Home » Latest » मौलाना आजाद ने मुल्क में भाईचारा और एकता की एक मिसाल कायम की
Maulana Abul Kalam Azad

मौलाना आजाद ने मुल्क में भाईचारा और एकता की एक मिसाल कायम की

Maulana Azad set an example of brotherhood and unity in the country

लखनऊ, 22 फरवरी 2021. महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, भारत रत्न, पूर्व शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आजाद की पुण्यतिथि आज यहां उप्र कांग्रेस मुख्यालय पर मनायी गयी। कार्यक्रम की शुरूआत मौलाना अबुल कलाम आजाद के चित्र पर माल्यार्पण से हुई।

शहर अल्पसंख्यक कांग्रेस कमेटी द्वारा आयोजित कांग्रेस कार्यकर्ता सम्मेलन में सैकड़ों की तादाद में लोगों ने शिरकत की। कार्यक्रम का संयोजन अनीस अख्तर मोदी और डॉ0 शहजाद आलम ने की।

पुण्यतिथि कार्यक्रम की अध्यक्षता शहर अध्यक्ष श्री अनीस अख्तर मोदी जी ने एवं संचालन जावेद अहमद खान ने किया। कार्यक्रम में मौलाना अबुल कलाम द्वारा देश के लिए दिये गये योगदान के लिए याद किया गया।

वरिष्ठ नेताओं ने मौलाना आजाद के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी, पूर्व सांसद जफर अली नकवी मौजूद रहे।

पुण्यतिथि कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने कहा कि मौलाना अबुल कलाम आजाद जी कभी देश के बंटवारे के पक्ष में नहीं थे। उन्होंने हमेशा मुल्क को एक रहने की वकालत की थी। उन्होंने देश की आजादी और आजादी के बाद देश को संवारने, बनाने के लिए उल्लेखनीय योगदान किया है उसे सदैव याद किया जायेगा।

पूर्व सांसद जफर अली नकवी ने मौलाना अबुल कलाम आजाद जी के दिल्ली की जामा मस्जिद से दिए गए ऐतिहासिक भाषण की याद दिलाते हुए कहा कि मौलाना आजाद ने मुल्क में भाईचारा और एकता की एक मिसाल कायम की है जिसे किसी कीमत पर भुलाया नहीं जा सकता।

इस मौके पर उपस्थित हजारों की संख्या में कांग्रेसजनों को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम ने मौलाना आजाद को याद करते हुए मौलाना अबुल कलाम आजाद की शिक्षा नीति पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए कहा कि मौलाना ने शिक्षा मंत्री रहते हुए आईआईटी, आईआईएम जैसी संस्थाओं की बुनियाद रखकर अपनी दूरदर्शिता का परिचय दिया था। आजादी के बाद जिस प्रकार मौलाना अबुल कलाम ने उच्च शिक्षा और तकनीकी शिक्षा को देश में स्थापित किया वह उनकी शिक्षा के प्रति उनके गहरे जुड़ाव को प्रदर्शित करता है।

पुण्यतिथि कार्यक्रम को मुख्य रूप से पूर्व विधायक एवं प्रदेश कांग्रेस के कोषाध्यक्ष सतीश अजमानी, प्रवक्ता बृजेन्द्र कुमार सिंह, मारूफ खान, तारिक सिद्दीकी, श्रीमती रफत फातमा, अख्तर मलिक, शाहनवाज खान, डॉ शहजाद आलम, श्रीमती श्रेया धीमान, डॉक्टर खलीलुल्लाह, मोहम्मद उमर ने संबोधित करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

lallu handed over 10 lakh rupees to the people of nishad community who were victims of police harassment

पुलिसिया उत्पीड़न के शिकार निषाद समाज के लोगों को लल्लू ने 10 लाख रुपये की सौंपी मदद

कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी का संदेश और आर्थिक मदद लेकर उप्र कांग्रेस कमेटी के …

Leave a Reply