Home » Latest » लॉकडाउन है, मोरल डाउन नहीं ! तम से क्या घबराना, सूरज रोज निकलता है
लॉकडाउन में कवि, लॉकडाउन, लॉकडाउन है, मोरल डाउन नहीं, वर्क फ्रॉम होम, Poet in lockdown, lockdown, There is lockdown, not moral down, work from home,

लॉकडाउन है, मोरल डाउन नहीं ! तम से क्या घबराना, सूरज रोज निकलता है

Lockdown, not Moral Down!

नई दिल्ली, 27 अप्रैल 2020.  मंच के लोकप्रिय कवियों ने ‘वर्क फ्रॉम होम’ करते हुए एक (सीक्वल) सकारात्मक ऊर्जा से परिपूर्ण एक वीडियो तैयार किया है।

शिशुपाल सिंह ‘निर्धन’ जी के इस गीत को डॉ. विष्णु सक्सेना और सुश्री मुमताज़ नसीम ने स्वरबद्ध किया है। श्री अरुण जैमिनी का समन्वय; चिराग़ जैन का  संयोजन/निर्देशन और डॉ. अशोक चक्रधर के अनुभवी मार्गदर्शन के साथ श्री गीत जैमिनी और जनाब मो. वसीम की तकनीकी क्षमताओं ने वीडियो को प्रसारणीय बनाया।

वीडियो में जिन कवियों को आप देख रहे है उनमें क्रमशः डॉ. अशोक चक्रधर,  विनीत चौहान, डॉ. सरिता शर्मा,  सुदीप भोला, डॉ. हरिओम पँवार, चिराग़ जैन,  रमेश मुस्कान, डॉ. कीर्ति काले,  अरुण जैमिनी, सुश्री मनीषा शुक्ला,  शंभू शिखर,  दिनेश रघुवंशी, सुश्री मुमताज़ नसीम और डॉ. विष्णु सक्सेना शामिल हैं।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

दिनकर कपूर Dinkar Kapoor अध्यक्ष, वर्कर्स फ्रंट

सस्ती बिजली देने वाले सरकारी प्रोजेक्ट्स से थर्मल बैकिंग पर वर्कर्स फ्रंट ने जताई नाराजगी

प्रदेश सरकार की ऊर्जा नीति को बताया कारपोरेट हितैषी Workers Front expressed displeasure over thermal …