जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता | Mamta Kiran | ममता किरण

Mamta Kiran Sahityik Kalrav

जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता | Mamta Kiran | ममता किरण

जड़ें मजबूत होतीं तो शजर आंधी भी सह जाता/ बनाते हम अगर मजबूत पुल तो कैसे ढह जाता / ज़रा सी धूप मिल जाती तो ये सीलन नहीं होती / जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता

HASTAKSHEP KAVI SAMMELAN, HINDI POETRY RECITATION,KAVI SAMMELAN, LITERARY TWEET, MAMTA KIRAN POEM RECITATION, POETRY, SAAHITYIK KALRAV, SAHITYA SABHA, SAHITYA SYMPOSIUM, कवि सम्मेलन, कविता, कविता पाठ, काव्य पाठ, काव्य पाठ इन हिंदी, काव्य पाठ हिंदी में, साहित्य गोष्ठी, साहित्य सभा, साहित्यिक कलरव हस्तक्षेप, कवि सम्मेल,न हस्तक्षेप काव्य पाठ, हिंदी काव्य पाठ,