जो भारत छोड़ो आंदोलन के विरोधी थे, वही भारत जोड़ो यात्रा के भी विरोधी – शाहनवाज़ आलम

जो भारत छोड़ो आंदोलन के विरोधी थे, वही भारत जोड़ो यात्रा के भी विरोधी – शाहनवाज़ आलम

मोदी जी मीडिया का ध्यान अपनी तरफ खींचने के लिए जानवर का खेल दिखा रहे हैं

स्पीक अप #63 में बोले कांग्रेस नेता

दहशत में हैं भारत तोड़ने वाली शक्तियाँ

हरिपाद, अलप्पुझा, केरल. 18 सितम्बर 2022. भारत जोड़ो यात्रा से भारत को तोड़ने वाली शक्तियाँ दहशत में हैं. भारत जोड़ो यात्रा का विरोध करने वाले वही हैं जो 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के भी विरोधी थे. यह यात्रा एक नए भारत का निर्माण करेगी, जो ज़्यादा समावेशी और ज़्यादा सशक्त होगा. इस नए भारत के निर्माण का श्रेय राहुल गाँधी को जाएगा.

ये बातें अल्पसंख्यक कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष शाहनवाज़ आलम ने स्पीक अप कार्यक्रम की 63 वीं कड़ी में कहीं.

शाहनवाज़ आलम ने कहा कि यात्रा को मिल रहे ज़बरदस्त समर्थन से साफ है कि लोग मिलजुल कर रहना चाहते हैं. उन्हें रोजगार और समावेशी विकास चाहिए जो सिर्फ़ कांग्रेस दे सकती है. इस यात्रा से देश अपने वास्तविक मुद्दों पर बात करने लगा है जिससे भाजपा अंदर तक डर गयी है और इसीलिए लोगों का ध्यान खींचने के लिए मोदी जी सर्कस के कलाकार की तरह जंगली जानवरों का खेल दिखा रहे हैं.

भारत जोड़ो यात्रा में चल रहे शाहनवाज़ आलम ने कहा कि यात्रा के दौरान राहुल गाँधी जी के मानवीय गुणों का हर व्यक्ति कायल होता जा रहा है. बूढ़े, जवान और बच्चे जिस उत्साह से यात्रा का स्वागत कर रहे हैं वो गाँधी- नेहरू परिवार की जड़ों के भारतीय मानस में बहुत गहराई तक धसे होने का प्रमाण है. जो लोग गाँधी नेहरू परिवार मुक्त राजनीति करने का सपना देखते हैं उनका इस यात्रा से डरना स्वाभाविक है.

जो काम सरकार ख़ुद नहीं कर सकती उसे न्यायपालिका से करवा रही है : शाहनवाज़ आलम hastakshep

Modi ji is playing animal game to attract media attention

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner