Home » Latest » नारियल सिर्फ फल नहीं औषधि भी है

नारियल सिर्फ फल नहीं औषधि भी है

Coconut is not only a fruit but also a medicine

Nariyal Ke Fayde | नारियल के हैरान करने वाले फायदे | Health Benefits Of Coconut

नारियल एक सरल और सस्ती औषधि है। नारियल का प्रयोग (use of coconut) हम कई रोगों से निपटने के लिए कर सकते है। नारियल एक लाभकारी नुस्खा है। आइए देखते हैं नारियल किन बीमारियों से निजात दिलाता है (What diseases does coconut cure) कुछ दादी नानी के घरेलू नुस्खे

नारियल की गिरी में बादाम, अखरोट एवं मिश्री मिलाकर सेवन करने से स्मृति में वृद्धि होती है। इससे याद्दाश्त का मजबूत होना मानसिक स्वास्थ्य के लिए लाभकारी बताया जाता है। 

ठंढ व गर्मी दोनों मौसमों में नकसीर की समस्या आम होती है। इसमें नाक से खून निकलना आम है। इसमें कच्चे नारियल का पानी नियमित रूप से पीना चाहिए। साथ ही खाली पेट नारियल के सेवन से भी नाक से आने वाले खून की समस्या हमेशा के लिए सुधर जाती है।

क्या मुँहासे के लिए नारियल का तेल अच्छा है? | क्या नारियल का तेल अच्छा है.

चेहरे पर मुहासों का निकलना खूबसूरती पर दाग सा है। इस दाग को नारियल हमेशा के लिए समाप्त करता है। कहा जाता है कि नारियल के पानी में खीरे का रस मिलाकर सुबह-शाम नियमित रूप से लगाने से चेहरे के दाग मिटते हैं। चेहरा सुंदर एवं चमकदार हो जाता है। नारियल के तेल में नींबू का रस अथवा ग्लिसरीन मिलाकर चेहरे पर लेप करने से भी मुहासे मिटते हैं।

रात को नींद आने में समस्या आ रही हो तो रात में भोजन के पश्चात नियमित रूप से आधा गिलास नारियल पानी पीना चाहिए। इससे नींद अच्छी आती है।

The tender power of young coconut

सिर दर्द दूर करने के लिए नारियल तेल में बादाम को मिलाकर तथा बारीक पीसकर सिर पर लेप लगाना चाहिए। इससे सिरदर्द में शीघ्र लाभ होता है।

डैंड्रफ से परेशान हों तो नारियल के तेल में नींबू का रस मिलाकर बालों में लगाने से रूसी एवं खुश्की से छुटकारा मिलती है।

गर्भावस्था में सुबह नियमित रूप से 50 ग्राम नारियल की गिरी को चबाने से गर्भवती महिला को स्वास्थ्य में तो लाभ होता ही है। साथ ही गर्भस्थ बालक भी गौरवर्ण का एवं हृष्ट-पुष्ट होता है।

Researchers produce coconut palm plantlets using tissue culture

पेट में कीड़े होने पर सुबह नाश्ते के समय एक चम्मच पिसा हुआ नारियल का सेवन करने से पेट के कृमि शीघ्र ही मर जाते हैं।

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।) 

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply