Home » Latest » राहुल गांधी ही एक मात्र राजनेता जो संघ पर उठाते हैं सवाल, अखिलेश अपने कार्यकर्ताओं के उत्पीड़न पर भी चुप रहते हैं
shahnawaz alam

राहुल गांधी ही एक मात्र राजनेता जो संघ पर उठाते हैं सवाल, अखिलेश अपने कार्यकर्ताओं के उत्पीड़न पर भी चुप रहते हैं

नेहरू-गांधी परिवार हमेशा रहा है संघ का विरोधी

स्पीक अप माइनोरिटी अभियान की दसवीं कड़ी में बोले अल्पसंख्यक कांग्रेस नेता

Minority Congress leader said in the tenth episode of Speak Up Minority Campaign

लखनऊ 22 अगस्त 202. राहुल गांधी एक मात्र राजनेता हैं जो आरएसएस की देश विरोधी विचारधारा पर सवाल उठाते हैं। राजीव गांधी, इंदिरा गांधी और पंडित जवाहर लाल नेहरू भी हमेशा संघ की विचारधारा के विरोधी रहे हैं। इसीलिए भाजपा गांधी-नेहरू परिवार के लोगों से द्वेष रखती है।

अल्पसंख्यक कांग्रेस द्वारा हर रविवार को फेसबुक लाइव के माध्यम से किए जाने वाले स्पीक अप माइनोरिटी अभियान के दसवें संस्करण में अल्पसंख्यक कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं ने ये बातें कहीं।

आज का विषय था क्यों राहुल गांधी को ही निशाना बनाती है मोदी सरकार

अल्पसंख्यक कांग्रेस प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने जारी बयान में कहा कि अल्पसंख्यक, दलित व दूसरे कमज़ोर तबकों पर भाजपा सरकार के हमलों के खिलाफ़ सिर्फ़ राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ही सड़क पर उतर कर लड़ रहे हैं। अखिलेश यादव और मायावती जी अपने कार्यकर्ताओं के उत्पीड़न पर भी चुप रहते हैं।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी हो, जीएसटी हो, किसान आंदोलन हो या कोरोना में सरकार की असंवेनशीलता हो सिर्फ़ राहुल गाँधी जी ही मोदी सरकार से संसद से लेकर सड़क तक लड़ रहे हैं। यही वजह है कि मोदी सरकार उनके मोबाइल की जासूसी करवाती है। आखिर क्या वजह है कि अखिलेश यादव जी की जासूसी करवाने की ज़रूरत मोदी जी को नहीं लगी। ये साबित करता है कि भाजपा कांग्रेस को अपने लिए चुनौती मानती है और सपा नेताओं को अपना दोस्त।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply