आपकी पत्नी के नाम पर खरीदी संपत्ति हो सकती है बेनामी संपत्ति और इस पर हो सकती है सजा… यदि

Law and Justice

जानिए बेनामी प्रॉपर्टी रखने पर कितनी सजा हो सकती है?

बेनामी प्रॉपर्टी का सीधा मतलब (Anonymous property directly means) होता है बिना किसी के नाम की। मतलब अगर कोई व्यक्ति किसी प्रॉपर्टी को अपने नाम से न खरीदकर किसी और के नाम से खरीदता है, लेकिन उस प्रॉपर्टी से होने वाले लाभ को स्वयं हासिल करता है, तो ऐसे लेनदेन को बेनामी लेनदेन माना जाता है। जिस व्यक्ति के नाम से ये बेनामी प्रॉपर्टी खरीदी जाती है वह व्यक्ति बेनामदार कहलाता है।

Know how much punishment there can be for owning Benami property?

ऐसा लेनदेन भी बेनामी लेनदेन माना जायेगा जिसमें एक व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को धन देकर उससे कोई प्रॉपर्टी खरीदवाता है और उस प्रॉपर्टी से होने वाले लाभ को स्वयं ही लेता है, प्रॉपर्टी से होने वाला (Property benefit) लाभ प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष किसी भी रूप में हो सकता है ।

बेनामी संपत्ति में कौन-कौन सी चीजें शामिल हैं ? What items are included in benami property act?

दरअसल ज्यादातर लोग बेनामी संपत्ति शब्द सुनकर इसका अभिप्राय सिर्फ रियल स्टेट से जुड़े लेनदेन को समझ बैठते हैं मगर बेनामी संपत्ति सिर्फ रियल स्टेट में की गयी खरीददारी ही नहीं है बल्कि अगर अपने कोई शेयर भी किसी दूसरे व्यक्ति के नाम से खरीदे हैं तो वो भी बेनामी संपत्ति कहलायेंगे, बेनामी संपत्ति के अंतर्गत चल, अचल, कोई हित या अधिकार यहाँ तक की कोई लीगल दस्तावेज़ भी शामिल है।

क्या अपनी पत्नी के नाम पर या अपने बच्चों के नाम पर खरीदी गयी संपत्ति भी बेनामी संपत्ति कहलाएगी ?

हाँ, अगर आपने अपनी पत्नी या अपने बच्चों के नाम पर कोई प्रॉपर्टी खरीदी है मगर उसे इनकम टैक्स return में नहीं दिखाया है तो ऐसी संपत्ति भी बेनामी संपत्ति के दायरे में आएगी।

बेनामी संपत्ति रखने पर सजा और जुर्माना

बेनामी संपत्ति रखने वालों के लिए सरकार ने सजा और जुर्माना दोनों का कानून बनाया है। इसमें सजा कम से कम 1 साल या फिर अधिकतम 7 साल हो सकती है। इसमें जुर्माना प्रॉपर्टी के फेयर मार्केट वैल्यू का 25 प्रतिशत लगाया जायेगा।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में कानूनी परामर्श नहीं है। यह सिर्फ एक जानकारी है। कोई निर्णय लेने से पहले अपने विवेक का प्रयोग करें। जानकारी का स्रोत- देशबन्धु)

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

Leave a Reply