गहलोत ने कांग्रेस की कब्र खोदने की कसम खा रखी है ? रिपोर्टर को टिड्डियों से फसल का नुकसान दिखाने पर किसान को जेल भेजने की धमकी का आरोप

Loss of crop due to locusts to the reporter, Farmer threatened to be sent to jail

नई दिल्ली, 27 जनवरी 2020. क्या राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस की कब्र खोदने की कसम का रखी है। जिस तरह से मामले सामने आ रहे हैं, उससे तो ऐसा ही लग रहा है।

किसान नेता रमनदीप सिंह मान ने इस बावत लगातार कई ट्वीट किए हैं। उन्होंने ट्वीट किया

“अभी बीकानेर के एक किसान अवतार सिंह से बात की, उन्होंने एक रिपोर्टर को टिड्डियों के कारण फसल के नुकसान को दिखाने की हिम्मत की और अब पुलिस उसे “एसपी का प्रेशर है” कहकर झूठे धारा 151 पुलिस केस में फंसाने की धमकी दे रही है।

क्या यह उचित है?

कृपया मदद करें

@ ashokgehlot51

@SachinPilot

@hanumanbeniwal”

उन्होंने ट्वीट किया

“राजस्थान कृषि विभाग ने किसान अवतार सिंह को एक मामले में धमकी देते हुए आरोप लगाया कि “सरकारी अधिकारियों की नौकरी में दखल दिया है”, अब पुलिस कल उन्हें आत्मसमर्पण करने के लिए कह रही है कि वे उन्हें धारा 151 के लिए गिरफ्तार करेंगे। उनकी एकमात्र गलती थी, रिपोर्टर को अपनी फसल का नुकसान दिखाना।“

अगले ट्वीट में उन्होंने कहा,

“राजस्थान सरकार द्वारा टिड्डियों के कारण फसल क्षति मुआवजे या किसी अन्य सहायता को भूल जाओ, अब किसानों को एफआईआर के साथ धमकी दी जा रही है, अगर वे संवाददाताओं को अपने खेतों को दिखाते हैं! अवतार सिंह किसान को पुलिस ने बुलाया है क्योंकि उसने अपने खेतों को एक रिपोर्टर को दिखाने की हिम्मत की है।“

 

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations