Home » Latest » क्या होते हैं मोबिलिटी एड्स?
Health News

क्या होते हैं मोबिलिटी एड्स?

गतिशीलता सहायक या मोबिलिटी एड्स, इसे एम्बुलेशन डिवाइस भी कहा जाता है

Mobility Aids in Hindi Also called: Ambulation devices

यदि आप विकलांग हैं या चोट लगी है तो मोबिलिटी एड्स आपको चलने-फिरने या एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में मदद करते हैं। इनमें शामिल होते हैं

बैसाखियां (Crutches)

केन (Canes)

वॉकर (Walkers)

व्हीलचेयर (Wheelchairs)

मोटर चालित स्कूटर (Motorized scooters)

यदि आपको गिरने का खतरा हो तो आपको वॉकर या बेंत की आवश्यकता हो सकती है। यदि आपको अपने शरीर का वजन अपने पैर, टखने या घुटने से दूर रखने की आवश्यकता है, तो आपको बैसाखी की आवश्यकता हो सकती है। चोट या बीमारी के कारण आपको चलने में असमर्थ होने पर आपको व्हीलचेयर या स्कूटर की आवश्यकता हो सकती है।

मोबिलिटी एड्स का चुनाव करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ?

इन उपकरणों को चुनने में समय और शोध लगता है। आपको बैसाखी, कैन और वॉकर के लिए फिट होना चाहिए। यदि वे फिट होते हैं, तो ये उपकरण आपको समर्थन देते हैं, लेकिन यदि वे फिट नहीं होते हैं, तो वे असहज और असुरक्षित हो सकते हैं।

गतिशीलता एड्स/ मोबिलिटी एड्स एक व्यक्ति की स्थानांतरित करने की क्षमता में कई बदलावों के साथ मदद कर सकता है। एक वॉकर स्थिरता के साथ मदद कर सकता है यदि किसी व्यक्ति को गिरने का खतरा है और बैसाखी एक घायल अंग से वजन कम रखती है। सही सहायता की पहचान के लिए शोध विकल्प महत्वपूर्ण हैं।

क्या यह ख़बर आपको पसंद आई ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

नोट – यह समाचार किसी भी हालत में चिकित्सकीय परामर्श नहीं है। यह समाचारों में उपलब्ध सामग्री के अध्ययन के आधार पर जागरूकता के उद्देश्य से तैयार की गई अव्यावसायिक रिपोर्ट मात्र है। आप इस समाचार के आधार पर कोई निर्णय कतई नहीं ले सकते। स्वयं डॉक्टर न बनें किसी योग्य चिकित्सक से सलाह लें।) 

(जानकारी का स्रोत – medlineplus)

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply