Home » समाचार » देश » भाजपा भक्ति में केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान के बिगड़े बोल, कहा मैं रबर स्टांप नहीं हूं
Kerala Governor Arif Mohammad Khan

भाजपा भक्ति में केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान के बिगड़े बोल, कहा मैं रबर स्टांप नहीं हूं

Kerala Governor Arif Mohammad Khan in BJP devotion, said, I am not a rubber stamp

तिरुवनंतपुरम, 16 जनवरी 2020.  केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान (Kerala Governor Arif Mohammad Khan) ने गुरुवार को कहा कि वह महज एक रबर स्टांप नहीं हैं और अपने स्वयं के दिमाग का उपयोग करेंगे।

खबरें आई थीं कि खान ने स्थानीय निकायों में सदस्यों की संख्या बढ़ाने के लिए केरल कैबिनेट द्वारा अनुमोदित अध्यादेश पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर दिया था। इसके बाद उन्होंने मीडिया को अपनी प्रतिक्रिया दी है।

खान ने कहा कि उन्हें अध्यादेश के बारे में जानने के लिए समय की जरूरत है। साथ ही उन्होंने कहा कि “मैंने कुछ सवाल उठाए हैं, जिनके जवाब की मुझे जरूरत है।”

खान ने कहा कि वह अध्यादेश पर हस्ताक्षर नहीं करेंगे।

Kerala Governor Arif Muhammad Khan on CAA

इस दौरान राज्यपाल ने सुप्रीम कोर्ट में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) को चुनौती देने के चलते विजयन सरकार पर भी हमला किया।

खान ने कहा,

“एक कानूनी कहावत है, न तो मैं और न ही कोई कानून से ऊपर है। स्पष्ट रूप से मैं न्यायपालिका के पास जाने वाले किसी के खिलाफ नहीं हूं, लेकिन राज्य का संवैधानिक प्रमुख होने के नाते, उन्हें (राज्य सरकार) मुझे इसके बारे में सूचित करना चाहिए था। लेकिन इसके बारे में मुझे अखबारों के माध्यम से पता चला। यहां के कुछ लोगों को लगता है कि वे कानून से ऊपर हैं।”

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

विवादास्पद नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जाने के बाद केरल सरकार ने मंगलवार को कहा था कि वह इस कानून के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखेगी, क्योंकि यह देश की धर्मनिरपेक्षता और लोकतंत्र को नष्ट करने की दिशा में उठाया गया कदम है।

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के नेतृत्व वाली सरकार ने सीएए के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाकर यह घोषित करने की मांग की है कि यह कानून संविधान के अनुरूप नहीं है।

केरल सरकार सीएए के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय पहुंची

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

air pollution

ठोस ईंधन जलने से दिल्ली की हवा में 80% वोलाटाइल आर्गेनिक कंपाउंड की हिस्सेदारी

80% of volatile organic compound in Delhi air due to burning of solid fuel नई …

Leave a Reply