Home » Latest » कांग्रेस में शामिल हुए कई दलित नेता
Congress Logo

कांग्रेस में शामिल हुए कई दलित नेता

Many Dalit leaders joined Congress

लखनऊ 04 अप्रैल, 2021. कांग्रेस पार्टी की नीतियों में आस्था, काग्रेस अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी जी, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एवं कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी के प्रति विश्वास व्यक्त करते हुए आज यहां प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में जनपद लखनऊ के बसपा के वरिष्ठ नेता एवं इण्डियन सोशल जस्टिस मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष कर्मवीर आजाद, श्री आरएस स्वराज एवं जनपद कानपुर देहात के बसपा के पूर्व जिला सचिव ओम प्रकाश शंखवार ने अपने सैंकड़ों समर्थकों के साथ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के समक्ष कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की।

सदस्यता ग्रहण समारोह में कर्मवीर आजाद के नेतृत्व में इण्डियन सोशल जस्टिस मिशन के पदाधिकारी सर्वश्री मोनू गौतम, शनि कुमार, अभिषेक गौतम, अनिल कुमार, संतोष कुमार, चन्द्रशेखर, राम बहादुर, सर्वजीत सहित सैंकड़ों लोगों ने कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कांग्रेस पार्टी में श्री कर्मवीर आजाद सहित सभी शामिल होने वालों का स्वागत करते हुए कहा कि आज कांग्रेस पार्टी प्रदेश के गरीब, कमजोर, वंचितों की लड़ाई पूरे प्रदेश में लड़ रही है उनके अधिकारों के संरक्षण और बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर द्वारा निर्मित संविधान की रक्षा के लिए सड़क से सदन तक संघर्ष कर रही है।

उन्होंने कहा कि आज आप लोग इतनी बड़ी संख्या में कांग्रेस परिवार में शामिल हो रहे हैं, निश्चित तौर पर कांग्रेस पार्टी अपने संघर्ष में सफल होगी।

इस मौके पर प्रदेश कांग्रेस के कोषाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक सतीश अजमानी, प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी प्रशासन श्री दिनेश सिंह, प्रवक्ता डॉ. उमा शंकर पाण्डेय, शैलेन्द्र तिवारी बबलू पूर्व पार्षद, विक्रम पाण्डेय आदि वरिष्ठ कांग्रेसजन मौजूद रहे।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply