लॉकडाउन में भगवा गुंडों का हमला जारी है, कोई सुनने वाला नहीं है – सुमन

योगी सरकार में कानून व्यवस्था समाप्त है क्या ? | Law and order is over in Yogi government?

जनपद कुशीनगर में भगवा आतंक चरम पर

लखनऊ, 29 अपैल 2020. यूं तो उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन जारी है, लेकिन इस लॉकडाउन में भी उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्ता ध्वस्त है और भगवा गुंडों के हमले जारी हैं।

  दूरभाष पर यह जानकारी देते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की राज्य परिषद के सदस्य रणधीर सिंह सुमन ने बताया कि जनपद कुशीनगर के पटहेरवा थाना क्षेत्र अंतर्गत बाड़ू चौराहे पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला काउंसिल के साथी एवं उत्तर प्रदेश किसान सभा जनपद कुशीनगर के जिला मंत्री कामरेड समसुद्दीन अंसारी जोया इंटरप्राइजेज ग्राहक सेवा केंद्र चलाते हैं। बीती दिनांक 24 अप्रैल 2020 को सवेरे लगभग 10:30 बजे भगवाधारी अराजक तत्वों के एक 30 से 35 सदस्यों के गिरोह ने पूर्व नियोजित साजिश के तहत अचानक हमला करके कैश काउंटर से ₹35000 लूट लिए तथा दुकान के कंप्यूटर प्रिंटर और अन्य संबंधित सामान को तोड़कर बर्बाद कर दिया। विरोध करने पर कामरेड समसुद्दीन अंसारी और उनके पुत्र इस्तखार अंसारी को हमलावरों ने जानलेवा हमला बेरहमी से पिटाई की, जिससे पिता और पुत्र को गंभीर चोटें आई हैं।

उन्होंने बताया कि हमलावरों का नेतृत्व अमिताभ व प्रभाकर पुत्र गढ़शंकर, अभय पुत्र प्रभाकर, अखिलेश पुत्र सुरेश ग्राम नकटहां मिश्र, अशोक गुप्ता पुत्र सतन, बुलट यादव पुत्र काशी उर्फ भकोल ग्राम भानपुर, प्रदीप पुत्र लक्ष्मी ग्राम अमरपुर कर रहे थे। इस हमले और लूट में लाखों रुपए का नुकसान और शारीरिक क्षति हुई है।

कॉमरेड सुमन ने कहा कि सरकार को विपक्षी दलों का सहयोग भी चाहिए, लेकिन उनके नेताओं के ऊपर हमले लूटपाट भी सत्तारूढ़ दल के लोगों का जारी हैं। रिपोर्ट लिखने में भी कोताही है।

जब एक तरफ लॉकडाउन चल रहा है और इस तरह की घटनाएं घटित हो रही हैं। प्रदेश की कानून व्यवस्था ठप्प हो गई है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations