केजरीवाल का एक और फर्जीवाल खुला कोविड-19 में

Kejriwal’s another fake disclosed in Covid-19

श्री अशोक पांडे जी की यह पड़ताल जरूर पढ़ें। दिल्ली के दो मुहल्ला क्लीनिक के डॉक्टर पहले संक्रमित हुए और उनसे सैकड़ों। दिल्ली सरकार के अधिकांश अस्पताल में डॉक्टर व स्टाफ संक्रमित हैं।

कैंसर अस्पताल, जहांगीरपुरी वाला अस्पताल बन्द करना पड़ा। सारी दिल्ली में कोरोना भयंकर है, देश के 10 फीसदी मरीज और 5.65 प्रतिशत मौत दिल्ली से हैं।

ऐसे में दिल्ली के पोस्टरबॉय के स्वास्थ्य सेवा सुधार के दावे की जमीनी हक़ीक़त (The ground reality of health care reform claims in Delhi) अशोक का आकलन : —

केजरीवाल ने कल कहा कि 70 साल में कुछ नहीं हुआ, उन्होंने पाँच-छह साल में जो किया उसी के भरोसे कोविड-19 से लड़ रहे हैं। दिल्ली सरकार की वेबसाइट कोविड-19 का इलाज़ कर रहे हॉस्पिटल्स के बारे में कुछ और कहती कहती है –

  • •GTB हॉस्पिटल बना 1987 में 350 बेड्स हैं। 2015 के बाद बढ़त का कोई ज़िक्र वेबसाइट पर नहीं।
  • •डॉ बाबा साहब अम्बेडकर हॉस्पिटल 1991 में बना। 500 बेड से शुरुआत हुई और अब भी उतने ही हैं। 2015 के बाद की कोई रिपोर्ट वेबसाइट पर नहीं।
  • •जीबी पंत हस्पताल 1961 में बना तब 230 बेड थे। 2014 में बढ़ाकर क्षमता 641 बेड की है। उसके बाद की कोई रिपोर्ट नहीं।

दीनदयाल उपाध्याय हॉस्पिटल 1970 में 50 बेड से शुरू हुआ। 1987 में 500 बेड किए गए। 1998 से यह चौबीस घंटे खुलने लगा। 2008 में क्षमता बढ़ाकर 640 बेड की गई। उसके बाद कोई रिपोर्ट नहीं।

लोकनायक हस्पताल 1936 में बना था। 2014-15 के बाद किसी तरह की क्षमता वृद्धि की कोई रिपोर्ट नहीं।

तो वास्तविकता यह है कि दिल्ली में कोविड-19 का इलाज़ पूरी तरह 2014-15 के पहले के बने हस्पतालों के भरोसे है। केजरीवाल साहब के बनाए मोहल्ला क्लिनिक बंद से पड़े हैं। पूरी दिल्ली रेड ज़ोन में है। लेकिन मीडिया मैनेजमेंट और क्रेडिट लूटने से उन्हें कौन रोक सकता है?

(वरिष्ठ पत्रकार पंकज चतुर्वेदी की एफबी पोस्ट का संपादित अंश साभार)

यह भी पढ़ें – 

फ़ौज से मत खेलिए, फ़ौज का हिन्दुत्वकरण मत कीजिये

मजदूरों के उत्पीड़न की आपराधिक जिम्मेदारी चार घंटे में लॉकडाउन करने वाले मोदी जी लें –

किसने कहा था कि जो जहां है, वहीं रहे? सबको खाना मिलेगा, सबको छत मिलेगी? जो लोग गोबर  का ट्रम्प बना रहे थे वे असल में गोबर से क्या बना रहे थे?

Women bear the brunt of humanitarian disasters, including COVID-19

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations