घरेलू नौकरानी से आलो आँधारी की मशहूर लेखिका बनने वाली बेबी हालदार का आज है जन्मदिन

Know How baby haldar became a writer in India

आज प्रेरणा अंशु परिवार की मशहूर लेखिका बेबी हालदार का जन्म दिन है। हम सभी की ओर से उनका अभिनन्दन।

बेबी हालदार स्त्री अस्मिता का जीवंत प्रतीक है। घरेलू नौकरानी से दुनिया भर की सभी भाषाओं में अनुदित आलो आंधारि का सारांश की लेखिका बनने का उनका संघर्ष पितृसत्तात्मक भारतीय समाज की हर स्त्री का जीवन यथार्थ है।

जनसत्ता कोलकाता से जुड़े होने के कारण और अशोक सेकसरिया से हमारे सम्बन्धों की वजह से आलो आँधारी की पांडुलिपि सबसे पहले अरविंद चतुर्वेद के हाथों में आई थी सबरंग में प्रकाशन के लिए। तब इस पुस्तक के प्रकाशक संजय भारती भी जनसत्ता में थे। हम सभी ने बेबी की संघर्ष यात्रा को सबसे पहले महसूस किया था प्रबोधजी और अशोकजी के बाद।

मेरे दिनेशपुर आने के बाद प्रेरणा अंशु के छात्रों के लिए आयोजित लेखक से मिलिए कार्यक्रम में दो साल पहले वह आयी तो प्रेरणा अंशु परिवार की सदस्य बन गयी।

बेबी अब बेबी नहीं, विश्वव्यापी है और हमें उन पर गर्व है।

पिछले साल रूपेश और मुन्ना कोलकाता जाकर उनके घर ठहरे थे।

बेबी बसंतीपुर में मेरे घर भी आई थी। जिस तरह गांव की लड़कियां और औरतें बेबी का नाम सुनकर हमारे घर देखते देखते जमा हो गईं, उससे मुझे अहसास हुआ कि आज भी हमारी लड़कियों का संघर्ष बेबी का ही संघर्ष है और वे बेबी से प्रेरित होती हैं।

स्त्री हर क्षेत्र में नेतृत्व करती है लेकिन परिवार और समाज  में उस्की आज भी सुनवाई नहीं होती। इस समाज को बदलने के लिए हजारों हजार बेबी हालदार की जरूरत है।

प्रेरणा अंशु परिवार की तरफ से अपनी बेबी को जन्मदिन की बधाई।

पलाश विश्वास

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations