मजदूरों के उत्पीड़न की आपराधिक जिम्मेदारी चार घंटे में लॉकडाउन करने वाले मोदी जी लें – -दिनकर

Letter to PM on migirat workers by dinkar Kapoor

चार घंटे में लाकडाउन करने वाले मोदी जी ले प्रवासी मजदूरों की जिम्मेदारी -दिनकर

प्रधानमंत्री को भेजा पत्र किराया माफ करे रेलवे

केन्द्र सरकार करे राज्यों में समन्वय, मजदूरों के उत्पीड़न पर तत्काल लगे रोक
प्रवासी मजदूरों को बेसहारा छोडना अमानवीयद व आपराधिक

लखनऊ 3 मई 2020, पूरे देश में महज चार घंटे का समय देकर लॉकडाउन लागू करने वाले मोदी जी आपकी केन्द्र सरकार प्रवासी मजदूरों व अन्य लोगों को वापस लाने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों पर डालकर कोरोना महामारी के इस संकटकालीन वक्त में अपनी जबाबदेही से मुक्त नहीं हो सकती। ऐसे समय में केन्द्र सरकार के रेलवे द्वारा प्रवासी मजदूरों से किराया मांगना बेहद अनुचित व अमानवीय है। राष्ट्र के नाम सम्बोधन में आपने खुद कहा कि राष्ट्र निर्माण में मजदूरों की महत्वपूर्ण भूमिका है लेकिन दुखद हैं कि कोरोना महामारी के संकट की इस घड़ी में आपकी सरकार ने राष्ट्रनिर्माता मजदूरों को बेसहारा छोड़ दिया है। इसलिए आपकी सरकार को प्रवासी मजदूरों समेत अन्य लोगों के घर वापसी की जिम्मेदारी लेनी होगी उनको स्पेशल ट्रेनों द्वारा मुफ्त व सकुशल वापस लाने के लिए तत्काल आदेश जारी करना चाहिए। साथ ही केन्द्र सरकार को एक आधुनिक तकनीक सम्पन्न राष्ट्रीय कंट्रोल रूम बनाकर प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए राज्यों के बीच समन्वय का कार्य करना होगा। राज्यों को स्पष्ट गाइडलाइन देनी होगी कि कहीं भी प्रवासी मजदूरों को रोका नहीं जाए और उनका उत्पीड़न बंद किया जाए।

यह बातें आज वर्कर्स फ्रंट के अध्यक्ष दिनकर कपूर ने प्रधानमंत्री को ईमेल से भेजे पत्र में उठाई।

इस पत्र को गृह मंत्री, गृह सचिव, सदस्य राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (National Disaster Management Authority) व मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश को भी आवश्यक कार्यवाही के लिए भेजा है।

पत्र में वर्कर्स फ्रंट ने केन्द्र सरकार द्वारा मजदूरों को लाने का सारा कार्य राज्य सरकारों पर छोड़ देने पर आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा कि जीएसटी के जरिए टैक्स के केन्द्रीकरण से राज्यों की आर्थिक हालत पहले से ही बेहद खराब है। ऐसी स्थिति में प्रवासी मजदूरों को लाने की और उनके किराए को देने की जबाबदेही महज राज्य सरकारों पर छोड़ना उचित नहीं है। वास्तव में होगा यह कि राज्य सरकारें इन हालातों में मजदूरों को वापस बुलायेंगी ही नहीं और घर वापस लौटने की मजदूरों में बढती बेसब्री उन्हें अराजकता की ओर ले जा सकती है। बिहार, झारखण्ड जैसी राज्य सरकारों ने इस सम्बंध में अपनी असमर्थतता व्यक्त कर ही दी है। अन्य राज्यों की भी स्थिति इससे भिन्न नहीं है।

पत्र में कहा गया कि उत्तर प्रदेश समेत कहीं भी प्रवासी मजदूरों की वापसी (Return of migrant laborers) के सम्बंध में कोई व्यवस्थित कार्यप्रणाली कार्य नहीं कर रही है। श्रमिक महासंघ के अध्यक्ष व सोनभद्र जनपद का श्रम बंधु होने के कारण विभिन्न प्रांतों से श्रमिकों के लगातार हमें फोन आ रहे है। मजदूर हमें बता रहे हैं कि उत्तर प्रदेश समेत अन्य राज्य सरकारों द्वारा नियुक्त नोडल अधिकारियों के नम्बर या तो बंद आ रहे है या उन पर कॉल करने पर उसे उठाया नहीं जा रहा है, यहां तक कि वाट्सअप द्वारा मैसेज करने पर कोई सूचना नहीं दी जा रही है। केन्द्र व राज्य सरकारों द्वारा जारी हेल्पलाइन नम्बर पर कॉल जा ही नहीं है। हालत इतनी बुरी है कि केन्द्र सरकार द्वारा आदेश देने के बाद अन्य राज्यों से अनुमति प्राप्त कर और हजारों रूपया देकर मजदूर बस समेत अन्य साधनों से आ भी रहे है, उन्हें रास्ते में रोक दिया जा रहा है।

दो घटनाओं पर प्रधानमंत्री का पत्र में ध्यान आकृष्ट कराया गया। एक सूरत से गोरखपुर के लिए सात हजार रूपया प्रति व्यक्ति किराया देकर और एसडीएम कामराज तहसील गुजरात से प्राप्त अंतरराज्यीय अनुमति के साथ आ रही बस को गोधरा-मध्य प्रदेश बार्डर पर रोक दिया गया और मजदूरों को उतारकर बस को वापस कर दिया गया।

यह भी सूचना हैं कि बेसहारा मजदूरों पर बाद में लाठीचार्ज तक किया गया।

दिनकर कपूर Dinkar Kapoor
अध्यक्ष, वर्कर्स फ्रंट

इसी तरह छत्तीसगढ़ सरकार से अनुमति प्राप्त कर उत्तर प्रदेश आ रही बस को सोनभद्र जनपद के म्योरपुर थाने पर रोक कर मजदूरों समेत वापस कर दिया गया।

यह घटनाएं दिखाती है कि मजदूरों की वापसी के सम्बंध में राज्यों के बीच आपसी तालमेल का भी नितांत अभाव है। लाकडाउन के कारण पैदल, साईकिल, ठेला, रिक्शा आदि साधनों से अपने घरों को वापस लौट रहे लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूरों पर जगह-जगह पुलिस बर्बरता जारी है, भोजन व पानी तक न मिलने और बीमारी से उनकी बेमौत मृत्यु लगातार हो रही है।

हालत इतनी बुरी है कि यदि सैकड़ों किलोमीटर पैदल चल रहे मजदूरों को कोई वाहन वाला मदद कर दे रहा है तो उस वाहन के मालिक के खिलाफ मुकदमा कायम कर दिया जा रहा है, उसका चालान काट दिया जा रहा है।

मजदूरों के साथ हो रहा यह व्यवहार आपराधिक और त्रासद है। इसलिए इस पर रोक के लिए मोदी जी से प्रवासी मजदूरों समेत अन्य लोगों की घर वापसी की जिम्मेदारी लेने का अनुरोध पत्र में किया गया है।

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations