Home » Latest » जानिए अश्लीलता फैलाने पर कितनी हो सकती है सजा ?
Law and Justice

जानिए अश्लीलता फैलाने पर कितनी हो सकती है सजा ?

Know how much punishment can be incurred on spreading pornography?

भारतीय दंड संहिता की धारा-292 | Section 292 of Indian Penal Code in Hindi

Spreading obscenity in society also comes under the category of serious crime. Showing, distributing pornography, pornographic images or porn movies and making any profit from it or any involvement in any kind of profit is a crime in the eyes of law.

समाज में अश्लीलता फैलाना भी संगीन गुनाह की श्रेणी में आता है। अश्लील साहित्य, अश्लील चित्र या अश्लील फिल्मों (Porn Movies) को दिखाना, वितरित करना और इससे किसी प्रकार का लाभ कमाना या लाभ में किसी प्रकार की कोई भागीदारी कानून की नजर में अपराध है और ऐसे अपराध पर आईपीसी की धारा 292 लगाई जाती है। इसके दायरे में वो लोग भी आते हैं जो अश्लील सामग्री को बेचते हैं या जिन लोगों के पास से अश्लील सामग्री बरामद होती है। अगर कोई पहली बार आईपीसी की धारा 292 के तहत दोषी पाया जाता है तो उसे 2 साल की कैद और 2 हजार रुपए तक का जुर्माना हो सकता है। दूसरी बार या फिर बार-बार दोषी पाए जाने पर 5 साल तक की कैद और 5 हजार रुपए तक का जुर्माना हो सकता है।

भारतीय दंड संहिता की धारा-294 | Section 294 of Indian Penal Code in Hindi

सार्वजनिक जगहों पर अश्लील हरकतें करने (Performing pornographic acts in public places) या अश्लील गाना गाने पर आईपीसी की धारा 294 लगाई जाती है। इस मामले में गुनाह अगर साबित हो जाए तो तीन महीने तक की कैद या जुर्माना या दोनों हो सकता है।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में कानूनी परामर्श नहीं है। यह सिर्फ जनहित में एक जानकारी मात्र है। कोई निर्णय लेने से पहले अपने विवेक का प्रयोग करें।)

स्रोत- देशबन्धु

Kanoon ki puri jankari

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply