Home » Latest » वामपंथ का आंतरिक विरोधाभास : अखिलेन्द्र प्रताप सिंह की एक जरूरी वार्ता
Akhilendra Pratap Singh

वामपंथ का आंतरिक विरोधाभास : अखिलेन्द्र प्रताप सिंह की एक जरूरी वार्ता

‘वामपंथ का आंतरिक विरोधाभास’ | ‘Left’s internal contradiction’

आईपीएफ और स्वराज अभियान के नेता व इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व अध्यक्ष अखिलेन्द्र प्रताप सिंह (Akhilendra Pratap Singh) से लाउड इंडिया टीवी (Loud India TV) के लिए वरिष्ठ पत्रकार संतोष भारतीय ने लंबी बातचीत की।

भारत में वामपंथ की विफलताओं और वामपंथ के आंतरिक विरोधाभास पर इस वार्ता को अवश्य सुना चाहिए।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

health impact

नयी नीतियां बनाने के साथ वर्तमान नीतियों का क्रियान्‍वयन भी जरूरी : विशेषज्ञ

Along with making new policies, implementation of existing policies is also necessary: Expert मुंबई, 2 मार्च 2021.. विशेषज्ञों, सिविल सोसायटी …

Leave a Reply