Home » समाचार » देश » रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम (बेचैन पैर सिंड्रोम): यह क्या है और इसका इलाज कैसे करें
health news

रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम (बेचैन पैर सिंड्रोम): यह क्या है और इसका इलाज कैसे करें

Disruptive Leg Movement? : Managing Restless Legs Syndrome in Hindi

क्या आपको बैठने या लेटने पर अपने पैरों को हिलाने की अत्यधिक आवश्यकता महसूस होती है? क्या इन संवेदनाओं के कारण आपको सोना मुश्किल हो जाता है? ये बेचैन पैर सिंड्रोम के लक्षण हो सकते हैं, जिसे आरएलएस (Restless Legs Syndrome in Hindi) भी कहा जाता है। स्वास्थ्य में एनआईएच समाचार से एक मासिक समाचार पत्र (A monthly newsletter from NIH News in Health) में रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम (बेचैन पैर सिंड्रोम) के बारे में जानकारी दी गई है।

आरएलएस क्यों होता है? | Why does RLS happen?

आरएलएस मस्तिष्क और शरीर में नसों के एक दूसरे के साथ संवाद करने के तरीके में समस्याओं के कारण होता है। इन समस्याओं के परिणामस्वरूप पैरों को हिलाने की तीव्र, कभी-कभी अत्यधिक इच्छा होती है। यह आग्रह अक्सर झुनझुनी, जलन या धड़कन जैसी अप्रिय भावनाओं के साथ आता है।

यू.एस. में 7 से 10% तक लोगों को आरएलएस हो सकता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में यह स्थिति होने की संभावना अधिक होती है। जोखिम में कौन है, इसमें जीन कुछ भूमिका निभाते दिखाई देते हैं।

रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम के लक्षण (बेचैन पैर सिंड्रोम के लक्षण)

आरएलएस के लक्षण (Symptoms of Restless Legs Syndrome) हल्के हो सकते हैं और दैनिक जीवन में हस्तक्षेप नहीं कर सकते हैं। लेकिन वे समय के साथ खराब हो सकते हैं। जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के तंत्रिका तंत्र विशेषज्ञ डॉ क्रिस्टोफर अर्ली बताते हैं कि चार मुख्य लक्षण विकार को परिभाषित करते हैं।

एक तो पैरों को हिलाने की तत्काल आवश्यकता है। दूसरा, पैर की तकलीफ आराम से शुरू होती है, जैसे बैठना या लेटना। तीसरा यह है कि पैर हिलाने से बेचैनी दूर होती है।

अर्ली कहते हैं, “जैसे ही लोग उठते हैं और घूमते हैं, वे बेहतर महसूस करते हैं।”

चौथा, लक्षण दिन भर बिगड़ते हैं, शाम और रात में ये लक्षण चरम पर होते हैं।

गंभीर लक्षण लोगों के दैनिक जीवन को प्रभावित कर सकते हैं। वे विशेष रूप से रात की अच्छी नींद लेने की आपकी क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं। जिसके चलते, काम करना, गाड़ी चलाना या अन्य दैनिक गतिविधियों को करना कठिन बना सकता है।

आरएलएस के लिए उपचार | रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम का उपचार (बेचैन पैर सिंड्रोम का उपचार)

आरएलएस का उपचार (Treatment for RLS) इसकी गंभीरता पर निर्भर करता है। जीवनशैली में कुछ बदलाव हल्के से मध्यम लक्षणों वाले कुछ लोगों की मदद कर सकते हैं। अगर जीवनशैली में बदलाव से मदद नहीं मिलती है, तो दवाएं कुछ राहत ला सकती हैं।

आरएलएस के लिए उपयोग की जाने वाली दवाएं मस्तिष्क में विभिन्न रसायनों को प्रभावित करती हैं। यह देखने के लिए कि आपके लिए कौन सी दवाएं काम की हैं, अलग-अलग प्रयास करना आवश्यक हो सकता है।

दौरे का इलाज करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाएं (Drugs used to treat seizures ) आरएलएस में शामिल मस्तिष्क के रसायनों को पुनर्संतुलित करने में मदद कर सकती हैं। अन्य दवाएं डोपामाइन नामक मस्तिष्क रसायन के प्रभाव की नकल करती हैं। डोपामाइन (Dopamine) चलने-फिरने और अन्य कार्यों को विनियमित करने में मदद करता है। कुछ दर्द निवारक और चिंता-विरोधी दवाएं (anti-anxiety drugs) भी मदद कर सकती हैं।

अर्ली बताते हैं कि हाल के शोध से पता चलता है कि मस्तिष्क में आयरन की कमी (lack of iron in the brain) आरएलएस को ट्रिगर कर सकती है। डॉक्टर अब अक्सर इलाज के हिस्से के रूप में आयरन सप्लीमेंट की सलाह देते हैं। रक्त के नमूनों में आयरन के परीक्षण यह नहीं दिखाते हैं कि मस्तिष्क में आयरन की कमी है या नहीं। आरएलएस वाले कुछ लोगों में आयरन का सामान्य रक्त स्तर होता है, लेकिन फिर भी अतिरिक्त आयरन से लाभ होता है।

उनकी टीम ने परीक्षण किया कि क्या IV द्वारा दी गई आयरन की उच्च खुराक आरएलएस वाले लोगों की मदद करती है। उपचार ने कुछ लोगों के लक्षणों में सुधार किया – भले ही उनके रक्त में आयरन का स्तर कम न हो।

आयरन की उच्च खुराक भी आरएलएस को विकसित होने से रोक सकती है, लेकिन अर्ली कहते हैं कि सबसे पहले यह जानने की आवश्यकता है कि मस्तिष्क में आयरन की कमी से आरएलएस का जोखिम किसे है।

फिलहाल, लक्षण ही आरएलएस का निदान करने का एकमात्र तरीका है। अगर आपको लगता है कि आपको यह स्थिति हो सकती है, तो अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता (योग्य डॉक्टर) से बात करें। वे कुछ राहत पाने के तरीके खोजने में आपकी मदद कर सकते हैं।

आरएलएस से राहत के उपाय (Relieving RLS)
  • कैफीन और शराब पर वापस कटौती करें।
  • तंबाकू से बचें।
  • गर्म स्नान का प्रयास करें।
  • पैर की मालिश करें।
  • अपने पैरों पर हीटिंग पैड या आइस पैक का प्रयोग करें।

यदि ये परिवर्तन मदद नहीं करते हैं, तो अपने स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से बात करें। एक विशेषज्ञ लक्षणों को कम करने के लिए विभिन्न प्रकार की दवाओं को आजमाने में आपकी मदद कर सकता है।

(नोट : यह खबर किसी भी परिस्थिति में चिकित्सकीय सलाह नहीं है। यह समाचारों में उपस्थित सूचनाओं के आधार पर जनहित में एक अव्यावसायिक जानकारी मात्र है। किसी भी चिकित्सा सलाह के लिए योग्य व क्वालीफाइड चिकित्सक से संपर्क करें। स्वयं डॉक्टर कतई न बनें।)

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

national news

भारत में मौत की जाति 

Death caste in India! क्या मौत की जाति भी होती है? यह कहना अजीब लग …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.