नफरत फैलाने वाले भाजपा विधायक सुरेश तिवारी के ख़िलाफ़ अल्पसंख्यक कांग्रेस ने दी तहरीर

Minority Congress gave Tahrir against BJP MLA Suresh Tiwari for spreading hate

भाजपा नेतृत्व अपनी स्थिति स्पष्ट करे- शाहनवाज़ आलम

लखनऊ, 29 अप्रैल 2020। कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने बरहज से भाजपा विधायक सुरेश तिवारी के ख़िलाफ़ साम्प्रदायिक नफ़रत फैलाने का मुक़दमा (Case of spreading communal hatred against BJP MLA Suresh Tiwari from Barhaj) दर्ज करने के लिए हुसैनगंज थाने में तहरीर दी है।

उन्होंने भाजपा नेतृत्व से भी इस मसले पर अपनी स्थिति स्पष्ट करने की भी मांग की है।

उत्तर प्रदेश कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम (Shahnawaz Alam, Chairman, State Congress Minority Department)

लखनऊ के हुसैनगंज थाने में दिए गए तहरीर में कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया है कि भाजपा विधायक ने कोरोना से बचने के लिए मुस्लिम सब्ज़ीवालों से ख़रीदारी न करने की बात (Talking about not buying from Muslim vegetable sellers) की थी, जो सोशल मीडिया समेत प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में भी काफी प्रसारित हुआ है। ये बयान न सिर्फ दो समुदायों के बीच नफ़रत को प्रोत्साहित करता है बल्कि एक धर्म विशेष के लोगों के आर्थिक बहिष्कार (Economic boycott of Muslims) के लिए भी उकसाता है जो दंडनीय अपराध है जिससे प्रदेश में क़ानून व्यवस्था के लिए चुनौती उत्पन्न हो सकती है।

शाहनवाज़ आलम ने इस मुद्दे पर शीर्ष भाजपा नेतृत्व से भी अपनी स्थिति स्पष्ट करने को कहा है कि वे अपने विधायक के संविधान विरोधी बयान से सहमत हैं या असहमत।

उन्होंने कहा कि एक तरफ़ प्रधान मंत्री ख़ुद लोगों से कोरोना को सांप्रदायिक नज़रिए से नहीं देखने की अपील कर रहे हैं तो दूसरी तरफ अपने ही विधायक के आपत्तिजनक बयान पर भाजपा कोई कार्यवाई नहीं कर रही है। जिससे पता चलता है कि या तो मोदी जी की बात ख़ुद उनके विधायक गम्भीरता से नहीं लेते या ये सब एक आपराधिक रणनीति से किया जा रहा है जिसके तहत मोदी जी को नसीहत देना है और उनके विधायकों को उसे अनसुना कर समाज में नफ़रत फैलाते रहना है।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations