हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव में इस बार ममता किरण का, “जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता”

Mamta Kiran Sahityik Kalrav

जड़ें मजबूत होतीं तो शजर आंधी भी सह जाता/ बनाते हम अगर मजबूत पुल तो कैसे ढह जाता / ज़रा सी धूप मिल जाती तो ये सीलन नहीं होती / जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता

नई दिल्ली, 30 जुलाई 2020. हस्तक्षेप ड़ॉट कॉम के यूट्यूब चैनल के साहित्य अनुभाग “साहित्यिक कलरव” में इस रविवार में सुप्रसिद्ध गज़ल़गो एवं कवयित्री ममता किरण का काव्य पाठ होगा।

यह जानकारी देते हुए हस्तक्षेप साहित्यिक कलरव के संयोजक डॉ. अशोक विष्णु व डॉ. कविता अरोरा ने बताया कि सुश्री ममता किरण विगत 15 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय रहीं और अब स्वतंत्र लेखन कर रही हैं। पिछले दिनों ही ममता किरण के ताज़ा गजल संग्रह ”आंगन का शजर” का लोकार्पण संपन्‍न हुआ है।

कवि आलोचक डॉक्‍टर ओम निश्‍चल के मुताबिक ममता किरण की ग़ज़लों में एक अपनापन है, जीवन यथार्थ की बारीकियां हैं, बदलते युग के प्रतिमान एवं विसंगतियां हैं, यत्र तत्र सुभाषित एवं सूक्‍तियां हैं,   भूमंडलीकरण पर तंज है, कुदरत के साथ संगत है, बचपन है, अतीत है, आंगन है, और पग-पग पर सीखें हैं।

विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में उनके सैंकड़ों लेख, साक्षात्कार, पुस्तक समीक्षाएँ, स्तंभ, कविताएँ आदि प्रकाशित हो चुके हैं। रेडियो, दूरदर्शन से कविता पाठ के अतिरिक्त ’ऐंकरिंग’ एवं आलेख लेखन। उन्होंने इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त वि.वि. तथा नेशनल ओपन स्कूल आदि के लिए भी आलेख लेखन किया है। रेडियो, दूरदर्शन व निजी टी.वी चैनलों से उनकी कविताएँ प्रसारित हुई हैं व उन्होंने अखिल भारतीय कवि सम्मेलनों में कविता पाठ किया है।

ममता किरण की कुछ प्रमुख कृतियाँ हैं :

आंगन का शजर‘, वृक्ष था हरा-भरा (कविता संग्रह)

ममता किरण के मिले पुरस्कार-सम्मान

वृक्ष था हरा-भरा (कविता संग्रह) पर वर्ष 2013 का “राजेंद्र वोहरा स्मृति सम्मान”

‘कृति यू के’ बर्मिघम, “काव्य रंग” नाटिंघम, “यू के हिंदी समिति” लन्दन द्वारा अभिनन्दन,

सर्वोच्च न्यायालय के अधिवक्ताओं की संस्था द्वारा “कवितायन सम्मान”,

परिचय साहित्य परिषद् द्वारा “साहित्य सम्मान”,

“उद्भव सम्मान”,

श्री भारतेंदु हरिश्चंद्र समिति कोटा (राज.) द्वारा “साहित्य श्री सम्मान”

दूरदर्शन के लिए लिखी एक डॉक्यूमेंट्री को अन्तरराष्ट्रीय सम्मान।…

इंग्लैंड ,उत्तरी आयरलैंड,स्काटलैंड, वेल्स आदि अनेक शहरों में ‘अंतर्राष्ट्रीय विराट कवि सम्मेलनों ‘ में प्रतिनिधि भारतीय कवि के रूप में भागीदारी।

लाल किला कवि सम्मलेन , श्री राम कवि सम्मेलन समेत देश भर के अनेक अखिल भारतीय कवि सम्मेलनों में भागीदारी।

सुप्रसिद्ध गायकों द्वारा ममता किरण की ग़ज़लों का गायन ।

ग़ालिब अकादमी ,एवाने ग़ालिब ,उर्दू अकादमी समेत अनेक प्रतिष्ठित मुशायरों में शिरकत।

तो इस रविवार दिनांक 02 अगस्त 2020 को सुनना न भूलें ममता किरण को… लिंक निम्न है, रिमाइंडर सेट करें

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें