भारत में लॉकडाउन, गृहमंत्री की चुप्पी पर सिब्बल ने उठाए सवाल

Lockdown in India, Sibal raised questions on the silence of the Home Minister

नई दिल्ली, 28 मार्च 2020. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार को कहा कि देश में एक अभूतपूर्व लॉकडाउन चल रहा है, जिसके चलते प्रवासी संघर्ष कर रहे हैं और ऐसे में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह चुप्पी साधे हुए हैं।

उन्होंने ट्वीट कर कहा,

“1) हम घरों में बंद हैं, 2) लाखों प्रवासी घर पहुंचने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, 3) जीवित रहने के लिए घर पर रहकर संघर्ष करना पड़ रहा है, और 4) कई लोग ऐसे हैं, जो घर नहीं पहुंच सकते हैं। गृह मंत्री की ओर से ना तो कोई बात (इस बाबत) सामने आई है और ना वह दिखाई दिए हैं।”

उन्होंने शाह पर भी कटाक्ष करते हुए कहा,

“उन्होंने कोई भी बटन नहीं दबाया है, फिर भी हमें घर में सरकार के फैसलों का करंट महसूस होता है!”

दरअसल, दिल्ली के विधानसभा चुनाव के समय सीएए और एनआरसी के खिलाफ शाहीन बाग में महिलाओं का प्रदर्शन चल रहा था। उस समय चुनाव प्रचार के दौरान शाह ने कहा था कि लोगों को मतदान करते समय इतनी मेहनत से बटन दबाना चाहिए कि करंट शाहीन बाग में महसूस हो।

हालांकि, चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को दिल्ली की 70 सीटों वाली विधानसभा में से केवल आठ पर जीत मिली थी।

गौरतलब है कि कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए सरकार से 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित किया है।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि भारत में अब तक कुल 873 लोगों के कोरोनावायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, जिसमें से 775 व्यक्ति अभी भी कोविड-19 से ग्रस्त हैं।

देश में कोरोनावायरस महामारी के चलते 19 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि उपचार के बाद 78 व्यक्ति पूर्ण रूप से स्वस्थ हो गए हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations