।

एशिया की सबसे बड़ी फल मंडियों में से एक है सोपोर फल मंडी

उत्तरी कश्मीर में सोपोर फल मंडी (Sopore Fruit Market) लगभग 40 साल पहले स्थापित की गई थी। 5000 करोड़ रुपये के व्यापार के साथ, यह फल उत्पादन के मामले में एशिया की सबसे बड़ी फल मंडियों में से एक है।

सोपोर मंडी के एक सेब व्यापारी जहूर तांत्रे का कहना है कि वे हर साल चार करोड़ पेटी भारतीय बाजारों, बांग्लादेश और नेपाल के बाजारों में भेजते हैं। फिर भी, ईरानी सेब की चुनौती कुछ ऐसी है, जिससे वे तब तक नहीं निपट सकते जब तक कि सरकार इसमें हस्तक्षेप न करे।

प्रभावित होंगे हिमाचल के सेब किसान भी

“ईरानी सेब न केवल हमारी वर्तमान उपज के लिए बल्कि आने वाले गर्मियों के महीनों के लिए ठंडे या सामान्य भंडारण में हमारे पास मौजूद हर चीज के लिए खतरा है। अगर मौजूदा रुझान जारी रहा तो हिमाचल प्रदेश के किसानों और कश्मीरी किसानों दोनों को गंभीर नुकसान का सामना करना पड़ेगा। हमारे सेब दुकानों में सड़ेंगे।

कश्मीर के सेब उद्योग का कुल कारोबार (Total turnover of Kashmir’s apple industry)

कश्मीर का सेब उद्योग 8000 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य का है, जो इस क्षेत्र की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माना जाता है, जिसमें 30 लाख से अधिक लोग प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से व्यापार में शामिल हैं। यह उद्योग जम्मू-कश्मीर के कुल सकल घरेलू उत्पाद का लगभग 8 फीसदी योगदान देता है और 8.73 करोड़ व्यक्ति-दिवस कार्य प्रदान करता है। पिछले कुछ वर्षों में, सेब किसान जलवायु परिवर्तन (Climate change), उथल-पुथल और फलों के राजनीतिकरण से जूझ रहे हैं। इसके साथ ही कुछ लोगों ने आरोप लगाया हालांकि आतंकवादी हमलों के अधिकतर शिकार किसान ही होते हैं, इस तथ्य के बावजूद सेब की नकदी फसल उग्रवाद की सहायता करती है।

सोपोर मंडी के अध्यक्ष फैयाज अहमद (Fayaz Ahmed, President of Sopore Mandi) का कहना है कि राजनीतिक उथल-पुथल और अन्य कारकों के कारण कश्मीर में सेब उद्योग को पिछले पांच वर्षों में एक के बाद एक कई तरह का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा “हमने इस साल बेहतर परिणाम की उम्मीद की थी। दुर्भाग्य से, इस साल, बिना करों के बाजार में प्रवेश करने वाले ईरानी सेब के आगमन ने हमारी समस्याओं को और बढ़ा दिया। ”

श्रीनगर के एक सेब व्यापारी फिरदौस अहमद ने अधिकारियों से इस मामले में हस्तक्षेप करने की अपील करते हुए उम्मीद जताई है कि सरकार इस मुद्दे का समाधान करेगी और उद्योग को संकट से बचाएगी।

“यह कुछ लोगों की बात नहीं है। इस धंधे पर लाखों लोग निर्भर हैं। इन लोगों की रोजी-रोटी इसी पर निर्भर करती है और अगर इसे कोई खतरा उत्पन्न होता है तो यह लोगों को आत्महत्या जैसे कठोर कदम अपनाने पर मजबूर कर देगा। हमें उम्मीद है कि प्रधानमंत्री इस मामले में हस्तक्षेप करेंगे, और इस उद्योग और इस पर आश्रित लोगों को बचाएंगे।

अनीस ज़रगर

Web title : Kashmir’s Apple Farmers on Brink as Cheaper Iranian Alternative Takes Over Indian Markets

(न्यूज़क्लिक में प्रकाशित रिपोर्ट का किंचित् संपादित रूप साभार)

Topics : Kashmir apple industry, kashmiri apple vs irani apple, difficulity in kashmir apple industry, size of kashmir apple industry,

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.