इस साल रिकॉर्ड ऊंचाई पर रहा CO2 उत्सर्जन

इस साल रिकॉर्ड ऊंचाई पर रहा CO2 उत्सर्जन

जानिए वर्ष 2022 में कैसा रहा CO2 उत्सर्जन का हाल

नई दिल्ली, 14 नवंबर 2022. वर्ष 2022 ख़त्म होने को आ गया मगर अब भी वैश्विक स्तर पर कार्बन उत्सर्जन रिकॉर्ड लेवेल पर है। इस बात की जानकारी मिलती है ग्लोबल कार्बन प्रोजेक्ट साइंस टीम (Global Carbon Project Science Team) से, जिसका कहना है कि वर्ष 2022 में वैश्विक स्तर पर कार्बन का उत्सर्जन (Global carbon emissions in 2022) रिकॉर्ड ऊंचाई पर बना रहा। इसमें गिरावट के कोई निशान नहीं हैं जबकि वैश्विक तापमान में वृद्धि को डेढ़ डिग्री सेल्सियस से नीचे रखने के लिए कार्बन उत्सर्जन में गिरावट लाना अनिवार्य है।

उत्सर्जन का मौजूदा स्तर अगर बना रहा तो क्या होगा?

अगर उत्सर्जन के मौजूदा स्तर बने रहे तो अगले नौ वर्षों के दौरान ग्लोबल वार्मिंग में वृद्धि के डेढ़ डिग्री सेल्सियस की सीमा को पार कर जाने की आशंका 50% तक बढ़ जाएगी।

इस नई रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि वर्ष 2022 में वैश्विक स्तर पर कुल 40.6 बिलियन टन कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन होगा। ऐसा जीवाश्म ईंधन के कारण उत्पन्न होने वाली कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन (carbon dioxide emissions caused by fossil fuels) के कारण हो रहा है, जिसके वर्ष 2022 के मुकाबले 1% बढ़ने का अनुमान है और यह 36.6 गीगा टन तक पहुंच जाएगा। यह वर्ष 2019 में कोविड-19 महामारी से पहले के स्तर से कुछ ज्यादा होगा। वर्ष 2022 में भूमि उपयोग में बदलाव, जैसे कि वनों के कटान से 3.9 गीगा टन कार्बन डाइऑक्साइड पैदा होने का अनुमान है।

कोयला और तेल से होने वाले उत्सर्जन की वर्ष 2022 में मात्रा वर्ष 2021 के स्तरों से अधिक होने का अनुमान है।

उत्सर्जन में होने वाली कुल बढ़ोत्तरी में तेल सबसे बड़ा योगदान साबित हो रहा है। तेल से होने वाले उत्सर्जन में वृद्धि को अधिकतर कोविड-19 महामारी के कारण लागू प्रतिबंधों के बाद अंतरराष्ट्रीय विमानन के विलंबित प्रतिक्षेप के जरिए समझाया जा सकता है।

दुनिया के प्रमुख उत्सर्जन करने वाले देशों में वर्ष 2022 की तस्वीर मिली जुली है। जहां चीन में उत्सर्जन की दर में 0.9% और यूरोपीय यूनियन में 0.8% की गिरावट की संभावना है। वहीं, अमेरिका (1.50) प्रतिशत, भारत (6%) तथा दुनिया के बाकी अन्य देशों में (कुल मिलाकर 1.7%) वृद्धि होने का अनुमान है।

ग्लोबल वार्मिंग को डेढ़ डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने की 50% संभावनाओं को जिंदा रखने के लिए शेष कार्बन बजट को घटाकर 380 गीगा टन कार्बन डाइऑक्साइड (अगर 9 साल बाद उत्सर्जन वर्ष 2022 के स्तर पर रहता है) और 2 डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने के लिए 1230 गीगा टन सीओ2 कर दिया गया है।

वर्ष 2050 तक कार्बन उत्सर्जन को शून्य करने का लक्ष्य हासिल करने के लिए अब हर साल कार्बन उत्सर्जन में 1.4 गीगा टन की गिरावट लाने की जरूरत होगी। इससे जाहिर होता है कि दुनिया को कितने बड़े पैमाने पर काम करना होगा।

कार्बन को सोखने और उसे जमा करने का काम करने वाले महासागर और जमीन कुल कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन का लगभग आधा हिस्सा खुद में समाहित करने का सिलसिला जारी रखे हुए हैं। हालांकि वर्ष 2012 से 2021 के बीच जलवायु परिवर्तन की वजह से महासागरों और लैंड सिंक द्वारा कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित करने की क्षमता में क्रमशः 4% और 17% की अनुमानित गिरावट आई है।

इस साल के कार्बन बजट से जाहिर होता है कि जीवाश्म ईंधन से होने वाले उत्सर्जन में दीर्घकालिक बढ़ोत्तरी की दर अब कम हो चुकी है। जहां 2000 के दशक के दौरान इसमें अधिकतम औसत वृद्धि 3% प्रतिवर्ष थी, वहीं पिछले दशक में यह घटकर करीब 0.5% प्रतिवर्ष हो गई।

रिसर्च टीम में शामिल यूनिवर्सिटी ऑफ़ एक्सीटर, यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंग्लिया (यूएई), सिसरो और लुडविग मैक्सिमिलियन यूनिवर्सिटी म्युनिख ने उत्सर्जन में दीर्घकालिक बढ़ोत्तरी की दर में गिरावट का स्वागत किया है लेकिन यह भी कहा है कि यह गिरावट मौजूदा जरूरत के मुकाबले काफी कम है।

यह तथ्य ऐसे समय सामने आए हैं जब दुनिया भर के नेता मिस्र के शर्म अल शेख में हो रही सीओपी27 में जलवायु परिवर्तन के संकट पर विचार-विमर्श कर रहे हैं।

एक्सीटर के ग्लोबल सिस्टम्स इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर पियरे फ्रीडलिंगस्टीन (Pierre Friedlingstein) ने कहा “जब हमें तेजी से कमी लाने की जरूरत है, तब इस साल हम वैश्विक स्तर पर जीवाश्म ईंधन से उत्पन्न कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन में एक बार फिर वृद्धि देख रहे हैं।”

दुनिया के 100 से ज्यादा वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम द्वारा तैयार की गई ‘ग्लोबल कार्बन बजट रिपोर्ट‘ कार्बन के स्रोतों और सिंक दोनों ही का परीक्षण करती है। यह रिपोर्ट पूरी तरह से पारदर्शी ढंग से स्थापित कार्यप्रणाली के आधार पर एक वार्षिक और सहकर्मियों द्वारा समीक्षित अपडेट प्रदान करता है। 

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner