योगी सरकार में सत्ता संरक्षण में हो रहा है दलित उत्पीड़न, भाजपा सरकार के साथ हैं मायावती : पीएल पुनिया

दलितों के लिए बहन जी के मुंह से एक शब्द नहीं निकलता: खाबरी

मायावती जी भाजपा की अघोषित प्रवक्ता : खाबरी

योगी आदित्यनाथ कान खोलकर सुन लीजिए आपका दमन हमारे सेवा को नहीं रोक सकता : आलोक प्रसाद

Mayawati ji unannounced spokesperson of BJP

लखनऊ, 24 मई 2020। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने कहा है कि प्रदेश में लगातार दलितों के ऊपर हिंसा बढ़ रही है (Violence against Dalits is continuously increasing in Uttar Pradesh)। योगी आदित्यनाथ की सरकार में पिछले दो महीनों में दलितों के ऊपर हो रहीं हिंसा में इज़ाफ़ा हुआ है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता पीएल पुनिया ने कहा कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की दलित विरोधी सरकार में दलित समाज पर राज्य संरक्षण में हमले बढ़े हैं।

उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि अयोध्या में बाल कटवाने गए एक दलित युवक की धार वाले हथियार से गला रेत कर हत्या कर दी गयी।

कन्नौज में भाजपा सासंद सुब्रत पाठक द्वारा तहसीलदार अरविंद कुमार के घर में घुसकर मारपीट की गई, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

रामपुर में एक सफाईकर्मी के साथ 5 लोगों ने मारपीट कर उसके मुंह में सैनिटाइजर का रासायनिक घोल डाल दिया, जिससे वह बेहोश हो गया और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसकी मौत हो गई।

लखीमपुर में गुड़गांव से अपने गांव लौटे दलित युवक को पुलिसकर्मी ने इतना बेरहमी से मारा कि उसने खुदकुशी कर ली।

आजमगढ़ में दबंगों द्वारा दलित मजदूर की हत्या के बाद परिवार को लाश दे आए और फिर धमकाते हुए बोले-कानूनी कार्रवाई करोगे तो आपका भी वहीं हाल होगा जो उसका हुआ।

यूपी के मैनपुरी के ग्राम बीरपुर कलां मे दबंगों द्वारा उदयवीर पुत्र लालाराम के दरवाजे के सामने से समर का पानी फैला रहे थे रोके जाने पर दलितों के परिवार पर जानलेवा हमला कर दिया गया।

मथुरा में थाना छाता के ग्राम बरौली मे दबंगों द्वारा दलित परिवार के साथ मार-पीट व हत्या-प्रयास की घटना घटित करने के बावजूद भी पुलिस दबंगों को संरक्षण देकर उल्टा दलित पीड़ित पे हत्या-प्रयास का केस दर्ज किया है।

यूपी के सिकंदराबाद में दबंगों ने वाल्मीकि समाज के 13 वर्षीय युवक को बेरहमी से बांधकर मारा जिसके कारण अस्पताल में युवक ने दम तोड़ दिया।

हमीरपुर जिला, ब्लॉक सुमेरपुर, देवगांव की रहने वाली दलित समाज की बेटी को घर में घुस का दबंगों ने मारपीट की थी पुलिस कार्यवाही करने को तैयार नहीं थी उल्टा समझौता के लिए दबाव बना रही थी।

हाल ही में कन्नौज में वाल्मिकी समाज की 9वीं कक्षा की छात्रा के साथ दुष्कर्म किया गया और धमकी दी गई, जिससे आहत होकर छात्रा ने आत्महत्या कर ली।

उन्होंने कहा कि लम्बी लिस्ट है और यह सब सरकारी संरक्षण में हो रहा है। हमने लगातार यह सवाल उठाया है और लड़ रहे हैं। लेकिन स्वघोषित दलितों की नेता मायावती जी की चुप्पी क्या साबित करती है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कांग्रेस अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बृजलाल खाबरी ने कहा कि योगी सरकार में दलित समाज पर हमला बढ़ा है लेकिन बहन मायावती जी के मुंह से एक शब्द नहीं निकलता है। प्रदेश में दलितों-वंचितों के खिलाफ हो रहे उत्पीड़न पर मायावती जी क्यों नहीं बोलती हैं?

उन्होंने कहा कि बहन मायावती और दलित विरोधी भाजपा के अंदरखाने समझौता हो गया है और मायावती जी भाजपा की अघोषित प्रवक्ता हैं।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ  चेयरमैन आलोक प्रसाद ने कहा कि पूरे प्रदेश में हम सेवा कर रहे हैं। बाहर से लौट रहे प्रवासी मजदूर भाइयों के लिए कांग्रेस पार्टी 40 जगहों पर स्टॉल्स लगाकर नाश्ता वितरित कर रही है। 22 जिलों में हम रसोईघर चला रहे हैं। 67 लाख लोगों तक हमने मदद पहुंचायी है। उन्होंने कहा कि हमारे प्रदेश अध्यक्ष को जनसेवा करने के कारण जेल में डाल दिया गया है। कई दर्जन नेताओं के ऊपर फ़र्ज़ी मुकदमें दर्ज किए गए हैं। लेकिन योगी आदित्यनाथ कान खोलकर सुन लीजिए आपका दमन हमारे सेवा को नहीं रोक सकता हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations