Home » Latest » गांधी अब ओटीटी पर भी दिखने चाहिए : अजय ब्रम्हात्मज
Mahatma Gandhi

गांधी अब ओटीटी पर भी दिखने चाहिए : अजय ब्रम्हात्मज

एक दिवसीय वेबिनर में बोले फिल्म समीक्षक अजय अजय ब्रम्हात्मज, गांधी सिनेमा से कभी नहीं होंगे ख़ारिज़

महात्मा गांधी की 73वीं पुण्य तिथि पर जनसंचार विभाग ने किया याद, महात्मा गांधी और हिन्दी सिनेमा पर हुई परिचर्चा

मंदसौर विश्वविद्यालय ने बापू को किया याद, पत्रकारिता विभाग ने आयोजित किया हिन्दी सिनेमा और महात्मा गांधी पर वेबिनार

देश और दुनियाँ के भिन्न विश्वविद्यालय के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया

मंदसौर, 30 जनवरी 2021 : आंख के बदले आंख पूरे विश्व को अंधा बना देगी। महात्मा गांधी ने ये बात अपने जीवन काल में कहीं थी। जो आज भी प्रासंगिक है। जनसंचार का प्रमुख माध्यम सिनेमा ने गांधी विचारों को वैश्विक स्तर पर पहुंचाया है।

30 जनवरी को बापू की 73वीं पुण्य तिथि के मौके पर मंदसौर विश्वविद्यालय के जनसंचार एवं पत्रकारिता विभाग द्वारा हिन्दी सिनेमा और महात्मा गांधी विषय पर परिचर्चा का आयोजन किया गया। जिसमें देश के वरिष्ठ और चर्चित फिल्म समीक्षक अजय ब्रम्हात्मज बतौर अतिथि वक्ता मौजूद रहे।

अजय ब्रम्हात्मज देश के सिने इतिहास में 25 से अधिक वर्षों से फ़िल्म पत्रकारिता और फ़िल्म समीक्षा कर रहे हैं। कार्यक्रम में देश और दुनियाँ के करीब 10 विश्वविद्यालयों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया।

कार्यक्रम में बोलते हुए फिल्म समीक्षक अजय ने कहा कि गांधी ने भले ही अपने जीवन में कभी सिनेमा नहीं देखा और वो सिनेमा को खराब चीज मानते रहें हो लेकिन आज जब भारत में फिल्म निर्माण के सौ से अधिक वर्ष हो चुके हैं वहाँ गांधी और उनके विचार के साथ दर्शन हमें दिखता है।

कई फिल्मों का उदाहरण देते हुए उन्होंने गांधी और विषय की महत्ता को प्रतिभागियों के समक्ष रखा।

अजय ब्रह्मात्मज़ ने बताया कि महात्मा गांधी का हिंदी सिनेमा से गहरा नाता रहा है गांधी का मानना था कि इंसानियत जाति, धर्म, भाषा, नस्ल से ऊपर है उन्होंने समानता का समर्थन किया खास तौर से उन्हें विश्व में सभी के साथ समानता रखने के रूप में ही पहचाना जाता रहा है। आने वाले दिनों में गांधी ओटीटी प्लेटफॉर्म में भी दिखे ऐसी उम्मीद रखने वाले अजय ब्रम्हात्मज ने कार्यक्रम के अंत में बापू को नमन किया।

इस मौके पर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. शैलेंद्र शर्मा ने बापू की पुण्यतिथि पर आयोजित किए गए इस कार्यक्रम की सराहना की और कहा कि यह विभाग जन सरोकार के कार्यों में लगातार जुड़ा हुआ है।

कार्यक्रम का संचालन जनसंचार विभाग के सहायक प्रोफेसर अरुण जैसवाल ने किया।

कार्यक्रम के अंत में जनसंचार एवं पत्रकारिता विभाग के अध्यक्ष डॉ. मनीष जैसल ने गांधी और सिनेमा के वर्तमान हालातों पर प्रकाश डालते हुए अतिथि को धन्यवाद ज्ञापित किया।

कार्यक्रम में सहायक प्रोफेसर सोनाली सिंह, छात्र शादाब चौधरी, कपिल शर्मा, जयेश, आदि उपस्थित रहे।  

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

paulo freire

पाओलो फ्रेयरे ने उत्पीड़ियों की मुक्ति के लिए शिक्षा में बदलाव वकालत की थी

Paulo Freire advocated a change in education for the emancipation of the oppressed. “Paulo Freire: …

Leave a Reply