Home » Latest » जिस रोज़ बग़ावत कर देंगे/ दुनिया में क़यामत कर देंगे/ ख़्वाबों को हक़ीक़त कर देंगे/ किसान हैं हम किसान हैं हम
Farmers Protest

जिस रोज़ बग़ावत कर देंगे/ दुनिया में क़यामत कर देंगे/ ख़्वाबों को हक़ीक़त कर देंगे/ किसान हैं हम किसान हैं हम

मज़दूरों का गीत – असरार-उल-हक़ मजाज़

Majaz lakhanvi famous nazm mazdoor mehnat se mana choor hain hum

किसान हैं हम किसान हैं हम 

मेहनत से ये माना चूर हैं हम

आराम से कोसों दूर हैं हम

पर लड़ने पर मजबूर हैं हम

किसान हैं हम किसान हैं हम

गो आफ़त ओ ग़म के मारे हैं

हम ख़ाक नहीं हैं तारे हैं

इस जग के राज-दुलारे हैं

किसान हैं हम किसान हैं हम

बनने की तमन्ना रखते हैं

मिटने का कलेजा रखते हैं

सरकश हैं सर ऊँचा रखते हैं

किसान हैं हम किसान हैं हम

हर चंद कि हैं अदबार में हम

कहते हैं खुले बाज़ार में हम

हैं सब से बड़े संसार में हम

किसान हैं हम किसान हैं हम

जिस सम्त बढ़ा देते हैं क़दम

झुक जाते हैं शाहों के परचम

सावंत हैं हम बलवंत हैं हम

किसान हैं हम किसान हैं हम

गो जान पे लाखों बार बनी

कर गुज़रे मगर जो जी में ठनी

हम दिल के खरे बातों के धनी

किसान हैं हम किसान हैं हम

हम क्या हैं कभी दिखला देंगे

हम नज़्म-ए-कुहन को ढा देंगे

हम अर्ज़-ओ-समा को हिला देंगे

किसान हैं हम किसान हैं हम

हम जिस्म में ताक़त रखते हैं

सीनों में हरारत रखते हैं

हम अज़्म-ए-बग़ावत रखते हैं

किसान हैं हम किसान हैं हम

जिस रोज़ बग़ावत कर देंगे

दुनिया में क़यामत कर देंगे

ख़्वाबों को हक़ीक़त कर देंगे

किसान हैं हम किसान हैं हम

हम क़ब्ज़ा करेंगे दफ़्तर पर

हम वार करेंगे क़ैसर पर

हम टूट पड़ेंगे लश्कर पर

किसान हैं हम किसान हैं हम

(सौजन्य से – जस्टिस मार्कंडेय काटजू)

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Rahul Gandhi

राहुल गांधी उवाच : सरकार ने अपना काम ठीक से नहीं किया

Rahul Gandhi said: Government did not do its job properly नई दिल्ली, 10 मई 2021. …

Leave a Reply