जानिए इंडोनेशिया ने सभी लिक्विड मेडिसिन क्यों की प्रतिबंधित? भारत से क्या है संबंध?

जानिए इंडोनेशिया ने सभी लिक्विड मेडिसिन क्यों की प्रतिबंधित? भारत से क्या है संबंध?

Indonesian government banned all syrups for children

इंडोनेशिया को कुछ दवाएं मिली हैं जिनमें बच्चे के एक्यूट किडनी इंजरी से जुड़े तत्व शामिल हैं

मुंबई, 19 अक्टूबर, (न्यूज़ हेल्पलाइन)। इंडोनेशिया ने बुधवार को देश में सभी सिरप और तरल दवाओं की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। इंडोनेशिया सरकार ने यह फैसला 99 बच्चों की मौत के बाद लिया है।

अंतर्राष्ट्रीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इन बच्चों को तरल दवाएं दी गईं थीं और संदेह है कि इन लिक्विड मेडिसन्स की वजह से बच्चों को एक्यूट किडनी इंजरी (acute kidney injury-AKI) हुई थी।

इस वर्ष की शुरुआत से अब तक इंडोनेशिया के 20 राज्यों में इस बीमारी के 206 मामले सामने आ चुके हैं। इंडोनेशिया के स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद सयारिल मंसूरी (Mohamed Sayaril Mansoori, spokesman for the Indonesian Ministry of Health) ने कहा- सरकार ने देश के सभी अस्पतालों, हेल्थ वर्कर्स और दवाई की दुकानों को फिलहाल सिरप न बेचने को कहा है। अब प्रिस्क्रिप्शन होने के बावजूद ये दवाएं नहीं खरीदी जा सकेंगी। इस साल जनवरी से जो मामले आने शुरू हुए, वे अगस्त के आखिर तक काफी बढ़ गए। इसके बाद हेल्थ मिनिस्ट्री और पीडियाट्रिशियन एसोसिएशन ने एक्सपर्ट टीम बनाकर मामले की जांच शुरू की। फिलहाल बीमारी के 65% मरीजों का इलाज राजधानी जकार्ता में चल रहा है।

 भारत की एक कंपनी के 4 कफ-सिरप को लेकर डब्ल्यूएचओ ने जारी की थी चेतावनी?

इंडोनेशिया की फूड एंड ड्रग एजेंसी का कहना है कि गाम्बिया में बिकने वाली कफ-सिरप देश में नहीं बेचे जाते। साथ ही इसमें मौजूद इंग्रीडिएंट्स भी इंडोनेशिया में बैन हैं। अब इंडोनेशिया में बिकने वाली किसी भी चाइल्ड मेडिसिनल सिरप में ये इंग्रीडिएंट्स नहीं मिलेंगे। तो वहीx करीब दो हफ्ते पहले गाम्बिया में 66 बच्चों की मौत के बाद वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) ने भारत की एक फार्मास्युटिकल्स कंपनी के बनाए 4 कफ-सिरप को लेकर अलर्ट जारी किया था। WHO ने कहा था कि ये प्रोडक्ट पूरी तरह स्टैंडर्ड्स को पूरा नहीं करते। इनके इस्तेमाल से बच्चों को खतरा हो सकता है। भारत में इस मामले की जांच जारी है।

Know why Indonesia banned all liquid medicines?

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner