जानिए पैराशूट का इतिहास और कैसे हुआ पैराशूट का आविष्कार

Things you should know

Learn the history of parachute and how the invention of parachute happened

लोगों को पैराशूट से उड़ते देखकर सभी के मन में पैराशूट के आविष्कार और इतिहास को जानने का विचार जरूर आता हैं। पैराशूट के आविष्कार के बाद लोगों के मन से आसमान में जाने और गिरने का डर समाप्त हो गया है।

पैराशूट एक ऐसा वैज्ञानिक उपकरण है, जो आपातकाल में उड़ते हुए वायुयान से सुरक्षापूर्वक धरती पर उतारने के काम आता है। पैराशूट का आविष्कार आंद्रे गार्नेरिन ने किया था

पैराशूट का इतिहास | When was the parachute invented ?

दुनिया में सबसे पहले व्यवहारिक रूप से सफल पैराशूट बनाने का श्रेय एक फ्रांसीसी व्यक्ति ‘लुइ सेबास्तियन लेनोर्मां’ (french inventor of the parachute) को दिया जाता है। जिसने वर्ष 1783 में पहली बार पैराशूट का सार्वजनिक प्रदर्शन किया था। यह पैराशूट लकड़ी के ढांचे पर कपड़ा डालकर बनाया गया था। जबकि 15वीं शताब्दी में ‘लिओनार्दो दा विंची’ ने कल्पना करते हुए सबसे पहले पैराशूट का रेखाचित्र बनाया था।

Parachute Designed by Leonardo Da Vinci

लिओनार्दो दा विंची के पैराशूट की डिजाइन को ध्यान में रखकर ही ‘फॉस्ट ब्रांसिस’ ने एक सख्त फ्रेम वाला होमो वोलंस नाम का पैराशूट बनाया, जिसे पहनकर वर्ष 1617 में ब्रांसिस ने वेनिस टॉवर से छलांग लगाई थी (first parachute jump)। उस समय आकाश से इस तरह छलांग लगाना कोई आसान काम नहीं था।

हालांकि वर्ष 1785 में फ्रांसीसी नागरिक ज्यां पियरे ब्लांचार्ड  ने आपातकाल में पैराशूट का पहला प्रयोग किया था। इन्होंने ऊंचाई पर उड़ रहे एक हॉट एयर बैलून से एक कुत्ते को पैराशूट बंधी टोकरी के द्वारा नीचे उतारा था।

ज्यां पियरे ब्लांचार्ड ने पहली बार उपयोग करने में आसान होने के कारण सिल्क के कपड़े से पैराशूट बनाया था। इसी तरह के पैराशूट द्वारा वर्ष 1797 में फ्रांस के आंद्रे गार्नेरिन ने 3000 फुट की ऊंचाई से एक सफल छलांग लगाई थी और आंद्रे गार्नेरिन ने पैराशूट में कंपन्न को कम करने के लिए कुछ सुधार किये थे जिससे पहला छिद्रित पैराशूट’ अस्तित्व में आया था।

वर्ष 1797 में एंड्रयू नाम के व्यक्ति ने एक हॉट एयर बैलून में पेरिस के ऊपर 3200 फिट की ऊंचाई पर उड़कर पैराशूट के इतिहास में नाम लिखा।

24 जुलाई 1837 को लन्दन के बॉक्स हाल गार्डन में राबर्ट काकिंग ने पैराशूट की उडान का प्रदर्शन किया था। लेकिन पांच हजार फुट की ऊंचाई से गिरते समय पैराशूट का लकड़ी का ढांचा हवा के दबाव से टूटने के कारण राबर्ट की मृत्यु हो गई थी।

शुरुआत में पैराशूट लकड़ी के ढांचे पर कपड़ा डालकर बनाये जाते थे। बाद में फान टासल ने सूती कपडे का एक छतरी के आकार का पैराशूट बनाया था जो काफी लोकप्रिय भी हुआ।

कुछ समय बाद पैराशूट बनाने में सूती कपड़े की जगह रेशमी कपडे (सिल्क) का उपयोग किया जाने लगा जिससे पैराशूट ओर हल्के व मजबूत हो गए। आजकल पैराशूट बनाने के लिए नायलोन का उपयोग किया जाता है।

पैराशूट के उपयोग | Parachute usage

दूसरे विश्व युद्ध के समय अमेरीकी सैनिकों को कहीं पहुँचाने के लिए पैराशूट का काफी उपयोग किया गया था, क्योंकि पैराशूट से जटिल जगहों पर भी जा सकते हैं। लड़ाकू जहाज काफी तेज गति से उड़ते व रनवे पर उतरते हैं और आपातकाल के समय में लम्बा रनवे नहीं मिलने से लड़ाकू जहाज को रोक पाना खतरनाक होता है। लेकिन पैराशूट की मदद से इनकी गति को नियंत्रण में करके विमान को सुरक्षित उतार सकते हैं।

युद्ध के समय में पैराशूट के द्वारा शत्रु के क्षेत्र में सैनिक, गोला बारूद और खाने पीने की सामग्री सेना के लिए गिराए जाते हैं।

अन्तरिक्ष यात्री जिस केप्सूल में बैठकर धरती पर उतरते हैं, उसमें पैराशूट लगा होने के कारण यात्री सुरक्षित उतर पाते हैं।   समुद्र के किनारे सैलानियों के लिए हवा में उड़ने में पैराशूट का उपयोग किया जाता है और जैव वैज्ञानिक और डिस्कवरी चैनल वाले भी जंगलों के ऊपर घूमने के लिए पैराशूट इस्तेमाल करते हैं।

पैराशूट की रोचक जानकारी | Interesting information about parachute

वर्ष 1937 में सबसे पहले रूस ने आर्कटिक पर खोज के दौरान बर्फ पर प्लेन रोकने के लिए प्लेन के पीछे पैराशूट लगाकर उपयोग किया गया था, क्योंकि बर्फ पर फिसलने के कारन प्लेन को रोकना मुश्किल काम था।

वर्ष 1914 में प्रथम विश्वयुद्ध के समय विमानों से बमवर्षा की गई थी। इसके ठीक 12 वर्ष बाद दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान विमान चालकों द्वारा पैराशूट का उपयोग करके हजारों लोगों की जान बचाई गई थी।

आजकल इतने बड़े-बड़े पैराशूट भी बन चुके हैं, जो आपातकाल में उड़ते हुए हवाई जहाज या विमान को भी हवा में लटका कर सुरक्षित नीचे उतार सकते हैं।

मुकेश कुमार माली

Note – André-Jacques Garnerin (31 January, 1769 – 18 August, 1823) was a French balloonist and the inventor of the frameless parachute.

स्रोत – देशबन्धु

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें