Home » Latest » मऊ में प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए दिन-रात सड़क पर तैनात सामाजिक कार्यकर्ता
Migrants On The Road

मऊ में प्रवासी मजदूरों की मदद के लिए दिन-रात सड़क पर तैनात सामाजिक कार्यकर्ता

Social workers stationed on the road day and night to help migrant laborers in Mau

मऊनाथ भंजन (उप्र), 22 मई 2020. भारत में तेजी से पांव पसार रहे कोरोना महामारी से बचने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी ने सम्पूर्ण देश मे लॉकडाउन घोषित किया हुआ है.

हमारे भारत देश में 60% आबादी ऐसे तबके की पाई जाती है जो दिहाड़ी मजदूरी करके अपना जीवन यापन करते हैं.

कुछ लोग खुद का कार्य करके अपना और अपने परिवार का जीवन यापन करते हैं तो वहीं कुछ लोग अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए अन्य राज्यो में जाकर मजदूरी करते हैं.

कोरोना महामारी फैलने के बाद देश काफी संकटों का सामना कर रहा है.

महामारी आने के बाद देश में बड़ी-बड़ी कंपनियां बन्द पड़ी हैं. लॉकडाउन की अवधि बढ़ने से रोज कमाकर अपने परिवार का पालन-पोषण करने वाले प्रवासी मजदूरों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। हर वर्ग के लोगों के सामने रोज़ी रोटी का संकट खड़ा हो गया.

रोज़ी-रोटी का संकट देख कर प्रवासी मजदूर अपने-अपने घरों की राह देखने लगे और संसाधन न होने के कारण पैदल ही भूखे प्यासे अपनी मंज़िल की ओर  निकल पड़े.

मऊ के सामाजिक कार्यकर्ता मोहम्मद कासिम अंसारी प्रवासी मज़दूरों के लिए लगातार खाने-पीने की व्यवस्था कर रहे हैं। जिससे प्रवासी मजदूरों को अपनी मंज़िल तक पहुंचने में आसानी हो। पैदल जा रहे प्रवासी मजदूरों को गाड़ी से भी उनके घर तक पहुंचाया जा रहा है।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

दिनकर कपूर Dinkar Kapoor अध्यक्ष, वर्कर्स फ्रंट

सस्ती बिजली देने वाले सरकारी प्रोजेक्ट्स से थर्मल बैकिंग पर वर्कर्स फ्रंट ने जताई नाराजगी

प्रदेश सरकार की ऊर्जा नीति को बताया कारपोरेट हितैषी Workers Front expressed displeasure over thermal …