Home » Latest » एनसीएचआरओ ने मानवाधिकार आयोग में शोएब खान नामक युवक की भीड़ द्वारा कत्ल के खिलाफ शिकायत दर्ज की
Human rights

एनसीएचआरओ ने मानवाधिकार आयोग में शोएब खान नामक युवक की भीड़ द्वारा कत्ल के खिलाफ शिकायत दर्ज की

NCHRO filed a complaint against the killing of a youth named Shoaib Khan in the State Human Rights Commission, Rajasthan

The NCHRO filed a complaint in Human Rights Commission against the mob lynching of Shoeb Khan in Rajasthan

नई दिल्ली, 05 मार्च 2021. राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन एनसीएचआरओ ने राज्य मानवाधिकार आयोग, राजस्थान में राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले में रहने वाले शोएब खान की भीड़ द्वारा कत्ल के खिलाफ शिकायत दर्ज की।

शोएब खान 19 फरवरी, 2021 को राजस्थान के कड़ी जैतपुर गाँव में एक शादी समारोह में गए थे। समारोह से वह गंगानगर गाँव घूमने चले गए। जब वह लौटे नही, तो लोगों ने उन्हें तलाशना शुरू किया। लोगों ने हर पुलिस स्टेशन में सूचित किया कि शोएब खान लापता हैं। अगली सुबह, 20 फरवरी को, 3 बजे, शोएब खान गंभीर रूप से घायल पाए गए।

शोएब ने बताया कि लगभग 8-10 लोगों ने उसे बेरहमी से पीटा जब उसने उन्हें बताया कि उसका नाम शोएब खान है। गंभीर चोटों के कारण, जिस अस्पताल में वह भर्ती थे, वहीं उनकी मौत जो गई। मामला स्पष्ट रूप से भीड़ द्वारा धार्मिक घृणा से प्रेरित है।

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में मामले की शिकायत एनसीएचआरओ के राजस्थान चैप्टर के महासचिव शब्बीर आजाद द्वारा 1 मार्च, 2021 को दर्ज की गई।

यह जानकारी देते हुए एनसीएचआरओ दिल्ली चैप्टर समन्वयक इशु ने बताया कि हमने शिकायत के साथ शोएब के शरीर पर चोटों के चित्र भी प्रस्तुत किए हैं, और राज्य मानवाधिकार आयोग से मामले की कार्यवाही के लिए आग्रह किया है।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply