भाषा की राजनीति और साम्प्रदायिकता

भाषा की राजनीति और साम्प्रदायिकता

Language politics and communalism| hastakshep | हस्तक्षेप |  उनकी ख़बरें जो ख़बर नहीं बनते

भाषा और विचार का क्या संबंध है? What is the relationship between language and thought?

भाषा रहती है परिवेश में, मातृभाषा जैसी कोई कैटेगरी नहीं होती, भाषा आप किताब से नहीं सीखते।

भाषा की जटिलता को समझें

भाषा बनती है बाजार में।

राजनीति के साथ भाषा को जोड़ेंगे तो भाषा विभाजन का काम करेगी।

नरेंद्र मोदी की मातृभाषा क्या है? नरेंद्र मोदी बड़े नेता क्यों हैं?

इन सारे विषयों पर इस वीडियो संवाद में प्रोफेसर जगदीश्वर चतुर्वेदी से समझिए

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.