COVID19 का दुःसमय : कोरबा के कोयला समुदाय पहले से ही सामान्य से दोगुना अधिक सांस की बीमारियों से पीड़ित हैं

Coal

Korba’s coal communities suffer from twice the normal respiratory diseases in times of COVID19: SHRC Chhattisgarh

कोविड-19 महामारी सारी दुनिया में कहर बरपा रही है, लेकिन एक हालिया अध्ययन में दावा किया गया है कि कोयला आधारित थर्मल पावर प्लांट के आसपास रहने वाले समुदाय इस महामारी का आसान शिकार हो सकते हैं।

राज्य स्वास्थ्य संसाधन केंद्र, छत्तीसगढ़, { Chhattisgarh’s State Health Resource Centre (SHRC)} जो कि एक स्वायत्त संगठन है, जिसे “स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग छत्तीसगढ़ के लिए अतिरिक्त तकनीकी क्षमता” के रूप में डिजाइन किया गया था तथा इसकी स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार की प्रक्रिया में सहायता प्रदान करने में मुख्य भूमिका है, ने छत्तीसगढ़ के कोरबा में कोयला आधारित थर्मल पावर प्लांट के आसपास रहने वाले कोरबा में समुदायों पर स्वास्थ्य प्रभाव का आकलन किया। इस अध्ययन में पाया गया कि थर्मल पावर प्लांट के आस-पास रहने वाली आबादी (population living near thermal power plants) को कण के मामले में अधिक जोखिम होता है जिसके परिणामस्वरूप सामान्य आबादी की तुलना में उच्च श्वसन बीमारियां होती हैं। ऐसे समय जब देश पर कोरोनावायरस, जो मनुष्य की श्वसन प्रणाली पर हमला करता है, के खतरे, के मद्देनजर लॉकडाउन है, यह अध्ययन बताता है कि COVID-19 जैसी महामारी के खतरों के लिए यह समूह आसान शिकार हो सकता है।

इस क्रॉस-सेक्शनल अध्ययन (cross-sectional study) में कोरबा के बिजली संयंत्रों के 10 किमी के दायरे में रहने वाली प्रत्यक्ष आबादी के नमूनों की तुलना की गई। अध्ययन के लिए नमूनों का दूसरा सैंपल कोरबा से 20 किलामीटर दूर स्थित एक गाँव Katghora (कटघोरा) से लिया गया। कटघोरा कोरबा जिले में एक नगर पालिका है।

निष्कर्षों से अस्थमा के लक्षणों और ब्रोंकाइटिस जैसी श्वसन संबंधी बीमारियों में काफी वृद्धि देखी गई, जो उजागर समूहों के बीच क्रमशः 11.79% और 2.96% थी। दोनों बीमारियां कोरबा समूह में 5.46% और कटघोरा समूह में 0.99% थी। इससे यह बात निकलकर सामने आई कि थर्मल पावर प्लांटों के आसपास रहने वाले समुदायों में रोग का बोझ तुलनात्मक रूप से काफी बढ़ गया है।

कोरबा में दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी खुली खदानें गेवरा और इसके आसपास के 10 बिजली संयंत्र हैं, जो 6000MW बिजली का उत्पादन करते हैं।

क्षेत्र में हवा की गुणवत्ता थर्मल पावर प्लांट और फ्लाई ऐश के उत्सर्जन से विशेष रूप से प्रभावित होती है। इसके अलावा, नदी में शीतल जल के बहिर्वाह ने वनस्पतियों, जीवों और मछली संसाधनों को प्रभावित किया है, और कोयला भंडारण यार्ड और राख तालाबों से भूजल प्रदूषित है।

जन स्वास्थ्य सहयोग बिलासपुर, से संबद्ध डॉ योगेश जैन के मुताबिक,

“COVID-19 के वायु प्रदूषण से प्रभावित समुदायों में कठिन प्रहार करने की आशंका है। ऐसा इसलिए है क्योंकि लंबे समय तक वायु प्रदूषण के संपर्क में रहने से अंगों के पूरी तरह से काम करने की क्षमता कम हो जाती है और संक्रमण और बीमारियों की आशंका अधिक होती है। वर्तमान COVID-19 महामारी के संदर्भ में, ऐसे व्यक्तियों को गंभीर जटिलताओं सहित उच्च जटिलताओं का सामना करने की आशंका है।”

इन निष्कर्षों के आधार पर, एसएचआरसी छत्तीसगढ़ ने क्षेत्र में निवासियों के स्वास्थ्य के मुद्दों को पूरा करने के लिए, ‘प्रदूषण भुगतान सिद्धांत’ के तहत, राज्य के स्वास्थ्य विभागों द्वारा प्रदूषक की लागत पर संचालित एक विशेष स्वास्थ्य देखभाल बुनियादी ढांचे की स्थापना के लिए तत्काल स्वास्थ्य सिफारिशें की हैं।

एसएचआरसी ने सिफारिश की है कि राज्य सरकार क्षेत्र में निवासियों के स्वास्थ्य पर विभिन्न उद्योगों का संचयी स्वास्थ्य प्रभाव अध्ययन आयोजित करे, और क्षेत्र के लिए एक आवश्यक स्वास्थ्य शमन योजना तैयार करे।

एसएचआरसी के कार्यकारी निदेशक डॉ प्रबीर चटर्जी ने कहा,

“यह अध्ययन महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बिजली संयंत्र के संचालन के कारण जनसंख्या के स्वास्थ्य के बोझ का दस्तावेज है। इस तरह के अध्ययन से हमें कमजोर आबादी के समूहों की पहचान करने में मदद मिलती है। वे हमें उन सेवाओं को डिजाइन करने में मदद करते हैं जो उनके लिए सबसे अधिक आवश्यक हैं। न सिर्फ सामान्य परिस्थितियों के दौरान बल्कि COVID जैसी महामारियों के दौरान भी। कोरबा के लिए हमें स्वास्थ्य की सतत निगरानी की एक प्रक्रिया की आवश्यकता है। और हमें निवासियों के बीच वायु प्रदूषण संबंधी समस्याओं के शमन के लिए समर्पित एक मजबूत स्वास्थ्य प्रणाली की आवश्यकता है।”

कोरबा राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम (NCAP), जिसका उद्देश्य 2024 तक 20-30% PM2.5 और PM10 एकाग्रता को कम करना है, के तहत छत्तीसगढ़ से सूचीबद्ध 3 शहरों में से एक है। शहर केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के 88 औद्योगिक समूहों में से 5 वें स्थान पर है।

अध्ययन में दावा किया गया है कि, ग्रामीणों ने इस क्षेत्र में त्वचा की समस्याओं, फेफड़ों की समस्याओं और अस्थमा के बढ़ते प्रसार के बारे में बताया है। स्थानीय किसान पावर प्लांटों से फ्लाई ऐश तालाबों में जहरीले फ्लाई ऐश और ब्रीच के कारण फसल के नुकसान की रिपोर्ट करते हैं। सिंचाई का पानी भी फ्लाई ऐश से दूषित होता है जो धान के खेतों को प्रभावित करता है। फसल उत्पादकता में कमी के कारण कई किसानों ने कथित तौर पर अपनी जमीनें छोड़ दी हैं।

कोरबा में अनुमानित कोयला संयंत्र, और संयंत्र फंसे क्षमता :

रिपोर्ट के मुताबिक मार्च 2018 में, ऊर्जा पर संसदीय स्थायी समिति ने 34 बिजली संयंत्रों को गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों के रूप में पहचाना। कोरबा पश्चिम 4,929 करोड़ रुपये के कुल फंसे हुए मूल्य वाले लोगों में से एक था, जिसमें 3,099 करोड़ रुपये का कर्ज था और 1, 3,30 करोड़ रुपये की इक्विटी थी। पावर प्लांट को गैर-निष्पादित परिसंपत्ति घोषित किए जाने के साथ, प्लांट के विस्तार की योजनाएं ठप नजर आती हैं। मार्च 2014 में पूरी तरह से कमीशन घोषित होने के बावजूद, केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि संयंत्र अभी तक स्थिर नहीं हुआ है, जिसका अर्थ है कि वाणिज्यिक संचालन अभी भी शुरू नहीं हुआ है।

रिपोर्ट के मुताबिक सितंबर 2019 में, छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी के अध्यक्ष शैलेंद्र कुमार शुक्ला ने एक साहसिक बयान दिया कि छत्तीसगढ़ राज्य नए कोयला संयंत्रों का निर्माण नहीं करेगा। इस निर्णय की पुष्टि अभी तक किसी भी कानून ने नहीं की है। हालांकि छत्तीसगढ़ सरकार के राजस्व, आपदा प्रबंधन और पुनर्वास मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने निष्कर्षों पर प्रतिक्रिया दी है। मंत्री का पत्र कोरबा में कोयला आधारित बिजली संयंत्रों के आसपास रहने वाले समुदायों पर स्वास्थ्य के बोझ और कोरोनोवायरस जैसे खतरों के लिए उनकी अतिरिक्त भेद्यता से सहमत है।

मंत्री ने संबंधित विभागों को उत्सर्जन को नियंत्रित करने और क्षेत्र में स्थिति में सुधार करने के लिए कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। इस पत्र को दिल्ली की पर्यावरण संस्था क्लाइमेट ट्रेड्स ने जारी किया है।

मंत्री श्री जयसिंह अग्रवाल के पत्र पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए एसएचआरसी के कार्यकारी निदेशक डॉ प्रबीर चटर्जी ने कहा कि यह उत्साहवर्धक है कि माननीय आपदा राहत मंत्री ने रिपोर्ट का संज्ञान लिया है। हम अन्य मंत्रियों से भी आम आदमी, विस्थापित और आदिवासी समुदायों (जिनका वे प्रतिनिधित्व करते हैं) के हित में स्वास्थ्य प्रभाव आकलन शुरू करने के लिए रिपोर्ट की गंभीरता समझने का अनुरोध करते हैं।

क्लाइमेट ट्रेंड्स की निदेशक आरती खोसला ने कहा कि “ऐसे समय में जब राष्ट्र का प्रत्येक नागरिक घातक कोरोनावायरस से लड़ रहा है, एक स्वस्थ शरीर का महत्व हम में से प्रत्येक के लिए स्पष्ट हो जाता है। बीमार स्वास्थ्य के लिए पूर्वानुकूलता, उदाहरणार्थ श्वसन संबंधी बीमारियां जैसे अस्थमा, जो कि आमतौर पर कोरबा जैसे थर्मल पावर क्लस्टर्स में आमतौर पर प्रचलित हैं, फेफड़ों के लिए मुसीबत खड़ी करती हैं।“

उन्होंने कहा हालांकि वैज्ञानिक इस अध्ययन के सटीक सहसंबंध को ठीक तरह से व्याख्यायित कर सकते हैं, लेकिन यह स्पष्ट है कि खराब फेफड़ों की क्षमता ऐसे लोगों को कोरोनावायरस जैसे संक्रमण के लिए एक उच्च जोखिम समूह बनाती है।

सुश्री खोसला ने कहा कि ऐसे समय में जब प्रकृति ने हमें फिर से विचार करने का अवसर दिया है, हमें स्वच्छ अक्षय ऊर्जा के माध्यम से भारत को प्रगतिशील बनाने की दिशा में कार्य करना चाहिए, इससे सार्वजनिक स्वास्थ्य का तो भला होगा ही, यह उन अपरिहार्य नुकसानों को भी रोकेगा जो कोयला कंपनियां कर रही हैं।

अमलेन्दु उपाध्याय

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें