Home » Latest » देश को किसने बनाया मजदूरों ने या हरामखोरों ने ?
may day

देश को किसने बनाया मजदूरों ने या हरामखोरों ने ?

मई दिवस पर विशेष- Special on may day in Hindi

मीडिया में आए दिन हर तरह के पर्व और उत्सव पर कवरेज मिलेगा लेकिन मजदूर दिवस पर मजदूरों के ऊपर, मजदूरों की बस्ती या मजदूरों की समस्याओं पर कवरेज नहीं मिलेगा।

मीडिया को मजदूरों से इतना परहेज और घृणा क्यों है? | Why does the media have so much disdain and hatred of the workers?

सवाल यह है मजदूरों से मीडिया को इतना परहेज और घृणा क्यों है? क्या मजदूरों का इस समाज में कोई योगदान नहीं है ? क्या मजदूर टीवी दर्शक नहीं होते या अखबार के पाठक नहीं होते ?

जो लोग आए दिन हरामखोर नेताओं और देशद्रोही विचारधारा के पक्ष में लिखते रहते हैं और वामनेताओं के खिलाफ घृणा परोसते रहते हैं वे कभी अपने दिल में झांक कर देखें देश को किसने बनाया है मजदूरों ने या हरामखोरों ने ?

फेसबुक मित्र पता करें उनके इलाके के अखबार में मई दिवस का कवरेज है या नहीं, उनके इलाके में दिख रहे टीवी चैनल में मई दिवस का कवरेज है या नहीं ?

मजदूरों को मीडिया में अदृश्य रखने का अर्थ है मजदूर की उपस्थिति और भूमिका को अस्वीकार करना।

मित्रो, मजदूर है और वह करोड़ों की संख्या में है, हर क्षेत्र में उसकी सकारात्मक भूमिका है। मजदूरों के बिना, उनके सकारात्मक सोच के बिना आप आधुनिक समाज का निर्माण ही नहीं कर सकते। भारत के मजदूरवर्ग और उससे जुड़े संगठन देशभक्ति और सामाजिक एकता बनाए रखने में अग्रणी भूमिका निभाते रहे हैं।

मजदूर मुझे क्यों पसंद हैं

मजदूर मुझे इसलिए पसंद हैं कि वे पक्के देशभक्त होते हैं। यहां तक कि संकट की घड़ी में भी वे सबसे ज्यादा उत्पादन करते हैं। देश के लिए उत्पादन करना और देश में ही खर्च करना, देश के हितों को सर्वोच्च प्राथमिकता देना उनकी विशेषता है।

मजदूर किसी के खिलाफ घृणा का प्रचार नहीं करते। वे समाज के वंशानुगत नायक नहीं हैं। वे दलीय शक्ति के आधार पर भी नायक नहीं हैं बल्कि कर्मशीलता के आधार पर समाज के नायक बने हैं। उनको जनता वोट देकर नहीं चुनती, वे अपने कौशल, परिश्रम और कुर्बानी के आधार पर समाज के नायक बने हैं। उन्हें कभी भारत रत्न नहीं मिला। लेकिन आधुनिक भारत की कल्पना मजदूरों के बिना संभव नहीं है।

मजदूर मुझे इसलिए पसंद हैं क्योंकि वे अपनी और पराए की संपत्ति,संपदा और शक्ति का सम्मान करते हैं। वे छोटे-बड़े के भेदभाव से मुक्त होते हैं।

आज मजदूरों का ऐतिहासिक पर्व मई दिवस है।

मजदूरों की संघबद्ध एकता सामाजिक परिवर्तन की धुरी है। मजदूरों को मई दिवस का बेहतरीन तोहफा यही होगा कि हम सब संगठनबद्ध हों। संयुक्त रुप से काम करें।

मजदूर के बिना आप आधुनिक समाज नहीं बना सकते। मजदूर के बिना आप कला-साहित्य-संस्कृति के आदर्श मानकों को जन्म नहीं दे सकते। मजदूर न हों तो श्रेष्ठ कलाएं भी न हों। मजदूर हमारे समाज का सर्जक है। यह ऐसा सर्जक है जो अपने लिए नहीं अन्य के लिए सृजन करता है। अन्य के लिए जीना,अन्य के लिए सोचना, अन्य के लिए प्रतिबद्धता और अन्य के लिए कुर्बानी का जज़्बा इसकी विशेषता है। जिसके अंदर अन्य के प्रति प्रेम है वही मजदूरों की पांत में है।

मई दिवस पर मुझे रामेश्वर करुण की ये पंक्तियां याद आ रही हैं-

1.श्रमकारी भंगी भलो, श्रमबिनु विप्र अछूत।

कब धौं जग मंह फैलिहै, यह मत पावन पूत।।

2.करहिं कठिन श्रम नित्य इक बांधि पेट श्रमकार।

उपभोगहिं इक चैन सो पूँजीपति बेकार।।

जगदीश्वर चतुर्वेदी

Jagadishwar Chaturvedi जगदीश्वर चतुर्वेदी। लेखक कोलकाता विश्वविद्यालय के अवकाशप्राप्त प्रोफेसर व जवाहर लाल नेहरूविश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। वे हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।
Jagadishwar Chaturvedi जगदीश्वर चतुर्वेदी। लेखक कोलकाता विश्वविद्यालय के अवकाशप्राप्त प्रोफेसर व जवाहर लाल नेहरूविश्वविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष हैं। वे हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Mohan Markam State president Chhattisgarh Congress

उर्वरकों के दाम में बढ़ोत्तरी आपदा काल में मोदी सरकार की किसानों से लूट

Increase in the price of fertilizers, Modi government looted from farmers in times of disaster …

Leave a Reply