भारत में किसानों पर पड़ी लाठी और आँसू गैस के गोले उधर कमला हैरिस ने अपने किसानों दिया धन्यवाद

एक तरफ भारत में किसान आंदोलन तेज हो रहा है और दिल्ली कूच कर रहे किसानों पर लाठी चार्ज हो रहा है, आँसू गैस के गोले फेंके जा रहे हैं तो अमेरिका की नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति भारतीय मूल की कमला हैरिस अपने देश के अन्नदाता को धन्यवाद दे रही हैं।

Lathicharge and tear gas shells hit farmers in India, On the other hand, Kamala Harris thanked her farmers

#किसान_अब_दिल्ली_फतह_करेगा

नई दिल्ली, 27 नवंबर 2020. एक तरफ भारत में किसान आंदोलन तेज हो रहा है और दिल्ली कूच कर रहे किसानों पर लाठी चार्ज हो रहा है, आँसू गैस के गोले फेंके जा रहे हैं तो अमेरिका की नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति भारतीय मूल की कमला हैरिस अपने देश के अन्नदाता को धन्यवाद दे रही हैं।

उन्होंने ट्वीट किया,

“हम अपने खेत मजदूरों और फूड बैंक के कर्मचारियों के लिए आभारी हैं जिनकी मेहनत ने हमारे देश भर के लाखों परिवारों के लिए खाने को मेजों पर रख दिया है।“

कमला हैरिस के ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर उनके ट्वीट की टाइमिंग को लेकर बहस छिड़ गई है। एएच खान ने फेसबुक पर लिखा

“भारत में चल रहे किसान आंदोलन के हाई क्लाइमेक्स के बीच अमरीकी उपराष्ट्रपति ‘कमला हैरिस’ को अपने किसानों और शेतकरियों को धन्यवाद कहने की आवश्यकता क्यूं पड़ गई? 🤔

आज 27 नवंबर (8 घंटे पहले) का ट्वीट है।“

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations