इस रविवार “हमने तो बस्ती बोई थी, जंगल कैसे उग आया” बताएंगे लक्ष्मी शंकर वाजपेयी

Laxmi Shankar Bajpai Saahityik Kalrav

चराग़ों से कहो महफूज़ रखें अपनी-अपनी लौ

उलझना है उन्हें कुछ सरफिरी पागल हवाओं से

नई दिल्ली, 01 जुलाई 2020. हस्तक्षेप डॉट कॉम के यूट्यूब चैनल (Youtube channel of hastakshep.com) के साहित्य अनुभाग “साहित्यिक कलरव” पर जारी श्रंखला में इस रविवार ख्यातिप्राप्त साहित्यकार लक्ष्मी शंकर वाजपेयी (Laxmi Shankar Bajpai) अपना कविता पाठ करेंगे।

यह जानकारी देते हुए हस्तक्षेप “साहित्यिक कलरव” के संयोजक डॉ. अशोक विष्णु व डॉ. कविता अरोरा ने बताया कि श्री वाजपेयी एक कवि, ग़ज़लकार और संवाददाता हैं। वह एआईआर-आकाशवाणी में उप महानिदेशक के रूप में कार्य कर चुके हैं। वेनेजुएला, आयरलैंड एवं दुबई आदि बहुत से देशों में हिंदुस्तान का प्रतिनिधित्व करने वाले कवियों में आपका नाम शामिल है। देश-विदेश की पत्र-पत्रिकाओं में आपकी कविताएं, ग़ज़लें एवं लेख प्रकाशित होते रहते हैं। इनका ग़ज़ल संग्रह ‘ख़ुशबू तो बचा ली जाए’ साहित्य जगत में बहुत प्रसिद्ध हुआ है।

इनको विभिन्न सम्मान से सम्मानित किया गया है जिसमें हिन्दी अकादमी दिल्ली का ‘बाल साहित्य सम्मान’, राष्ट्रभाषा गौरव सम्मान, भारतेंदु सम्मान आदि प्रमुख हैं।

इनकी रचनाओं का देश-विदेश की बहुत सी भाषाओं में अनुवाद भी हो चुका है। उनकी कविताओं का अनुवाद अरबी,  जापानी, स्पैनिश, इटैलियन, रूसी, अंग्रेजी, तमिल, असमी, मलयालम, डोगरी आदि अनेक भाषाओं में हुआ है।

श्री वाजपेयी ने सोहनलाल द्विवेदी, बलबीर सिंह रंग, बाबा नागार्जुन, त्रिलोचन, अहमद फ़राज़ जैसे कवियों के साथ कविता पाठ किया है।

लक्ष्मी शंकर वाजपेयी के विषय में कुछ और जानकारी | Some more information about Laxmi Shankar Bajpai

दुष्यंत कुमार द्वारा स्थापित हिन्दी ग़ज़ल को आगे बढ़़ाने वाले प्रमुख कवियों में..( पहली ग़ज़ल फरवरी 1977 में सारिका पत्रिका में प्रकाशित )

कविता की 25 विधाओं.. गीत, नवगीत, ग़ज़ल, छंदमुक्त कविता, दोहा, माहिया, पद, मुक्तक, रुबाई, हाइकु, घनाक्षरी, सवैया, कुंडलिया, क्षणिका, कहमुकरी, त्रिवेणी..आदि में रचनाकर्म..

देश विदेश की लगभग सभी प्रतिष्ठित पत्रिकाओं मे रचनाओं का प्रकाशन..

साहित्य अकादमी के ग़ज़ल संचयन, कमलेश्वर द्वारा संपादित “हिन्दुस्तानी ग़ज़लें”, “ग़ज़ल दुष्यंत के बाद” तथा अन्य अनेक संचयनों मे ग़ज़लें शामिल..

कविता कोष,अनुभूति..आदि अनेक वेबसाइटों मे कविताएं संकलित..

दुनिया के अनेक टीवी चैनलों, रेडियो चैनलों से साक्षात्कार एवं कविताएं प्रसारित..

2013 में वेनेज़ुएला में आयोजित विश्व कविता महोत्सव में भारत से एकमात्र प्रतिनिधि कवि

दुबई अँतर्राष्ट्रीय कविता महोत्सव 2016 मे भारत एवं हिंदी के प्रतिनिधि कवि..

2010 में लन्दन में अंतर्राष्ट्रीय वातायन कविता सम्मान तथा कवि की कविताओं पर केंद्रित एक शाम

2010 में ही उत्तरी आयरलैंड,वेल्श और ब्रिटेन के कई नगरों में कविता पाठ

2014 में मास्को में अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रीय  हिंदी सम्मेलन में भागीदारी एवं कविता पाठ

2005 में प्रतिनिधि भारतीय कवि के रूप में पोलैंड ,त्रिनिदाद सूरीनाम और इंग्लैंड में कविता पाठ।

कविताओं का अनुवाद अरबी, जापानी, स्पैनिश, इटैलियन, रूसी,अंग्रेजी, तमिल, असमी, मलयालम, डोगरी आदि अनेक भाषाओं में हुआ है..

भारतीय ज्ञानपीठ ,साहित्य अकादमी ,नेशनल बुक ट्रस्ट ,पोएट्री सोसाइटी ऑफ़ इंडिया आदि अनेक प्रतिष्ठित संस्थाओं द्वारा विशिष्ट कविता पाठ हेतु आमंत्रित।

सार्क लेखक सम्मलेन ,फ्रेंच पोएट्री फेस्टिवल ,आदि में प्रतिनिधि हिंदी कवि के रूप में कविता पाठ।

ग़ज़ल संग्रह ‘खुशबू तो बचा ली जाये’ पर एम फिल  की गयी है।

हिंदी अकादमी दिल्ली द्वारा बाल साहित्य सम्मान, संसद भवन मे राष्ट्रभाषा गौरव सम्मान, भारतेंदु सम्मान, उद्भव शिखर सम्मान, सहित अनेक सम्मान..

लालकिला, श्रीराम कवि सम्मेलन, गीत चांदनी सहित देश भर के प्रतिष्ठित कवि सम्मेलनों मुशायरों में कविता पाठ।

बच्चों की पाठ्यपुस्तकों से लेकर हायर सेकेंडरी तथा विश्वविद्यालय स्तर तक के पाठ्यक्रमो में कविताएं शामिल..

ओशो रजनीश द्वारा एक ग़ज़ल की व्याख्या करते हुए सम्पूर्ण प्रवचन।

अनेक प्रतिष्ठित गायकों द्वारा ग़ज़लों का देश विदेश में गायन..

स्टार प्लस चैनल द्वारा कविताओं की धारावाहिक नाट्य प्रस्तुति..

कविताओं के अतिरिक्त प्रतिष्ठित राष्ट्रीय पत्रिकाओं में व्यंग्य, लघुकथाएं, लेख , बाल कहानियां आदि प्रकाशित..

मीडिया..

6 -7 विश्वविद्यालयों से मीडिया अध्यापन हेतु अतिथि व्याख्याता ,परीक्षक
के रूप में सम्बद्ध।

अनेक राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय सेमिनारों में पत्र वाचन

अनेक राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों की निर्णायक समितियों में।

150 से अधिक राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय समारोहों का आकाशवाणी से हिंदी में आँखों देखा हाल प्रसारित किया , जैसे गणतंत्र  दिवस परेड, अंतर्राष्ट्रीय फिल्म समारोह गोवा ,लाहौर बस यात्रा आदि।

35 वर्षों के कार्यकाल में 27 वर्षों तक आकाशवाणी के राष्ट्रीय कार्यक्रमों से सम्बद्ध।

आकाशवाणी की राष्ट्रीय प्रसारण सेवा तथा एफ.एम.गोल्ड चैनल की स्थापना से संबद्ध
प्रधानमंत्री के मन की बात कार्यक्रम के शुभारम्भ पर संयोजन का दायित्व

विभिन्न क्षेत्रों की महान हस्तियों जैसे आजाद हिंद फौज के कर्नल ढिल्लों, भगत सिंह के भाई कुलतार सिंह, ए पी जे अब्दुल कलाम, ज्ञानी जैलसिंह, अटल बिहारी वाजपेयी,भीष्म साहनी,विष्णु प्रभाकर, निर्मल वर्मा,आशा भोंसले, मन्ना डे, महेन्द्र कपूर, खय्याम..आदि से भेंट

इंडियन फॉरेस्ट अकादमी, देहरादून, नेशनल एकेडमी ऑफ ब्राडकास्ट एंड मल्टीमीडिया, लाल बहादुर शास्त्री एकेडमी ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन, मसूरी,रक्षा अनुसंधान विकास संस्थान दिल्ली आदि में व्याख्यान

अमेरिका, रूस, इंग्लैंड, पोलैंड, उत्तरी आयरलैंड, वेनेजुएला, सँयुक्त अरब अमीरात, जर्मनी, थाईलैँड, केन्या, मारीशस ट्रिनिडाड,सूरीनाम,वेल्स ,मलेशिया ,पाकिस्तान आदि अनेक देशों की यात्रा।

तो इस रविवार ठीक शाम 4 बजे हस्तक्षेप डॉट कॉम के यूट्यूब चैनल के साहित्य अनुभाग “साहित्यिक कलरव” पर सुनना न भूलें लक्ष्मी शंकर वाजपेयी का काव्य पाठ। चैनल सब्सक्राइब करें https://www.youtube.com/channel/UCMTm9fQIkV21sa61cH_p8yg लिंक पर रिमाइंडर सेट करें

Laxmi Shankar Bajpai is a poet, Gazalkaar, and communicator. He retired as a Deputy Director General from AIR Akashwani.

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें